फैक्ट चेक / झूठा है व्हाट्सएप पर शेयर हो रहा भारत के मुसलमानों को उकसाने वाला मैसेज, ऑपरेटर्स ने कहा- नंबर अवैध हैं

Fake Whatsapp message| Fake caa message| fake bank detail message| no fake news
X
Fake Whatsapp message| Fake caa message| fake bank detail message| no fake news

दैनिक भास्कर

Jan 24, 2020, 04:43 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. भारत में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। सुप्रीम कोर्ट आगामी 22 जनवरी को सीएए से संबंधित याचिका पर सुनवाई करेगी। यह याचिका कांग्रेस, सीपीआई समेत कई राजनीतिक पार्टियों द्वारा दायर की गई है। ऐसे में सोशल मीडिया पर जमित उलेमा ए हिंद के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी की तरफ से कथित चेतावनी भरा मैसेज वायरल हो रहा है। पाठक की ओर से प्राप्त इस खबर की पड़ताल जब भास्कर ने की तो दावा फर्जी निकला।

मदनी के नाम से वायरल हो रही है यह पोस्ट
'22 तारीख तक आपके फोन में कोई भी मिस कॉल आये अनजान नम्बर से,,तो दुबारा रिटर्न फोन न करो
तमाम मुसलमानो से मौलाना अरशद मदनी की तरफ से एक अपील गौर से सुने और पूरे हिन्दुस्तान मे फैला दे । 22 तारीख के दिन caa पर सुप्रिन कोर्ट में फैसला है इसलिए bjp,,समर्थन के लिए शबूत इकट्ठा कर रही है  जिन जिन मुसलमान भाइयों का नंबर आपके पास व्हाट्सएप का मौजूद हो उनको यह मैसेज जरूर फॉरवर्ड कर दीजिए कृपया ध्यान दें  अगर आप को कोई इन नंबरो से काॅल करे या इन नंबरो पर मिस काॅल करने को कहे तो बिलकुल ना करे अन्यथा आप अपनी सब बैंक राशि खो देंगे NRC मैं शामिल हो जाएंगे
8866288662✖
7766277742✖
7272569933✖
9977885467 ✖
इस मॅसेज को अपने सभी मित्रों एवम रिशतेदारों के साथ साझा करे'

एक नंबर का कनेक्शन अमित शाह के साथ

वायरल मैसेज में जारी किए गए एक नंबर 8866288662 के तार गृहमंत्री अमित शाह से जुड़े हैं। शाह ने यह नंबर सीएए के समर्थन हेतु सदन में पेश किया था। शाह ने कहा था कि अगर आप कानून को अपना समर्थन देना चाहते हैं तो इस नंबर पर मिस्ड कॉल दें। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस नंबर पर 60 लाख से ज्यादा कॉल किए गए।

बाकी तीन नंबरों की पड़ताल

7766277742 और 7272569933 पर जब हमने संपर्क करने की कोशिश की तो नेटवर्क ऑपरेटर्स ने इन नंबरों को अवैध बताया। 9977885467 पर कॉल किया गया तो किसी ने भी जवाब नहीं दिया। इस पड़ताल से स्पष्ट होता है कि सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा ये मैसेज भ्रामक और निराधार है। 

बिना निजी जानकारी के नहीं निकाली जा सकती राशि
मैसेज में दावा किया जा रहा है कि अगर आप जारी नंबरों पर कॉल करने की कोशिश करेंगे तो आप रकम खो सकते हैं। जानकारी के लिए बता दें की बैंक और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया जैसी आर्थिक संस्थाओं ने यह पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी अनजान कॉल या संदेश पर अपनी निजी जानकारी साझा ना करें। अगर आप किसी को भी कार्ड नंबर, सीवीवी, ओटीपी जैसी जानकारी उपलब्ध कराते हैं, तो बैंक खाते से राशि निकाली जा सकती है। 

कौन हैं मौलाना अरशद मदनी
मौलाना अरशद मदनी इस्लामिक स्कॉलर्स के संगठन जमियत उलेमा ए हिंद के प्रेसिडेंट हैं। संगठन की शुरुआत साल 1919 में हुई थी और इसके सदस्यों की संख्या 10 लाख से ज्यादा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना