पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • No fake news
  • French Nobel Laureate Luc Montagnier Claims, People Who Have Been Vaccinated Are Sure To Die In The Next Two Years? Know Its Truth

फेक न्यूज एक्सपोज:फ्रांसीसी नोबेल पुरस्कार विजेता लुक मोन्टाग्नियर का दावा- वैक्सीन लगवा चुके लोगों का अगले दो सालों में मरना तय? पढ़िए इस फेक दावे की सच्चाई

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर नोबेल पुरस्कार विजेता फ्रांसीसी प्रोफेसर लुक मोन्टाग्नियर के नाम से एक पोस्ट वायरल हो रही है। पोस्ट में लिखा है, लुक मोन्टाग्नियर ने दावा किया है कि सभी कोरोना वैक्सीन लगवा चुके लोगों का अगले दो सालों में मरना तय है। उन लोगों के लिए कोई आशा कि किरण या उपचार नही हैं, जिन्होंने कोविड वैक्सीन लगवा ली है। ऐसे लोगों की लाशों को जलाने के लिए हमें तैयार रहना चाहिए।

और सच क्या है?

  • वायरल पोस्ट की सच्चाई जानने के लिए हमने इससे जुड़े की-वर्ड्स गूगल पर सर्च किए। सर्च रिजल्ट में हमें रायर फाउंडेशन USA की वेबसाइट पर लुक मोन्टाग्नियर का इंटरव्यू मिला।
  • इंटरव्यू में मोन्टाग्नियर ने कोरोना वायरस के वैक्सीन प्रोग्राम को 'अस्वीकार्य गलती' बताया। उन्होंने कहा, बड़े पैमाने पर टीकाकरण एक 'वैज्ञानिक त्रुटि के साथ-साथ एक चिकित्सा त्रुटि' है। यह एक अस्वीकार्य गलती है। कोरोना वैक्सीन से ही नए वैरिएंट बन रहे हैं।
  • इस इंटरव्यू में मोन्टाग्नियर ने कहीं भी ये नहीं कहा कि कोरोना वैक्सीन लगवा चुके लोगों का दो सालों में मरना तय है। उनका कहना है कि कोरोना वैक्सीन से ही नए वैरिएंट बन रहे हैं।
  • पड़ताल के अगले चरण में हमने लुक मोन्टाग्नियर के वैक्सीन से वैरिएंट बनने के दावे का फैक्ट चेक किया। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट कैसे बनते हैं? इसका प्रभाव कैसे पड़ता है? इससे जुड़ी सभी जानकारी हमें WHO की वेबसाइट पर मिली।
  • WHO की​ वेबसाइट पर मौजूद कोरोना वायरस के वैरिएंट से जुड़ी पूरी जानकारी में कहीं भी ऐसा नहीं लिखा है कि कोरोना वैक्सीन से नए वैरिएंट बनते हैं।
  • पड़ताल के दौरान हमें भारत सरकार की प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो के सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट मिला, जिसमें उन्होंने वायरल पोस्ट का खंडन करते हुए उसे फेक बताया है।
  • पोस्ट में लिखा है, सोशल मीडिया पर कोरोना वैक्सीन पर एक फ्रांसीसी नोबेल पुरस्कार विजेता की फोटो मैसेज के साथ वायरल हो रही है। फोटो के साथ किया जा रहा दावा फेक है। कोरोना वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है, इस इमेज को फॉरवर्ड न करें।
  • साफ है कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रही पोस्ट फेक है। पोस्ट में लुक मोन्टाग्नियर के नाम से किया जा रहा दावा गलत है, साथ ही लुक मोन्टाग्नियर का वैक्सीन से नए वैरिएंट बनने का दावा भी गलत है।