• Hindi News
  • No fake news
  • Gautam Gambhir's video goes viral with the wrong narrator, in the actual video he did mention his work

फैक्ट चेक / गौतम गंभीर का वीडियो गलत नैरेटिव के साथ वायरल, वास्तविक वीडियो में उन्होंने किया था अपने द्वारा किए गए कामों का जिक्र

Gautam Gambhir's video goes viral with the wrong narrator, in the actual video he did mention his work
X
Gautam Gambhir's video goes viral with the wrong narrator, in the actual video he did mention his work

  • क्या वायरल : पूर्व क्रिकेट और बीजेपी सांसद गौतम गंभीर का वीडियो वायरल हो रहा है। 8 सेकंड की वीडियो क्लिप को यह कहकर वायरल किया जा रहा है कि गौतम के लिए पॉल्युशन पर बैठक से जरूरी, क्रिकेट कॉमेंट्री करना है
  • क्या सच : 90 सेकंड का वास्तविक वीडियो सुनकर यह समझा जा सकता है कि गंभीर के वीडियो को गलत नैरेटिव के साथ वायरल किया जा रहा है। उन्होंने कहीं ये नहीं कहा कि मेरे लिए व्यक्तिगत काम ज्यादा जरूरी हैं

दैनिक भास्कर

Nov 22, 2019, 01:23 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. दिल्ली में प्रदूषण की समस्या को लेकर होने वाली बैठक में शामिल न होने के कारण बीजेपी सांसद गौतम गंभीर पिछले कई दिनों से ट्रोल हो रहे हैं। आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने उनका 8 सेकंड का एक वीडियो शेयर किया है। जिसमें वे कहते हुए नजर आ रहे हैं कि 'बैठक जरूरी है या मेरा काम जरूरी है'। आम आदमी पार्टी इसे ये कहते हुए वायरल कर रही है कि गंभीर के लिए पॉल्युशन पर बैठक से ज्यादा जरूरी क्रिकेट कॉमेंट्री है। एक पाठक ने हमें यह वीडियो पुष्टि के लिए भेजा। पड़ताल में पता चला कि 8 सेकंड का यह वीडियो लोगों को गुमराह करने के लिए वायरल किया जा रहा है, इसमें पूरी सच्चाई नहीं बताई गई। 

क्या वायरल

  • आप की एक कार्यकर्ता आरती चड्‌डा ने वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा कि 'अगली बार सेलेब्स को वोट देने से पहले दो बार सोचें'

  • आप के नेशनल मीडिया कोर्डिनेटर विकास योगी ने इसे शेयर करते हुए लिखा है कि 'जलेबी या बैठक'

  • बता दें कि दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण की रोकथाम को लेकर संसद की स्टैंडिंग कमेट, शहरी विकास मंत्रालय ने 15 नवंबर को बैठक आयोजित करने का निर्णय लिया था। इसे आगे बढ़ा दिया गया था क्योंकि इसमें दिल्ली विकास प्राधिकरण के वाइस चेयरपर्सन, निगम के तीन जोन के कमिशनर और कुछ सांसद शामिल नहीं हो पाए थे।
  • बैठक वाले दिन बीजेपी सांसद और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर इंदौर में थे। पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने एक फोटो ट्वीट की थी, जिसमें वो गंभीर और जतिन सप्रू जलेबी का आंनद लेते नजर आ रहे थे। बस इसी फोटो के सामने आने के बाद गंभीर को ट्रोल किया जाने लगा था। दिल्ली में आप कार्यकर्ताओं द्वारा उनके जलेबी वाले पोस्टर भी चस्पा किए गए थे।

क्या है सच्चाई

  • सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल किया जा रहा है, वो महज 8 सेकंड का है, जबकि वास्तविक वीडियो 90 सेकंड का है। यह वीडियो 18 नवंबर का है, एएनआई के सवाल पर गंभीर ने अपनी बात रखी थी। 
  • वायरल वीडियो में गंभीर द्वारा कहे गए 'मेरे काम' शब्द को उनके व्यक्तिगत काम की तरह बताकर प्रचारित किया जा रहा है। सोशल मीडिया में वीडियो इस नैरेटिव के साथ वायरल किया जा रहा है कि गंभीर ने ऐसा कहा कि उनके लिए सांसद की कामों से ज्यादा उनके व्यक्तिगत काम और बिजनेस जरूरी हैं। 

  • जबकि वास्तविक वीडियो में गंभीर कहते हैं कि मेरे जलेबी खाने से दिल्ली का पॉल्युशन बढ़ेगा? ऐसा होता है तो मैं हमेशा के लिए जलेबी छोड़ सकता हूं। जितना काम मैंने पांच महीने में पॉल्युशन के लिए किया है, वह देखें। उन्होंने ये भी कहा कि मैंने 11 नवंबर को ही ईमेल के जरिए पार्लियामेंट की स्टैंडिंग कमेटी को सूचित किया था कि संविदात्मक (कॉन्ट्रेक्चुअल) दायित्वों के चलते मैं 15 नवंबर को होने वाली मीटिंग में शामिल नहीं हो सकूंगा। ऐसा नहीं है कि 15 की मीटिंग के लिए मैंने उन्हें 13 को सूचना दी हो। इसके बावजूद मुझे ट्रोल किया जा रहा है। इतना काम यदि आप पार्टी पॉल्युशन दूर करने के लिए करती तो आज हम अच्छे से सांस ले रहे होते। 

निष्कर्ष : पड़ताल से स्पष्ट होता है कि सोशल मीडिया में गंभीर का पूरा वीडियो नहीं दिखाया जा रहा। सिर्फ 8 सेकंड का वीडियो वायरल किया जा रहा है, जिससे व्यूअर्स पूरी बात नहीं समझ पा रहे। वीडियो को सुनने के बाद स्पष्ट होता है कि गंभीर अपने व्यक्तिगत काम की बात नहीं कर रहे थे बल्कि सांसद के तौर पर किए हुए काम का जिक्र कर रहे थे। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना