फैक्ट चेक / यूपी में बुर्का पहनकर वोट डालने पहुंची थीं हिंदू महिलाएं, लखनऊ सीएए प्रोटेस्ट के नाम से वायरल हो रहा वीडियो फर्जी

CAA protest| Lucknow protest| anti caa protest| Hindu women wearing burqa
X
CAA protest| Lucknow protest| anti caa protest| Hindu women wearing burqa

  • क्या वायरल: लखनऊ सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में पहुंची हिंदू महिलाओं ने बुर्का पहनकर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए
  • क्या सच: उत्तर प्रदेश के स्थानीय चुनाव में बुर्का पहनकर वोट डालने पहुंचीं थी महिलाएं, साल 2017 का है मामला

Dainik Bhaskar

Jan 31, 2020, 10:53 AM IST

फैक्ट चेक डेस्क. नागरिकता संशोधन कानून के विरोध और समर्थन का दौर देश भर में जारी है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित घंटाघर में भी महिलाओं ने पहुंचकर कानून का विरोध किया। ऐसे में सोशल मीडिया पर कथित पाक समर्थक बुर्का पहने हुए दो महिलाओं का वीडियो वायरल हो रहा है। दैनिक भास्कर ने जब मामले की पड़ताल की तो खबर गलत निकली।

विरोध प्रदर्शन में लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे
वायरल हो रहे वीडियो में दावा किया जा रहा है कि, लखनऊ में जारी सीएए के विरोध प्रदर्शन में हिंदू महिलाएं बुर्का पहनकर पहुंच गईं। साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि ये दोनों महिलाएंल पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे भी लगा रही थीं। मैसेज के अनुसार 'एक नाम पूजा है ,दूसरी का मानसी,
आरोप है कि यह दोनो  बुर्क़ा पहन कर लखनऊ मे घंटा घर के पास CAA, NRC और NPR के विरुद्ध धरने पर बैठी महिलाओं की भीड़ मे पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगा रही थीं।बहुसंख्यकों को मूर्ख बनाने के लिए मुसलमानो को बदनाम करना ठीक नहीं'

वहीं एक और मैसेज में कहा जा रहा है कि, 'लखनऊ घण्टाघर पर NRC,NPR,CAA का विरोध चल रहा है।
इसी बीच बुर्के में आईं कुछ महिलाएं पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने लगीं। धरने में मौजूद अन्य महिलाओं ने उनको पुलिस के हवाले किया। अपना नाम मालती और रूपा बताया। आरोप है ये महिलाएं किसी के कहने पर आईं थीं। वीडियो वायरल।'

क्या है सच्चाई
दैनिक भास्कर ने जब मामले की पड़ताल की तो खबर गलत निकली। हमने कीवर्ड्स के जरिए वीडियो होस्टिंग प्लेटफॉर्म यूट्यूब पर खोज की तो साल 2017 में अपलोड एक वीडियो मिला। जबकि घंटाघर में सीएए को लेकर विरोध 2020 हुआ। 

यूट्यूब पर वीडियो के टाइटल की मदद से जब हमने संबंधित कीवर्ड्स के जरिए गूगल सर्च किया तो मामला उत्तर प्रदेश का निकला। कई न्यूज पोर्ट्ल्स ने यह खबर प्रकाशित की थी। ये दोनों महिलाएं हिंदू हैं और बुर्का पहनकर स्थानीय चुनाव में फर्जी वोट डालने पहुंची थीं। 

निष्कर्ष: यह वीडियो लखनऊ के घंटाघर पर जारी विरोध प्रदर्शन का नहीं है। वायरल हो रहा बुर्का पहने हुए दो महिलाओं का वीडियो फर्जी है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना