• Hindi News
  • No fake news
  • Hyderabad Police Encounter | Hyderabad Rape Murder Accused Are Not Minors Social Media No Fake News झूठी है हैदराबाद दुष्कर्म को अंजाम देने वाले आरोपियों के नाबालिग होने की बात, नाम बदलने का दावा भी गलत

फैक्ट चेक / झूठी है हैदराबाद दुष्कर्म को अंजाम देने वाले आरोपियों के नाबालिग होने की बात, नाम बदलने का दावा भी गलत

Hyderabad Police Encounter | Hyderabad Rape Murder Accused Are Not Minors Social Media No Fake News झूठी है हैदराबाद दुष्कर्म को अंजाम देने वाले आरोपियों के नाबालिग होने की बात, नाम बदलने का दावा भी गलत
X
Hyderabad Police Encounter | Hyderabad Rape Murder Accused Are Not Minors Social Media No Fake News झूठी है हैदराबाद दुष्कर्म को अंजाम देने वाले आरोपियों के नाबालिग होने की बात, नाम बदलने का दावा भी गलत

  • क्या वायरल : सोशल मीडिया में दावा किया जा रहा है कि, हैदराबाद दुष्कर्म को अंजाम देने वाले चार में से तीन आरोपी नाबालिग थे। इसी कारण पुलिस ने इनका वास्तविक नहीं बल्कि काल्पनिक नाम सार्वजनिक किया
  • क्या सच : चारों ही आरोपी बालिग हैं। साइबराबाद पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से इस अफवाह को खारिज किया है

Dainik Bhaskar

Dec 06, 2019, 03:47 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. तेलंगाना दुष्कर्म के चारों आरोपियों का पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया है। पिछले कई तरह दिनों से सोशल मीडिया पर तेलंगाना दुष्कर्म को लेकर तरह-तरह की खबरें वायरल की जा रही हैं। ऐसे ही एक वायरल पोस्ट में दावा किया गया है कि हैदराबाद रेप के सभी आरोपी मुस्लिम थे और पुलिस ने उनका नाम बदलना स्वीकार्य किया है। दैनिक भास्कर मोबाइल ऐप के एक पाठक ने हमें यह वायरल पोस्ट सत्यता की जांच के लिए भेजी। पड़ताल में सोशल मीडिया का दावा गलत निकला। 

क्या वायरल

  • बहुत से यूजर्स द यूथ द्वारा प्रकाशित किए गए एक आर्टिकल को शेयर कर रहे हैं। इसमें यति नरसिंहानंद सरस्वती के हवाले से दावा किया गया है कि, हैदराबाद रेप के सभी आरोपी मुस्लिम थे, पुलिस ने इनका नाम बदला है। 
  • कई यूजर्स ने इस बारे में ट्वीट किया है। 
  • यति नरसिंहानन्द सरस्वती ने ट्वीटर पर भी वीडियो शेयर कहा कि, आरोपियों के नाम बदले गए। वीडियो में नरसिंहानन्द ने कहा कि, चार में से तीन आरोपी नाबालिग हैं इसलिए इनके नाम सार्वजनिक नहीं किए जा सकते। ये चारों मुसलमान हैं। एक ही मजहब के लोग हैं। पुलिस ने इनके काल्पनिक नाम हिंदू दे दिए हैं। 

क्या है सच्चाई

  • साइबराबाद पुलिस द्वारा जारी किए प्रेस नोटिस को देखकर पता चलता है कि सोशल मीडिया में किया जा रहा दावा गलत है। 
  • इसमें चारों आरोपियो के नाम और उम्र बताई गई है। चारों में कोई भी नाबालिग नहीं है। इसलिए नाम छुपाने या बदलने की बात गलत साबित हो जाती है। 
  • घटना के बाद पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी चारों आरोपियों के नाम और उम्र बताई थी। इसमें मो.आरिफ उम्र 26 साल, जोलू नवीन उम्र 20 साल, जोलू शिवा उम्र 20 साल और चिंताकुंटा उम्र 20 साल  शामिल थे। 
  • साइबराबाद पुलिस के आधिकारिक ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट कर भी इस वायरल अफवाह को झूठा बताया गया है। 
  • पड़ताल से स्पष्ट सोशल मीडिया का दावा झूठा है। 
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना