फैक्ट चेक / फर्जी है कैडबरी प्रोडक्ट्स में संक्रमित खून मिलने की खबर, धमाके के आरोप में गिरफ्तार हुआ था युवक

Cadbury fake news| infected blood in chocolate| fake news
X
Cadbury fake news| infected blood in chocolate| fake news

दैनिक भास्कर

Feb 05, 2020, 12:21 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. चॉकलेट प्रोडक्ट्स बनाने वाली कंपनी कैडबरी के नाम से सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है। वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि एक कर्मचारी ने अपना एचआईवी संक्रमित खून प्रोडक्ट में मिला दिया है। दैनिक भास्कर के एक पाठक ने यह मैसेज सत्यता जांचने के लिए भेजा।

सावधान- कुछ दिनों तक ना खाएं कैडबरी प्रोडक्ट
वायरल हो रही पोस्ट में एक शख्स की तस्वीर है, जिसे अंतरराष्ट्रीय पुलिस संगठन इंटरपोल ने गिरफ्तार किया है। कहा जा रहा है कि यह कैडबरी कंपनी का कर्मचारी है, जिसने एचाआईवी एड्स संक्रमित खून को प्रोडक्ट में मिला दिया है। 

क्या है सच्चाई
दैनिक भास्कर ने जब मामले की पड़ताल की तो खबर गलत निकली। कीवर्ड्स के माध्यम से हम असली खबर तक पहुंचे। दरअसल वायरल हो रही तस्वीर नाइजीरिया की है जहां साल 2014 जुलाई में एक शख्स अमीनु सादिक ओगवूश को बम धमाके के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। 

बीबीसी  और इंडिपेंडेंट ने यह खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी। युवक को बम धमाके में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। द गार्जियन के मुताबिक हमलें में करीब 105 लोगों की मौत हुई थी। न्यूज वेबसाइट न्यूज घाना और मॉडर्न घाना के मुताबिक यह तस्वीर उस वक्त की है जब सुडान अथॉरिटी ने आरोपी को नाईजीरिया पुलिस की इंटरपोल यूनिट के हवाले किया था।

कंपनी ने कहा- झूठी है खबर

जब हमने कंपनी से वायरल फोटो के संबंध में बात की तो उन्होंने इस तरह की किसी भी खबर को अफवाह बताया। कंपनी के प्रवक्ता के अनुसार, 'सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रही है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि कैडबरी प्रोडक्ट में एक शख्स ने संक्रमित खून मिला दिया है। यह खबर गलत है। उन्होंने अपने उपभोक्ताओं से अपील की है कि मोंडलेज इंडिया (पहले कैडबरी इंडिया लिमिटेड) से जुड़ी किसी भी बात को शेयर करने से पहले कंपनी से वैरिफाइ करें।'

निष्कर्ष: कैडबरी प्रोडक्ट्स में संक्रमित खून मिले होने की खबर गलत है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना