फैक्ट चेक / एसबीआई के शुल्कों से जुड़ा 2017 का फर्जी मैसेज फिर वायरल, बैंक 1 अक्टूबर से नए नियम कर चुका लागू



No Fake News About SBI Cash Withdrawal Limit
X
No Fake News About SBI Cash Withdrawal Limit

  • क्या वायरल : ATM से 4 बार से अधिक पैसा निकलने पर 150 रु टैक्स और 23 रुपए सर्विस चार्ज मिलाकर कुल 173 कटेंगे। अगर बचत खाते में वर्ष में 40 व्यवहार (जमा/निकासी) से अधिक है तो 41 वे व्यवहार से हर बार 57.50 आप की जमा राशी से काट ली जाएगी
  • क्या सच : एसबीआई के एजीएम ने बताया कि वायरल मैसेज में दी गई जानकारी फर्जी है। 173 रुपए शुल्क वसूलने वाली बात झूठी

Dainik Bhaskar

Oct 02, 2019, 04:03 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है। इसमें लिखा जा रहा है कि एसबीआई और आरबीआई ने मोदी सरकार के साथ मिलकर बड़े आयोजन के साथ लूट शुरू कर दी है। वायरल मैसेज में ट्रांजैक्शन पर लगने वाले शुल्कों के बारे में बताया गया है। एक पाठक ने हमें यह मैसेज सत्यता की जांच के लिए भेजा। पड़ताल में पता चला कि सोशल मीडिया में जो शुल्क बताए गए हैं, वो गलत हैं। एसबीआई ने 1 अक्टूबर 2019 से नए नियम लागू कर दिए हैं। इसके बाद एटीएम से पैसा निकालने से लेकर बैंक शाखा तक से विदड्रॉल के नियम में फेरबदल कर दिया गया है। वायरल मैसेज के साथ ही जानिए बैंक के सही नियम।

 

क्या वायरल
फेसबुक, ट्विटर और वॉट्सऐप पर 2017 से ही यह मैसेज वायरल हो रहा है। इसमें लिखा है कि 'SBI ने RBI और मोदी सरकार के साथ मिलकर बड़े आयोजन के साथ लूट शुरू कर दी है। अगर आपके बचत खाते में वर्ष में 40 व्यवहार (जमा/निकासी) से अधिक है तो 41 वे व्यवहार से हर बार 57.50 आप की जमा राशी से काट ली जाएगी।
ये व्यवहार चेक से हो,स्थायी सूचना से हो या कार्ड से बस 40 हो गए तो लूट चालू। अब सेलेरी के 12 और महीने में दो बार भी उठाया 36 तो हो गए, अब किसी को चैक से 12 पेमेंट भी किये तो आपके खाते से 460 तो गए ही समझो। अगर आपके बच्चे बाहर पढाई कर रहे हैं, माँ बाप को हर महीने भेजना है, इनवेस्टमेन्ट करना है, डोनेशन देना है, किसी की मदद करनी है, तो इन लुटेरों का हिस्सा भी देना होगा। 
वाह रे मोदी सरकार!!! पहले सर्विस टैक्स से लूटा अब बैन्क के माध्यम से पगार की आय वालों को लूटेंगे। इससे तो जनता को ये संदेश जा रहा है कि रोकड बैंक में जमा ना करें। अपना व्यवहार खुद ही निपटा लें। SBI की ये लूट सरकार को भी ले डूबेगी। माल्या जैसे भगौडे के लोन मे डूबी रकम हम लोगों से भरपाई करने की योजना — इस देश की जनताको क्या समझ के रखा है?

ATM से 4 बार से अधिक पैसा निकलने पर 150 रु टैक्स और 23 रुपए सर्विस चार्ज मिलाकर कुल 173 कटेंगे .. जो नोटबन्दी के समर्थन में लम्बी लम्बी हाँक रहे थे उन बेवकूफों को एक और तोहफा। जनता के गले पर एक बार में छुरा क्यों नहीं फेर देते?? कमाओ तो टैक्स , बचाओ तो टैक्स और तो और, बैंक में जमा कराओ तो टैक्स, फिर वापस निकालो तो टैक्स !'

 

सोशल मीडिया में वायरल पोस्ट।
  • यह मैसेज 2017 में भी वायरल हो चुका है।

क्या है सच्चाई

  • एसबीआई के एजीएम श्री ग्रोवर ने बताया कि वायरल मैसेज में बताए गए शुल्क गलत हैं। एसबीआई 1 अक्टूबर से सेवा शुल्कों को संशोधित कर चुका है। बैंक ने शाखाओं को तीन श्रेणियों मेट्रो (महानगर), सेमी अर्बन (अर्धशहरी) और रूरल (ग्रामीण) में वर्गीकृत किया है। 
  • अब मेट्रो और शहरी क्षेत्रों के ग्राहकों को 3 हजार रुपए औसत मासिक बैलेंस रखना जरूरी है। वहीं अर्धशहरी में यह लिमिट 2 हजार और ग्रामीण क्षेत्र के ग्राहकों के लिए 1 हजार रुपए है।

कितना लगता है शुल्क

  • मेट्रो और शहरी क्षेत्र के ग्राहक मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करते और तय लिमिट से कमी 50 प्रतिशत तक होती है तो 10 रुपए प्लस जीएसटी देना होगा। कमी 50 से 75 प्रतिशत है तो 12 रुपए प्लस जीएसटी देना होगी। वहीं कमी 75 प्रतिशत से अधिक है तो 15 रुपए प्लस जीएसटी देना होगा। 
  • इसी तरह अर्धशहरी क्षेत्रों के ग्राहक तय लिमिट से कम बैलेंस रखते हैं तो 50 प्रतिशत तक की कमी होने पर 7.50 रुपए प्लस जीएसटी देना होगा। 50 से 75 प्रतिशत तक की कमी होने पर 10 हजार प्लस जीएसटी देना होगा। 75 प्रतिशत से ज्यादा की कमी है तो 12 रुपए प्लस जीएसटी देना होगा। 
  • ग्रामीण क्षेत्रों के ग्राहक तय लिमिट से कम बैलेंस रखते हैं तो 50 प्रतिशत तक की कमी होने पर 5 रुपए प्लस जीएसटी देना होगा। 50 से 75 प्रतिशत तक की कमी रही तो 7.50 रुपए प्लस जीएसटी देना होगा। 

बैंक शाखा से पैसा निकालने का क्या है नियम

  • जिन ग्राहकों के अकाउंट में 25 हजार रुपए तक औसत मासिक बैलेंस मेंटेन होता है वो बैंक की शाखा से महीने में 2 बार फ्री में कैश निकाल सकते हैं। जिनके अकाउंट का बैलेंस 25 हजार से 50 हजार के बीच होता है, वो 10 बार फ्री कैश ब्रांच से निकाल सकते हैं। जिनका बैलेंस 50 हजार से 1 लाख रुपए के बीच होता है, वो ब्रांच से 15 बार कैश फ्री में निकाल सकते हैं। जिनके अकाउंट में 1 लाख रुपए से ज्यादा का बैलेंस होता है वो कितनी भी बार बैंक की शाखा से विदड्रॉल कर सकते हैं। 
  • तय लिमिट क्रॉस करने पर ग्राहकों को 50 रुपए प्लस जीएसटी देना होगा। 

एटीएम से कितनी बार फ्री में निकाल सकते पैसा

  • 25 हजार रुपए तक मासिक बैलेंस मेंटने करने वाले ग्राहक एसबीआई के एटीएम से महीने में 5 बार और दूसरे बैंक के एटीएम से महीने में 8 बार फ्री में पैसा निकाल सकते हैं। 
  • 25 हजार से ज्यादा और 1 लाख रुपए तक बैलेंस मेंटेन करने वाले ग्राहक एसबीआई के एटीएम से अनलिमिटेड फ्री ट्रांजैक्शन कर सकते हैं और दूसरे बैंक के एटीएम से महीने में 8 हजार फ्री विदड्रॉल कर सकते हैं। 
  • 1 लाख रुपए से ज्यादा का बैलेंस मेंटने करने वाले ग्राहक किसी भी बैंक के एटीएम से अनिलिमटेड फ्री ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। 
  • तय लिमिट क्रॉस करने पर 5 रुपए प्लस जीएसटी से लेकर 20 रुपए प्लस जीएसटी तक अलग-अलग श्रेणी में वसूला जाएगा। 
  • एसबीआई सैलरी अकाउंट होल्डर्स किसी भी बैंक के एटीएम से कितनी भी बार, फ्री में कैश निकाल सकते हैं।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना