• Hindi News
  • No fake news
  • No Fake News On Bengaluru Police Started Helpline Number After Hyderabad Gang Rape बेंगलुरु पुलिस ने जारी नहीं किया पब्लिक वाहन ट्रैक करने के लिए कोई नंबर, फर्जी है वायरल मैसेज

फैक्ट चेक / बेंगलुरु पुलिस ने जारी नहीं किया पब्लिक वाहन ट्रैक करने के लिए कोई नंबर, फर्जी है वायरल मैसेज

No Fake News On Bengaluru Police Started Helpline Number After  Hyderabad Gang Rape बेंगलुरु पुलिस ने जारी नहीं किया पब्लिक वाहन ट्रैक करने के लिए कोई नंबर, फर्जी है वायरल मैसेज
X
No Fake News On Bengaluru Police Started Helpline Number After  Hyderabad Gang Rape बेंगलुरु पुलिस ने जारी नहीं किया पब्लिक वाहन ट्रैक करने के लिए कोई नंबर, फर्जी है वायरल मैसेज

  • क्या वायरल : बेंगलुरु सिटी पुलिस ने महिलाओं के लिए विशेष हेल्पलाइन जारी कर एक अच्छी सेवा शुरू की है। टैक्सी और ऑटो लेने से पहले अपना व्हीकल नंबर 9969777888 पर एसएमएस करें। फिर पुलिस आपका वाहन ट्रैक करेगी
  • क्या सच : बेंगलुरु पुलिस ने इस जानकारी का खंडन किया है। ऐसा इनिशिएटिव मुंबई पुलिस ने लिया था लेकिन अच्छा रिस्पॉन्स न मिलने के कारण मुंबई पुलिस ने भी इसे बंद कर दिया था

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2019, 01:30 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. हैदराबाद में हुए गैंगरेप के बाद से ही सोशल मीडिया पर कई फर्जी खबरें वायरल हो रही हैं। अब ऐसी ही एक खबर बेंगलुरु पुलिस के नाम से फैलाई जा रही है। इसमें एक नंबर दिया गया है और दावा किया गया है कि टैक्सी लेने के पहले इस नंबर पर गाड़ी का नंबर एसएमएस कर दें। ऐसा करते ही पुलिस जीपीआरएस के जरिए आपके वाहन को ट्रैक करते रहेगी। जानिए इस मैसेज की सच्चाई। 

क्या वायरल

एक पाठक ने हमें यह मैसेज पुष्टि के लिए भेजा।

  • वायरल मैसेज में लिखा है कि 'बेंगलुरु सिटी पुलिस ने महिलाओं के लिए विशेष हेल्पलाइन जारी कर एक अच्छी सेवा शुरू की है। टैक्सी और ऑटो लेने से पहले अपना व्हीकल नंबर 9969777888 पर एसएमएस करें। आपको एसएमएस के जरिए ही स्वीकृति वाला मैसेज मिलेगा। व्हीकल जीपीआरएस के जरिए ट्रैक किया जाएगा। अपनी बहन, मां, पत्नी और महिला मित्रों की सहायता करें '
  • दरअसल यह नंबर 2017 में भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो चुका है। 

क्या है सच्चाई

  • बेंगलुरू पुलिस ने ऐसा कोई हेल्पलाइन नंबर जारी नहीं किया है। मुंबई पुलिस द्वारा यह इनिशिएटिव 8 मार्च 2014 को लिया गया था और इस सुविधा को मार्च 2017 में बंद भी कर दिया गया। 
  • गूगल कीवर्ड्स सर्चिंग में हमें इकोनॉमिक्स टाइम्स में प्रकाशित एक आर्टिकल मिला। इस रिपोर्ट में मुंबई पुलिस द्वारा इस सुविधा को शुरू करने की बात लिखी गई है। 
  • मुंबई पुलिस ने एमटीएनएल के साथ मिलकर 'ट्रैवल सेफ वेन अलोन' नाम से यह इनिशिएटिव शुरू किया था। आंधप्रदेश में हुए रेप और मर्डर के बाद इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए मुंबई पुलिस ने यह इनिशिएटिव लिया था। 
  • मिडडे के मुताबिक, अच्छा रिस्पॉन्स न मिलने के चलते पुलिस ने इस नंबर को बंद कर दिया था। 
  • सोशल मीडिया में वायरल हो रही खबर का खुद बेंगलुरू पुलिस भी ट्वीट कर खंडन कर चुकी है। 

निष्कर्ष : पड़ताल से स्पष्ट होता है कि बेंगलुरु पुलिस द्वारा ऐसा कोई नंबर जारी नहीं किया गया। इस तरह की फर्जी खबरों पर यकीन न करें। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना