फैक्ट चेक / जाली नोटों की गड्‌डी की फोटो वायरल लेकिन झूठा है आरएसएस से कनेक्शन का दावा

No Fake News On Fake Notes Recoverd From RSS Supporter In Gujarat
X
No Fake News On Fake Notes Recoverd From RSS Supporter In Gujarat

  • क्या वायरल : नोट की गडि्डयों वाली तीन फोटोज का कोलाज वायरल हो रहा है। दावा है कि, यह जाली नोट गुजरात में एक आरएसएस समर्थक के पास से पकड़ाए हैं
  • क्या सच : वायरल तस्वीर गुजरात नहीं बल्कि तेलंगाना की है। तेलंगाना पुलिस ने पांच लोगों की गैंग के पास से इन जाली नोटों को बरामद किया था

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2020, 01:32 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. सोशल मीडिया पर तीन फोटोज वाला एक कोलाज वायरल किया जा रहा है। इसमें नोटों की गडि्डयां नजर आ रही हैं, जो पुलिस द्वारा जब्त की गई हैं। दावा है कि, यह फेक नोट हैं जो गुजरात में एक आरएसएस समर्थक के पास से बरामद हुए हैं। एक पाठक ने हमें यह वायरल दावा पुष्टि के लिए भेजा। पड़ताल में दावा झूठा निकला। 

क्या वायरल

  • सैय्यद सोहेल अहमद नाम के एक यूजर ने इसे शेयर करते हुए लिखा है कि, गुजरात से नकली नोटों का भंडार पकड़ा गया...और ईमानदार संघ समर्थक श्री केतन दवे की कार से मिला ये नकली नोटों का जखीरा...RBI को बन्द करके Currency छापने और संचालन का काम भी इनको ही दे देना चाहिये |
  • बांग्ला में भी उस इस पोस्ट को शेयर किया गया है।

क्या है सच्चाई

  • रिवर्स सर्चिंग में हमें यह वायरल इमेज कुछ न्यूज रिपोर्ट्स में मिली। 
  • तेलंगाना टुडे और टाइम्स ऑफ इंडिया की 2 नवंबर 2019 को प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, तेलंगाना पुलिस ने खम्मम में पांच लोगों की गैंग से फेक करेंसी नोट बराम दिए। जिनका मूल्य 6 करोड़ से भी ज्यादा था। 
  • फिर हमने केतन दवे, गुजरात के नाम से सर्चिंग की तो पता चला कि ऐसा ही एक मामला गुजरात के राजकोट में 2017 में सामने आया था। 
  • न्यूज रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजकोट के फाइनेंसर केतन दवे के पास से 3.92 करोड़ रुपए के फेक करेंसी नोट्स जब्त किए गए थे। धोखाधड़ी के मामले में दवे को जेल हुई। हालांकि इस व्यक्ति का भी आरएसएस से किसी तरह का कनेक्शन स्थापित नहीं हुआ। 

निष्कर्ष : पड़ताल से स्पष्ट होता है कि, तेलंगाना में जब्त किए गए नोटों को आरएसएस और गुजरात के नाम से वायरल किया गया है। दावा निराधार है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना