फैक्ट चेक / कोरोनावायरस पीड़ितों की जांच के लिए इंडियन आर्मी ने नहीं बनाया हॉस्पिटल, तीनों तस्वीरें पुरानी हैं

No Fake News On Indian Army  Built 1000 Bed Hospital To Investigate Coronavirus Victims
X
No Fake News On Indian Army  Built 1000 Bed Hospital To Investigate Coronavirus Victims

  • क्या वायरल : तीन फोटोज वायरल कर दावा किया गया है कि, इंडियन आर्मी ने कोरोनावायरस पीड़ितों के लिए बाड़मेर में एक हजार बेड का हॉस्पिटल बनाया है
  • क्या सच : आर्मी ने इस दावे का खंडन किया है। जिन फोटोज को वायरल किया जा रहा है, वो पहले से ही इंटरनेट पर मौजूद हैं

दैनिक भास्कर

Mar 26, 2020, 09:00 AM IST

फैक्ट चेक डेस्क. इंडियन आर्मी के नाम से सोशल मीडिया पर कुछ फोटोज वायरल हो रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि, भारतीय सेना द्वारा बाड़मेर में केवल दो दिनों में एक हजार बिस्तर का अस्पताल तैयार कर लिया गया। इसमें आईसीयू भी है और यहां कोरोनावायरस के एक हजार रोगियों के इलाज की पूरी व्यवस्था है। एक पाठक ने हमें यह वायरल फोटोज सत्यता की जांच के लिए भेजे। पड़ताल में वायरल दावा झूठा निकला। 

क्या वायरल

  • एक यूजर ने इन फोटोज को शेयर करते हुए लिखा कि, 'भारतीय सेना के द्वारा बाड़मेर (राजस्थान) में केवल दो दिनों में खड़ा किया गया पूरे "एक हजार बिस्तरों" का परिपूर्ण अस्पताल इसमें सौ वेंटिलेटर्स से सुसज्जित "गहन चिकित्सा विभाग" (आइ‌सीयू) भी हैं और एक साथ करोनावायरस के एक हजार रोगियों के इलाज की पूरी व्यवस्था भी। फौजीभाई'
  • कई यूजर्स इन फोटोज को सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं। 

क्या है सच्चाई

  • भारतीय आर्मी ने खुद इस दावे का खंडन किया है। आर्मी ने ट्वीट करते हुए स्पष्ट किया कि, सोशल मीडिया में यह फेक इनपुट सर्कुलेट किया जा रहा है कि, भारतीय सेना ने बाड़मेर में 1000 बिस्तरों की क्वारेंटाइन फेसिलिटी स्थापित की है। यह सही नहीं है।  हमारी पड़ताल में वायरल किए जा रहे तीनों फोटोज की सच्चाई भी पता चली। 

इमेज 1

  • इस फोटो को ट्रेंड नाम की वेबसाइट ने 11 सितंबर 2019 को प्रकाशित किया था। इसमें दिए कैप्शन में लिखा है कि, ' रूस 5.5 मिलियन किर्गिस्तानी सोम की कीमत का हॉस्पिटल किर्गिज़स्तान आपातकालीन मंत्रालय को डोनेट किया '। 

इमेज 2

  • रिवर्स सर्चिंग में पता चला कि यह तस्वीर इंडियन आर्मी का ही है, लेकिन यह 28 अप्रैल 2015 की है। इसे नेपाल में आए भूकंप के बाद आर्मी मेडिकल दल ने काठमांडू में स्थापित किया था। 

इमेज 3
यह फोटो 2008 से ही इंटरनेट पर उपलब्ध है। 


निष्कर्ष : हमारी पड़ताल में सोशल मीडिया द्वारा किया जा रहा दावा झूठा निकला।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना