--Advertisement--

सोशल सच / क्या यूएई के नेता राहुल को पीएम मोदी से बढ़कर सम्मान देते हैं? इस फोटो में तो सच्चाई है, पर कहानी झूठी है

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 07:08 PM IST


pm narendra modi and rahul gandhi photo viral on social media
X
pm narendra modi and rahul gandhi photo viral on social media

  • सोशल मीडिया पर मोदी-राहुल की फोटो वायरल हो रही है, जिसमें दोनों यूएई के नेता के साथ हैं
  • पहली फोटो राहुल के हाल ही में किए गए यूएई दौरे की है, जबकि मोदी की फोटो दो साल पुरानी है
  • दोनों ही फोटो सच हैं, पर मोदी यूएई के नेता के बगल में इसलिए खड़े थे क्योंकि वे भारत के मेहमान थे

नो फेक न्यूज डेस्क. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हाल ही में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) का दौरा करके भारत लौटे हैं। जिसके बाद से सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रही है। इस फोटो में ऊपर राहुल गांधी और नीचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं, जिसे शेयर करते हुए दोनों नेताओं की तुलना की जा रही है। इस फोटो में मोदी और राहुल दोनों ही यूएई के नेता के साथ हैं। वायरल फोटो में राहुल यूएई के नेता के साथ बराबरी में बैठे हैं, जबकि मोदी को यूएई के नेता के सामने खड़ा दिखाया गया है। 

 

हालांकि, हमारी पड़ताल में सामने आया कि सोशल मीडिया पर मोदी और राहुल की फोटो सही है, लेकिन उन फोटो को गलत दावे और गलत नीयत के साथ शेयर किया जा रहा है। फोटो में मोदी यूएई के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान के सामने खड़े तो हैं, लेकिन वो इसलिए क्योंकि उस वक्त यूएई के नेता भारत दौरे पर आए थे और वे हैदराबाद हाउस में विजिटर बुक में साइन कर रहे थे।

 

no fake news

 

क्या है वायरल फोटो में?

  • इस फोटो को 'कांग्रेस देश की जान #CDKJ' नाम के फेसबुक ग्रुप पर मिनी नगरारे नाम की यूजर ने शेयर किया है और इसपर 'वायरल इन इंडिया डॉट नेट' का लोगो है। फोटो को शेयर कर यूजर ने राहुल को महान नेता बताने की कोशिश की है।  
  • वायरल फोटो में राहुल, यूएई के एक नेता के साथ कुर्सी पर बराबरी में बैठे हुए हैं। जबकि नीचे की फोटो में मोदी खड़े हैं और कुर्सी पर यूएई के ही कोई नेता किसी फाइल पर साइन करते दिख रहे हैं। इस फोटो के ऊपर लिखा है, "किसका डंका बजता है आप खुद देखें।"

no fake news

 

पड़ताल : क्या है इस वायरल फोटो की सच्चाई?

  • इस वायरल फोटो में मोदी और राहुल की जिस फोटो को लगाया गया है, वो दोनों ही फोटो सही हैं और उसमें किसी तरह की छेड़छाड़ नहीं की गई है। दरअसल, 11-12 जनवरी को यूएई के दौरे पर पहुंचे राहुल ने वहां के उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री शेख मोहम्मद से मुलाकात की थी और इस फोटो को उन्होंने अपने ट्विटर पर भी शेयर किया था।

 

 

  • वहीं, बात मोदी वाली फोटो की करें तो ये फोटो दो साल पुरानी है। दरअसल, 2017 में गणतंत्र दिवस के उस वक्त के यूएई के डिप्टी सुप्रीम कमांडर और शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने भारत आए थे।
  • 25 जनवरी 2017 को मोदी और शेख मोहम्मद ने दिल्ली के हैदराबाद हाउस में संयुक्त प्रेस वार्ता को भी रखी थी, जिसमें भारत और यूएई के बीच 14 अहम समझौतों पर हस्ताक्षर भी हुए थे। इसी दौरान हैदराबाद हाउस की विजिटर बुक पर शेख मोहम्मद ने हस्ताक्षर किए थे और उस वक्त मोदी उनके बगल में खड़े थे। 

no fake news

  • इसी वक्त की फोटो को अब गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। मोदी उस वक्त इसलिए खड़े थे क्योंकि शेख मोहम्मद भारत के मेहमान थे और वे उस वक्त विजिटर बुक में हस्ताक्षर कर रहे थे। राजनीति के नाम पर राहुल और मोदी की फोटो को गलत दावे के साथ शेयर करना गलत है।

no fake news

Astrology
Click to listen..