सोशल सच / राम मंदिर और गुजरात के नाम पर फैलाया जा रहा झूठ, बदल दी अखबार की हेडलाइन और चिपका दिया मोदी-शाह का नाम



pm narendra modi bjp chief amit shah fake statement viral on social media
X
pm narendra modi bjp chief amit shah fake statement viral on social media

Dainik Bhaskar

Nov 06, 2018, 07:44 PM IST

नो फेक न्यूज डेस्क. चुनाव पास आते ही सोशल मीडिया पर फर्जी खबरों की बाढ़ सी आ जाती है। सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा जिन फर्जी खबरों को फैलाया जाता है, वो किसी न किसी धर्म से जुड़ी रहती हैं क्योंकि इन्हीं के जरिए वोटों को एकसाथ लाने में मदद मिलती है। इसी तरह से एक अखबार की कटिंग इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बयान लगे हैं। 

 

इस कटिंग में ऊपर अमित शाह का बयान है, जिसकी हेडलाइन है 'कभी नहीं बनेगा राम मंदिर : अमित शाह' और दूसरा बयान पीएम मोदी का है जिसमें 'हिन्दुओं का भरोसा जितने के लिए मुस्लिम किसानों को मरवाना जरूरी था : नरेंद्र मोदी' हेडलाइन दी गई है।

 

हालांकि, हमारी पड़ताल में ये पूरी तरह से फर्जी और फोटोशॉप्ड निकला। असल में इन बयानों को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है। अखबार की कटिंग में जिस जगह अमित शाह का बयान चिपकाया गया है, वहां अखिलेश यादव का बयान था और जिस जगह पीएम मोदी का बयान लगाया है वहां मुलायम सिंह यादव का बयान था।

 

क्या है वायरल पोस्ट में?

  • इस वायरल पोस्ट में दो अलग-अलग अखबारों की खबर की लगाई गई है। इसमें पहली खबर अमित शाह के बयान की है और दूसरी खबर पीएम मोदी के बयान की है। इस कटिंग की सिर्फ हेडलाइन ही है, जो साफ समझ आ रही है जबकि इसके अंदर की खबर को पढ़ना काफी मुश्किल है। इसको इस तरह से फोटोशॉप किया गया है कि सिर्फ हेडलाइन ही साफ दिखे।

 

 

 

पड़ताल : क्या है इस वायरल पोस्ट की सच्चाई?

  • इस पोस्ट की सच्चाई जानने के लिए हमने गूगल रिवर्स इमेज सर्च की मदद ली। जब हमने इस फोटो को रिवर्स इमेज पर सर्च किया तो हमें इसी तरह की एक और कटिंग मिली, जिसमें अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव का बयान लगा था।
  • दूसरी फोटो में ऊपर अखिलेश यादव की खबर थी, जिसकी हेडलाइन थी 'कभी नहीं बनने देंगे राम मंदिर : अखिलेश यादव' और दूसरी खबर थी 'मुलायम : मुसलमानों का भरोसा जितने के लिए हिंदुओं पर गोलियां चलवाना जरूरी था'। 

no fake news

  • जब हमने दूसरी फोटो और पहली फोटो को ध्यान से देखा तो पाया कि इनकी बस हेडलाइन में ही बदलाव किया गया है, जबकि अंदर की खबर दोनों में एक ही है। मोदी और अमित शाह की खबर का ले-आउट भी वही है, जो अखिलेश-मुलायम की खबर का है।
  • इतनी पड़ताल से ये तो पता चला कि अमित शाह और मोदी के बयान की जिस खबर को वायरल किया जा रहा है, वो पूरी तरह से फर्जी है।
  • इसके बाद भी हमने और जांच करने के लिए गूगल पर इन खबरों की हेडलाइन के साथ सर्च किया, लेकिन हमें कहीं भी अमित शाह और मोदी का वो बयान नहीं मिला जो अखबार की कटिंग में दिया गया है।
  • इसी तरह से हमने अखिलेश-मुलायम के बयान को भी गूगल पर सर्च किया। गूगल पर हमें अखिलेश यादव का दिसंबर 2015 में राम मंदिर पर दिया बयान मिला। उस वक्त अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे और उन्होंने कहा था कि 'अयोध्या में अगर कोई भी शरारती तत्व कानून व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।' हालांकि, उस वक्त भी अखिलेश ने ये कभी नहीं कहा कि 'अयोध्या में राम मंदिर नहीं बनने दिया जाएगा।'
  • इसी तरह से जब हमने मुलायम सिंह यादव के बयान को सर्च किया तो हमें अगस्त 2016 का एक बयान मिला जिसमें उन्होंने कहा था कि 'देश की एकता को बचाने के लिए मैंने कारसेवकों पर गोली चलवाई। अगर हम उस वक्त गोली नहीं चलाते तो मुसलमानों का देश से विश्वास उठ जाता।' इस दौरान भी मुलायम ने ये नहीं कहा कि मुसलमानों का भरोसा जितने के लिए हिंदुओं पर गोली चलवाई।
  • इस पड़ताल से पता चलता है कि दूसरी फोटो जिसमें अखिलेश-मुलायम का बयान लगा है, उसकी हेडलाइन के साथ भी संभवतः छेड़छाड़ की गई है। कुछ लोग इस तरह की अखबार की कटिंग लगाकर झूठी खबर को सच दिखाने की कोशिश करते हैं और कुछ लोग इन खबरों पर यकीन कर इन्हें शेयर भी कर देते हैं। इस तरह की फर्जी खबरों से बचना जरूरी है।

no fake news

 

कैसे बचें इस तरह की खबरों से?

  • अगर कभी भी कोई अखबार की कटिंग वाली पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, तो उसमें लिखी खबर को गूगल पर सर्च जरूर कीजिए। अगर अखबार में खबर छपी है तो इस बात की पूरी संभावना है कि न्यूज वेबसाइट ने भी इस खबर को लगाया होगा।
  • इसके अलावा इस तरह की खबरों को भी ध्यान से देखें। कुछ लोग अखबार की कटिंग को पूरी तरह से धुंधला कर देते हैं, ताकि लोग उस खबर को न पढ़ पाएं। इसलिए अगर कभी ऐसी कोई कटिंग मिले जिसकी सिर्फ हेडलाइन ही साफ हो और बाकी खबर धुंधली हो तो उसपर विश्वास न करें। 
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना