• Hindi News
  • No fake news
  • Police Lathi On The Stomach Of Pregnant Female Candidate Protesting In UP? Know The Full Truth Of This Viral Video

फेक न्यूज एक्सपोज:क्या यूपी में विरोध प्रदर्शन कर रही गर्भवती महिला के पेट पर पुलिस ने मारी लाठी? जानिए इस वायरल VIDEO का पूरा सच

9 महीने पहले

क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में लोगों के बीच एक महिला पेट पकड़े दर्द से कराहते हुए दिख रही है। इन लोगों के बीच लाठी-डंडे लिए कुछ पुलिसकर्मी भी खड़े दिख रहे हैं। वहीं, वीडियो में एक महिला को ये कहते सुना जा सकता है कि एक प्रेग्नेंट लेडी के पेट पर लाठी मारी है।

दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो यूपी का है। जहां नौकरी की मांग कर रही एक प्रेग्नेंट महिला अभ्यर्थी के पेट पर पुलिस ने लाठी मारी।

वीडियो शेयर कर यूजर्स ने लिखा- जाहिलों नौकरी मत दो, लेकिन गर्भवती महिलाओं के पेट पर लाठी तो मत मारो। यूपी के मुख्यमंत्री जी कहते हैं कि प्रदेश में इतनी नौकरियां हैं कि योग्य उम्मीदवार नहीं मिलते। वहीं एक ओर लखनऊ में बीएड अभ्यर्थी नौकरियां मांगते हैं, तो योगी जी के गुंडे गर्भवती महिलाओं के पेट में लाठी मारते हैं।

और सच क्या है?

  • वायरल वीडियो का सच जानने के लिए हमने वीडियो के की-फ्रेम को गूगल पर रिवर्स सर्च किया। सर्च रिजल्ट में हमें ये वीडियो भीम न्यूज नेटवर्क नाम के एक यूट्यूब चैनल पर मिला।
  • ध्यान देने वाली बात यह है कि ये वीडियो भीम न्यूज नेटवर्क नाम के यूट्यूब चैनल पर 6 सितंबर 2018 को अपलोड हुआ था।
  • पड़ताल के अगले चरण में हमने इससे जुड़े की-वर्ड्स गूगल पर सर्च किए। सर्च रिजल्ट में हमें वायरल वीडियो से जुड़ी खबर लाइव हिंदुस्तान समेत कई न्यूज वेबसाइट पर मिली।
  • मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वायरल वीडियो में दिख रही ये घटना 5 सितंबर 2018 की है। जब लखनऊ में बीएड टीईटी 2011 बैच के सफल अभ्यर्थी नियुक्ति के लिए विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। तब पुलिस ने अभ्यर्थियों पर जमकर लाठियां बरसाई थीं। उस दौरान पुलिस ने एक गर्भवती प्रदर्शनकारी के पेट पर भी लाठी मारी थी।
  • पड़ताल के दौरान हमें वायरल वीडियो से जुड़ा एक पोस्ट यूपी पुलिस फैक्ट चेक के सोशल मीडिया अकाउंट पर भी मिला।
  • यूपी पुलिस फैक्ट चेक ने वायरल वीडियो के रिप्लाई में लिखा- कृपया 2 वर्ष पुरानी घटना को वर्तमान का बताकर भ्रामक पोस्ट न करें। उक्त भ्रामक खबर का लखनऊ पुलिस द्वारा भी खंडन किया जा चुका है।
  • साफ है कि सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के साथ किया जा रहा दावा अधूरा सच है। ये वीडियो अभी का नहीं, बल्कि 5 सितंबर 2018 का है।