मनमोहन सिंह पीएम थे तब 5 साल तक नहीं मना था कारगिल दिवस, कांग्रेस नेता बोले थे- हम क्यों मनाए, ये तो बीजेपी की लड़ाई थी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नो फेक न्यूज डेस्क. सोशल मीडिया पर हर साल की तरह ही इस बार भी एक मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें कहा जा रहा है कि कांग्रेस ने 5 सालों तक कारगिल दिवस नहीं मनाया। इसके साथ ही कारगिल दिवस नहीं मनाने पर कांग्रेस नेता राशिद अल्वी का भी एक बयान इस पोस्ट के साथ दिया जा रहा है। दरअसल, राशिद अल्वी का कहना था कि कारगिल की लड़ाई भाजपा की लड़ाई थी, इसलिए इसे मनाया नहीं जाना चाहिए। 
 
भारत और पाकिस्तान के बीच जम्मू-कश्मीर के कारगिल जिले में युद्ध छिड़ गया था। दरअसल, पाकिस्तानी सेना और कुछ कश्मीरी उग्रवादियों ने भारत-पाकिस्तान के बीच बनी एलओसी को पार किया और भारत की जमीन पर कब्जा कर लिया। डेढ़ महीने से ज्यादा लंबी चली इस लड़ाई में भारत के कई जवान शहीद हुए, लेकिन आखिर में 26 जुलाई 1999 को भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सेना को हराकर कारगिल युद्ध जीत लिया। इसी दिन को हर साल \'विजय दिवस\' या \'कारगिल दिवस\' के रूप में मनाया जाता है।
 

क्या लिखा है वायरल पोस्ट में?
- सोशल मीडिया वायरल हो रही इस पोस्ट में लिखा है \'सर्जिकल स्ट्राइक को जुमला स्ट्राइक कहने से पहले कांग्रेस कारगिल युद्ध के वीरों का भी अपमान कर चुकी है। 5 साल तक कांग्रेस ने कारगिल विजय दिवस नहीं मनाया था।\'
- इसके साथ कांग्रेस नेता राशिद अल्वी का भी एक बयान इस पोस्ट में लिखा है। इस बयान में अल्वी ने कहा था \'कारगिल विजय दिवस का जश्न हम क्यों मनाएं, वो तो भाजपा का युद्ध था।\'
- इसके नीचे लिखा है \'कांग्रेस की ऐसी घटिया सोच को आप क्या नाम देंगे?\' इस पोस्ट को फेसबुक पर \'फिर एक बार, मोदी सरकार\' नाम के पेज से शेयर किया गया है। 
 

हमारी पड़ताल में सामने आई ये बातें : 
- हमने जब इस वायरल पोस्ट की सच्चाई जानने के लिए इंटरनेट पर सर्चिंग की तो पाया कि ये पोस्ट एकदम सही है और कांग्रेस ने अपने पहले कार्यकाल यानी 2004-2009 तक कारगिल विजय दिवस नहीं मनाया था। 
- इस संबंध में पिछले साल बीजेपी सांसद राजीव चंद्रशेखर ने ट्विटर पर भी 2009 में कांग्रेस सरकार को लिखे लेटर को शेयर किया था। इसके साथ ही उन्होंने तत्कालीन रक्षा मंत्री एके एंटनी के जवाब को भी अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया था।
- राजीव चंद्रशेखर ने इस लेटर के साथ लिखा था कि \'कांग्रेस की यूपीए सरकार ने 2004-2009 तक कारगिल विजय दिवस नहीं मनाया जब तक मैंने उन्हें इसे मनाने के लिए नहीं कहा।\' राजीव चंद्रशेखर ने ये लेटर 21 जुलाई 2009 को लिखा था क्योंकि वे इस मुद्दे को राज्यसभा में उठाना चाहते थे।
- राजीव चंद्रशेखर के इस लेटर पर एके एंटनी ने 16 जुलाई 2010 को जवाब दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था \'कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों को सम्मान देने के लिए इस साल भी 26 जुलाई 2010 को अमर जवान ज्योति पर श्रद्धांजलि दी जाएगी।\'
 

राशिद अल्वी का बयान भी सही है?
- हमने जब राशिद अल्वी के बयान के बारे में पता लगाया तो हमें पता चला कि राशिद अल्वी ने कारगिल विजय दिवस को लेकर इस तरह का बयान दिया था।
- 15 जुलाई 2009 को कांग्रेस सांसद राशिद अल्वी ने कहा था \'कारगिल ऐसी लड़ाई नहीं थी, जिसका जश्न मनाया जाए। वो लड़ाई हमारे क्षेत्र में लड़ी गई थी। हमें तो ये भी नहीं पता चला कि पाकिस्तानी सेना ने कब हमारी सीमा पार की और वहां बंकर स्थापित कर दिए। सिर्फ एनडीए ही इस जीत का जश्न मना सकती है।\'

खबरें और भी हैं...