पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • No fake news
  • WHO Admits Its Mistake And Told Corona As Seasonal Virus, Video Went Viral On Social Media; Know The Truth Of This Claim

फेक न्यूज एक्सपोज:WHO ने अपनी गलती मानते हुए कोरोना को सीजनल वायरस बताया, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल; जानिए इस दावे की सच्चाई

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में डोलोरेस काहिल नाम की महिला प्रोफेसर कोरोना संक्रमण को मौसमी बीमारी बता रही हैं। वे कहती हैं कि एक अच्छी खबर है। कोरोनावायरस कोई महामारी नहीं, बल्कि सीजनल वायरस है।

दावा किया जा रहा है कि WHO ने अपनी गलती मानी पूरी तरह से यू-टर्न लेते हुए कहा है कि कोरोना एक सीजनल वायरस है। यह मौसम बदलाव के दौरान होने वाला खांसी-जुकाम-गला दर्द है। इससे घबराने की जरूरत नहीं।

WHO अब कहता है कि कोरोना रोगी को न तो अलग रहने की है और न ही जनता को सोशल डिस्टेंसिंग की जरूरत है। यह एक मरीज से दूसरे व्यक्ति में भी नहीं फैलता। सबके 2 साल खराब करने के बाद इन्होंने तो पल्ला झाड़ लिया अब कर लो क्या करना है, इनका देखिए WHO की प्रेस कॉन्फ्रेंस।

ये वीडियो मैसेज हमें भास्कर हेल्पलाइन पर भी जांच के लिए मिला।

और सच क्या है?

  • वायरल वीडियो में कोरोना वायरस को मौसमी बीमारी बताने वाली डोलोरेस काहिल के बारे में हमने गूगल पर सर्च किया। सर्च करने पर हमें पता चला कि डोलोरेस आयरलैंड के डबलिन में स्कूल ऑफ मेडिसिन की एक प्रोफेसर हैं।
  • पड़ताल के अगले चरण में हमने डोलोरेस काहिल का सोशल मीडिया अकाउंट चेक किया। जहां हमें डोलोरेस काहिल का वायरल वीडियो मिला। ये वीडियो 19 अक्टूबर को बर्लिन में हुए वर्ल्ड डॉक्टर अलायंस का है। कोरोना वायरस को लेकर भ्रामक दावा करने के बाद इस वीडियो कई जगह से हटा दिया गया था।
  • बता दें कि डोलोरेस काहिल न ही WHO के टीम की सदस्य हैं और न ही WHO की अधिकारी।
  • विश्व में 114 देशों में कोरोना वायरस फैलने के बाद 11 मार्च 2020 को WHO ने इसे महामारी घोषित किया था।
  • विश्व में अब तक कोरोना वायरस के कारण 37 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। ये आंकड़ा किसी भी मौसमी बीमारी से बहुत ज्यादा है।
  • पड़ताल के दौरान हमें भारत सरकार की प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो के सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट मिला, जिसमें उन्होंने वायरल पोस्ट का खंडन करते हुए उसे फेक बताया है।
  • साफ है कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा पोस्ट फेक है। कोरोना वायरस कोई सीजनल वायरस नहीं है न ही ऐसा कोई दावा WHO ने किया है।
खबरें और भी हैं...