फैक्ट चेक:डब्ल्यूएचओ ने नहीं कही कोरोनावायरस के कमजोर पड़ने वाली बात, सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे दावे झूठे

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

क्या वायरल : सोशल मीडिया पर यह दावा किया जा रहा है कि डब्ल्यूएचओ ने कहा है : कोरोना वायरस अब कमजोर पड़ने लगा है। 

फेसबुक पर इस तरह की पोस्ट शेयर की जा रही हैं 

https://www.facebook.com/abdulmajid.rahimi.1/posts/2813874828722239
https://www.facebook.com/abdulmajid.rahimi.1/posts/2813874828722239
https://www.facebook.com/zia.shams.3/posts/10215781716446450
https://www.facebook.com/zia.shams.3/posts/10215781716446450

फैक्ट चेक पड़ताल 

  • दावे से जुड़े अलग-अलग कीवर्ड्स से गूगल सर्च करने पर द रायटर्स की वेबसाइट पर 1 जून की एक खबर मिली। यहां भी कोरोना वायरस के कमजोर पड़ने की बात कही गई है। लेकिन, डब्ल्यूएचओ के हवाले से नहीं बल्कि इटली के डॉक्टर के हवाले से। संभवत: यहीं से कोरोना वायरस के कमजोर पड़ने की बात को उठाकर डब्ल्यूएचओ के हवाले से शेयर किया जाने लगा।
https://www.reuters.com/article/us-health-coronavirus-italy-virus-idUSKBN2370OQ
https://www.reuters.com/article/us-health-coronavirus-italy-virus-idUSKBN2370OQ
  • पड़ताल के दौरान हमें यूट्यूब पर 1 जून का एक वीडियो मिला। यह वीडियो एएफपी न्यूज एजेंसी ने अपलोड किया है। इसमें डब्ल्यूएचओ के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर माइकल रेयान का एक बयान है। इसमें वे कह रहे हैं - ‘कोरोना अभी भी एक जानलेवा वायरस है। अब भी रोजाना हजारों लोग इससे मर रहे हैं। हमें यह सेंस डेवलप नहीं करना चाहिए कि वायरस अब कम खतरनाक है’। इस बयान से स्पष्ट है कि डब्ल्यूएचओ ने खुद वायरस के कमजोर होने वाली बात को नकारा है।
  • https://www.youtube.com/watch?v=Xz3LwWPKFP8&feature=youtu.be
  • डबल्यूएचओ रोज एक सिचुएशन रिपोर्ट जारी करता है। पिछले एक महीने की रिपोर्ट्स चेक करने पर हमें ऐसा कोई अपडेट नहीं मिला, जिसमें कहा गया हो कि कोरोना वायरस कमजोर पड़ रहा है।
  • डब्ल्यूएचओ के सोशल मीडिया अकाउंट्स पर भी दावे से जुड़ा कोई अपडेट नहीं मिला।
  • इस दावे पर सीधी प्रक्रिया के लिए हमने मेल के जरिए डब्ल्यूएचओ की मीडिया टीम से संपर्क किया। मीडिया सेल के आंद्रेई मुचनिक ने हमारे मेल के जवाब में कहा कि आपके सवाल का जवाब डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर जनरल 8 जून को ही दे चुके हैं।
  • आंद्रेई मुचनिक ने 8 जून की एक प्रेस ब्रीफिंग का लिंक हमें भेजा। इसमें डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अडेहनोम ग्रेबेयसस ने स्पष्ट कहा है कि ये समय किसी भी देश के लिए ऐसा नहीं है, कि वे महामारी से लड़ाई में अपने कदम पीछे खींचें। यह 8 जून की प्रेस ब्रीफिंग की अंतिम दो लाइनें हैं। जिनसे स्पष्ट होता है कि डब्ल्यूचओ ने वायरस के कमजोर पड़ने की हर बात को सिरे से खारिज किया है। https://www.who.int/dg/speeches/detail/who-director-general-s-opening-remarks-at-the-media-briefing-on-covid-19---8-june-2020

निष्कर्ष : डब्ल्यूएचओ ने कोरोना वायरस के कमजोर पड़ने जैसी कोई बात नहीं कही है। सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा झूठा है। 

खबरें और भी हैं...