• Hindi News
  • Nyt
  • A hundred year old style was used in the construction of new buildings in New York.

अमेरिका / न्यूयॉर्क की नई इमारतों के निर्माण में सौ वर्ष पुरानी शैली का उपयोग होने लगा



A hundred year old style was used in the construction of new buildings in New York.
X
A hundred year old style was used in the construction of new buildings in New York.

  • ग्लास की जगह ईंट, चूना पत्थर और धातु की कारीगरी
  • ऐसी बिल्डिंग की एक यूनिट का मूल्य 142 करोड़ रु. से 163 करोड़ रु. के बीच
     

Dainik Bhaskar

Oct 21, 2019, 01:13 PM IST

टिम मैकियोघ. मैनहट्टन, न्यूयॉर्क में बन रही कई नई बिल्डिंग 100 वर्ष पुराने निर्माण की याद दिलाती हैं। पिछले कई वर्षों से जाहा हदीद, जीन नौउवेल और फ्रेंक गेहरी जैसे स्टार आर्किटेक्ट के आधुनिक डिजाइन महानगर की कई इमारतों की शोभा बढ़ा रहे हैं। इन इमारतों का बाहरी हिस्सा ग्लास से जगमगाता है। अब आर्किटेक्ट नए भवनों में पुरानी स्टाइल-आर्ट डेको, नियो जॉर्जियन और नियो गोथिक अपना रहे हैं। कई इमारतों के बाहरी हिस्सों पर हाथ से बनी ईंटों, चूना पत्थर, धातु की कारीगरी और सूर्य, चंद्रमा को दर्शाने वाले सिक्कों सहित सजावटी वस्तुओं का उपयोग हुआ है।

 

मैनहट्‌टन में पुरानी शैली में दो विराट बिल्डिंग बना रही कंपनी आईकॉन रियलिटी मैनेजमेंट के टेरेंस लोवेनबर्ग कहते हैं, हम आधुनिक सुविधाओं के साथ दूसरे विश्व युद्ध के पहले जैसे भवन बनाना चाहते हैं। इन इमारतों की एक यूनिट का मूल्य 142 करोड़ रुपए से 163 करोड़ रुपए के बीच है। पुरानी शैली की इमारतें पूर्व और पश्चिमी हिस्सों में ज्यादा हैं। अब न्यूयॉर्क के फाइनेंशियल डिस्ट्रिक्ट में हर जगह ऐसी बिल्डिंग बनने लगी हैं।

 

न्यूयॉर्क में बनी नई बिल्डिंग वांडेवाटर का डिजाइन पिछली सदी के चूनापत्थर के निर्माणों की याद दिलाता है। 33 मंजिला भवन के बाहरी हिस्से में ग्लास तो लगा है पर कांक्रीट का ज्यादा उपयोग हुआ है।

पुराने आर्किटेक्चर को पसंद कर रहे हैं लोग

  1. डिजाइनर स्टूडियो सोफील्ड के फाउंडर विलियम सोफील्ड निर्माण की नई गतिविधि को व्यापक ट्रेंड मानते हैं। इसके तहत चमड़ों के बैग, फर्नीचर, लैम्प सहित अन्य वस्तुओं में हाथ की कारीगरी की वापसी हो रही है। वे कहते हैं, ग्लास के टॉवर बर्फ जैसे ठंडे और अलग-थलग लगने लगे हैं। लोग ऐसी चीजों की ओर लौट रहे हैं जिनमें श्रेष्ठता झलकती है। मैनहट्‌टन में 1428 फुट ऊंची एक बिल्डिंग के बाहरी भाग में टेराकोटा और कांसे की कारीगरी की गई है। इंटीरियर में गहरे रंग की लकड़ी और कांसे का काम है। बिल्डिंग का निर्माण 1920 में बनी स्टीनवे एंड संस की बिल्डिंग से प्रेरित है। हडसन स्क्वेयर में भी ग्रीनविच वेस्ट बिल्डिंग में न्यूयॉर्क के सुनहरे दौर की पुरानी डिजाइन झलकती है। बाहरी हिस्सा चमकदार ईंटों से बना है। पेरिस स्थित आर्किटेक्चर फर्म लोसी एनिमा ने इसका डिजाइन बनाया है। आसपास ग्लास की कई चमचमाती बिल्डिंग हैं। बिल्डिंग में 170 यूनिट हैं। इनकी कीमत सात करोड़ रुपए से 55 करोड़ रुपए के बीच है। वैसे, कोई भी नया टॉवर पुरानी इमारतों की कॉपी नहीं है। उनमें बड़े किचन, विशाल बाथरूम, बहुत ऊंची सीलिंग, बड़ी खिड़कियां और आधुनिक बिल्डिंग सिस्टम लगे हैं। 
     

  2. पिछले वर्ष 1600 करोड़ रु. में बिका था एक पेंटहाउस

    आर्किटेक्ट रॉबर्ट स्टर्न कहते हैं, ग्लास की तुलना में चिनाई और कारीगरी खरीदारों को आकर्षित करती है। वे ऑफिस टॉवर से अलग हैं। रहने के लिए सुविधाजनक हैं। स्टर्न ने पिछले वर्षों में मैनहट्‌टन में कीमतों का रिकॉर्ड बनाने वाली कई इमारतों का निर्माण किया है। इसमें सेंट्रल पार्क पश्चिम और सेंट्रल पार्क दक्षिण में बनी बिल्डिंग शामिल हैं। पिछले वर्षजनवरी में इनका एक पेंटहाउस 1600 करोड़ रुपए में बिका था।
     

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना