पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Two People Suffered Paternity Leave In Japan

जापान में दो लोगों को पितृत्व अवकाश भारी पड़ा

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • बच्चे के जन्म पर छुट्टी लेने के बाद वेतन में कटौती
  • दोनों ने कंपनियों के खिलाफ मुकदमा दायर किया
Advertisement
Advertisement

मोटोको रिच। टोक्यो. दस्तावेजों में जापान की पितृत्वॉ अवकाश (पैटर्निटी लीव) नीतियों को विश्व में सबसे अच्छा मानते हैं। वैसे, व्यावहारिक स्थिति अलग है। 16 में से केवल एक व्यक्ति दंड के भय से अपने कानूनी अधिकार का लाभ ले पाता है। इधर, नवजात शिशुओं की देखभाल के लिए छुट्टी लेने वाले दो लोगों ने अपने मालिकों के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। इनका कहना है, उनकी कंपनियों ने पैटर्निटी लीव से लौटने पर उनकी पदावनति और वेतन में कटौती कर दी। 
 
उनके मुकदमों से देश में लंबे समय से चल रही परंपरा और कंपनी की अपेक्षाओं पर बहस छिड़ गई है। वहां ऐसे मुकदमे अस्वाभाविक हैं। जापान में महिलाएं अब भी बच्चों की देखभाल की जिम्मेदारी संभालती हैं। जबकि पुरुषों से परिवार की कीमत पर अपने मालिकों के प्रति वफादारी निभाने की अपेक्षा रहती है। पहले मुकदमे की सुनवाई टोक्यो डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में गुरुवार को शुरू हो गई। 
 
 जापानी कानून में मां के समान पिता को भी बच्चे की केयर के लिए एक वर्ष के सवैतनिक अवकाश की सुविधा है। फिर भी, जापान में पुरुषों के बीच यह सुविधा लेने की दर केवल 6% है। अधिकतर पुरुष दो सप्ताह से कम छुट्टी लेते हैं। जिन दो लोगों ने मुकदमा दायर किया है, उनमें एक अमेरिकी हैं। जापान में मित्सुबिशी यूएफजे मोर्गन स्टेनले सिक्योरिटीज में ग्लोबल सेल्स मैनेजिंग डायरेक्टर ग्लेन वुड का आरोप है, पैटर्निटी लीव के बाद उन्हें पदावनत किया और नौकरी से निकाल दिया गया। उनके मामले की सुनवाई अगले माह संभावित है। दूसरे कर्मचारी स्नीकर कंपनी एसिक्स में हैं। सुनवाई में उन्होंने बताया पैटर्निटी लीव लेने से पहले और बाद में उन्हें प्रताड़ित किया। उनका डिमोशन कर दिया। सोशल मीडिया पर आलोचना के भय से उन्होंने अपनी पहचान छिपाई है।

Advertisement

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement