पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आज मेरे पास गरीबी है, गंदगी है और दीवार है

5 महीने पहलेलेखक: मुकेश माथुर
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो।
Advertisement
Advertisement

‘उफ तुम्हारे उसूल, तुम्हारे आदर्श! किस काम के हैं तुम्हारे उसूल! तुम्हारे सारे उसूलों को गूंथकर एक वक्त की रोटी नहीं बनाई जा सकती।’ इस माह 45 साल पूरे कर रही दीवार फिल्म का डायलॉग। दीवार अभी खबर है। यूं तो केजरी‘वाल’ की जीत के वक्त से ही और क्रिकेटप्रेमियों के लिए नए राहुल... केएल राहुल की बैक टू बैक शानदार पारियों के वक्त से ही। लेकिन अभी ट्रम्प को अहमदाबाद में शाइन करता इंडिया ही दिखे, इसलिए बनाई जा रही दीवार खूब चर्चा में है। सच पर झूठ के रेड कारपेट डालकर शाइनिंग इंडिया में स्वागत करने का सबसे बड़ा खामियाजा 2004 के चुनाव में भाजपा ने भुगता था।  फ़िलहाल गुजरात की भाजपा सरकार की तरफ से अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम के पास बन रही 600 मीटर लंबी दीवार से गरीबी ढंकी जा रही है। ट्रम्प के लिए हाइजीन बना रहे इसके लिए इस दीवार के पीछे मौजूद गरीबी की दुर्गंध दबाई जा रही है। ट्रम्प तो कुछ मिनटों में इस बस्ती के पास से गुजर जाएंगे, लेकिन 24x7 इस दुर्गंध में जीने वाले लोगों की भावना जरूर आलेख के शुरू में लिखे दीवार के डायलॉग जैसी होगी।  घर आए मेहमान को साफ-सुथरे गिलास में पानी पिलाना शिष्टाचार है, लेकिन परायों को नकली समृद्धि दिखाने के बजाय परिवार को गुणवत्ता वाली जिंदगी दूं तो सार्थक। झुग्गी बस्तियों में रहने वालों की संख्या पिछले तीन दशकों में दोगुनी हो गई है। एक सरकारी सर्वे के मुताबिक 2011 में मुंबई, कोलकाता, चेन्नई और दिल्ली में शहरी आबादी का क्रमश: 41 प्रतिशत, 29 प्रतिशत, 28 प्रतिशत और 15 प्रतिशत झुग्गी में रहता है।  इन झुग्गियों में औसतन 5 लोग एक कमरे में रहते हैं। दीवार का ही डायलॉग था- ये दुनिया एक थर्ड क्लास का डिब्बा बन गई है... जगह बहुत कम है, मुसाफिर ज्यादा। सिर्फ दिल्ली में ही लगभग सात सौ एकड़ में झुग्गियां हैं और इनमें दस लाख लोग रहते हैं।  इंदिरा गांधी ने गरीबी हटाओ का नारा बुलंद किया था। आज मोदी अपनी हर चुनावी सभा में बड़े एहतियात से मेरे गरीब, मजदूर भाई-बहन बोलते हैं। लेकिन गरीबी हटाई नहीं छिपाई जा रही है। झूठ पर आधारित शासन चलाने वाले ट्रम्प के लिए सच छिपाया जा रहा है। ट्रम्प ने बयान जारी किया- अहमदाबाद के रोड शो में 70 लाख लोग जुटेंगे। प्रशासन कह रहा है एक लाख लोग रहेंगे। पहले बोले 100 झूठ की तरह इस पर भी वे शर्मिंदा नहीं होंगे, लेकिन गरीबी छिपाने की शर्मिंदगी हम जरूर झेल रहे हैं। ताज के पास ट्रम्प को दूषित यमुना से बदबू न आए, इसलिए उसमें 500 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। गरीबी की तरह कभी इस मुद्दे को भी ठीक से संबोधित किया होता तो नौबत नहीं आती। यमुना एक्शन प्लान में 1500 करोड़ खर्च हो जाने और 1100 करोड़ से ज्यादा की एक और योजना के बाद यह नौबत है।  व्यापक विरोध के बावजूद मैक्सिको सीमा से घुसपैठ रोकने के लिए ट्रम्प जो दीवार अमेरिका में बनवा रहे हैं, वह आंधी में गिर गई थी। 48 किमी की रफ्तार से आई आंधी ने इसे गिरा दिया। दीवारें गिर जाती हैं। खासकर तब जब वे जनभावना के विरुद्ध हों या सच पर परदा डालने के लिए हों। नमस्ते ट्रम्प।

Advertisement

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप कई प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से मन में राहत रहेगी। धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में महत्वपूर्ण...

और पढ़ें

Advertisement