पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • We Should Also Save, Save The Country, Save The World

हम भी बचें, देश भी बचाएं, जग को भी बचाएं

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार शाम कोरोना पर देश को संबोधित किया।
  • प्रधानमंत्री ने कहा- ''प्रत्येक देशवासी से समर्थन मांग रहा हूं। यह है जनता कर्फ्यू। यानी जनता के लिए, जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू। इस रविवार 22 मार्च को सुबह 7 से रात 9 तक सभी को इसका पालन करना है।''
Advertisement
Advertisement

प्यारे देशवासियों, पूरा विश्व इस समय संकट के बहुत बड़े गंभीर दौर से गुजर रहा है। आमतौर पर जब कभी कोई प्राकृतिक संकट आता है तो वो कुछ राज्यों या देशों तक सीमित रहता है। लेकिन, इस बार यह संकट ऐसा है, जिसने विश्वभर में पूरी मानव जाति को संकट में डाल दिया है। जब प्रथम विश्व युद्ध हुआ था, जब द्वितीय विश्व युद्ध हुआ था तब भी इतने देश युद्ध से प्रभावित नहीं हुए थे, जितने आज कोरोना की बीमारी से हैं। पिछले 2 महीने से हम निरंतर दुनियाभर से आ रहे कोरोना वायरस से जुड़ी चिंताजनक खबरें देख रहे हैं, सुन रहे हैं। इन दो महीनों में भारत के 130 करोड़ नागरिकों ने कोरोना जैसी वैश्विक महामारी का डटकर मुकाबला किया। सभी ने सावधानियां बरतने का भरसक प्रयास भी किया है। लेकिन, बीते कुछ दिनों से ऐसा लग रहा है, माहौल बन रहा है कि हम संकट से बचे रहेंगे। निश्चिंत हो जाने की यह सोच सही नहीं है। इसलिए प्रत्येक भारतवासी का सजग रहना, सतत रहना बहुत आवश्यक है।  आपसे मैंने जब भी और जो भी मांगा है, देशवासियों ने निराश नहीं किया है। ये आपके आशीर्वाद की कीमत है कि हम सभी मिलकर अपने निर्धारित लक्ष्यों की तरफ आगे बढ़ रहे हैं। आज हम 130 करोड़ देशवासियों से कुछ मांगने आए हैं। मुझे आपसे आपके आने वाले कुछ सप्ताह चाहिए, आने वाला कुछ समय चाहिए। अभी तक कोरोना महामारी से बचने के लिए विज्ञान कोई निश्चित उपाय नहीं सुझा सका है और न ही इसकी कोई वैक्सीन बन पाई है। ऐसी स्थिति में हर किसी की चिंता बढ़नी स्वाभाविक है। दुनिया के जिन देशों में कोरोना का वायरस और उसका प्रभाव ज्यादा देखा जा रहा है, वहां अध्ययन में एक और बात सामने आई है कि इन देशों में शुरुआती कुछ दिनों के बाद अचानक जैसे बीमारी का विस्फोट हुआ है। इन देशों में संक्रमितों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है। भारत सरकार इस वैश्विक महामारी के फैलाव के ट्रैक रिकॉर्ड पर पूरी तरह नजर रखे हुए है। भारत जैसे 130 करोड़ की आबादी वाले देश, वह देश जो विकास के लिए प्रत्यनशील हैं, उस पर कोरोना का यह संकट सामान्य बात नहीं है। आज जब बड़े-बड़े और विकसित देशों में हम इस वैश्विक महामारी का व्यापक प्रभाव देख रहे हैं तो भारत पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, यह मानना गलत है। इसलिए इसका मुकाबला करने के लिए 2 बातें बहुत महत्वपूर्ण हैं। पहला संकल्प और दूसरा संयम। आज 130 करोड़ देशवासियों को अपना संकल्प और दृढ़ करना होगा कि हम नागरिक के तौर पर अपने कर्तव्यों का पालन करेंगे। केंद्र और राज्य सरकारों के दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन करेंगे। हमें संकल्प लेना होगा कि हम खुद संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को संक्रमित होने से बचाएंगे। हम स्वस्थ तो जगत स्वस्थ। ऐसी स्थिति में जब इस बीमारी की कोई दवा नहीं है तो हमारा खुद का स्वस्थ बने रहना सबसे ज्यादा जरूरी है। इस बीमारी से बचने के लिए दूसरी अनिवार्यता है- संयम। संयम का तरीका क्या है- भीड़ से बचना, सोशल डिस्टेंसिंग। यह बहुत ही ज्यादा आवश्यक और कारगर है। हमारा संकल्प और संयम इस वैश्विक महामारी के प्रभाव को कम करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाला है। इसलिए अगर आपको लगता है कि आप ठीक हैं, आपको कुछ नहीं होगा, आप ऐसे ही मार्केट में घूमते रहेंगे और कोरोना से बचे रहेंगे तो यह सोच ठीक नहीं है। ऐसा करके आप अपने साथ और अपने परिवार के साथ अन्याय करेंगे। इसलिए मेरा सभी देशवासियों से आग्रह है कि आने वाले कुछ सप्ताह तक जब बहुत जरूरी हो तभी अपने घर से बाहर निकलें। जितना संभव हो सके, आप अपना काम अपने घर से ही करें। जो सरकारी सेवाओं में हैं, अस्पताल से जुड़े हैं, जनप्रतिनिधि हैं, मीडिया से जुड़े हैं, इनकी सक्रियता तो जरूरी है, लेकिन बाकी बचे लोगों को खुद को आइसोलेट कर लेना चाहिए। हमारे परिवार में जो भी 60-65 साल से ज्यादा उम्र के लोग हों, वे आने वाले कुछ सप्ताह तक घर से बाहर न निकलें। हो सकता है कि वर्तमान पीढ़ी कुछ पुरानी बातों से परिचित नहीं होगी। जब हम छोटे थे और जब युद्ध जैसी स्थिति होती थी तो गांव-गांव ब्लैकआउट कर दिया जाता था। शीशे पर भी कागज लगा दिया जाता था। लाइट बंद रखी जाती थी। रोज रातभर चौकी किया करते थे। युद्ध न हो तो भी साल में एक दो बार तो इसका ड्रिल भी करता था प्रशासन। इसलिए मैं आज प्रत्येक देशवासी से एक और समर्थन मांग रहा हूं। यह है जनता कर्फ्यू। जनता कर्फ्यू यानी जनता के लिए, जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू। इस रविवार यानी 2 दिन के बाद 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता कर्फ्यू का पालन करना है। इस जनता कर्फ्यू के दरम्यान कोई भी नागरिक घरों से बाहर न निकले, न सड़क पर जाए, न मोहल्ले में जमा हो। हां, जो आवश्यक कार्यों से जुड़े हुए हैं, उन्हें तो बाहर निकलना ही पड़ेगा। लेकिन, एक नागरिक के नाते न हम जाएं और न हम देखने के लिए जाएं। 22 मार्च को हमारा यह प्रयास, हमारा आत्मसंयम देशहित में कर्तव्य पालन के संकल्प का मजबूत प्रतीक होगा। हमारे देश में कई संगठन हैं, धार्मिक, सामाजिक, खेल....सबसे अनुरोध करूंगा कि अभी से लेकर रविवार तक इस जनता कर्फ्यू का संदेश लोगों तक पहुंचाएं और लोगों को जागरूक करें। आप यह भी कर सकते हैं कि हर दिन 10 नए लोगों को फोन करके उन्हें जनता कर्फ्यू की बात समझाएं। मेरे प्यारे देशवासियों, यह जनता कर्फ्यू हमारे लिए एक कसौटी की तरह होगा। यह कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई के लिए भारत कितना तैयार है, यह परखने और देखने का भी समय है। आपके इन प्रयासों के बीच जनता कर्फ्यू के दिन 22 मार्च को मैं आपसे एक और सहयोग चाहता हूं। साथियो, पिछले 2 महीने से लाखों लोग अस्पतालों में, दफ्तरों में, सड़क की गलियों में दिन-रात काम में जुटे हुए हैं। चाहे डॉक्टर हों, नर्सेज हों, हॉस्पिटल का स्टाफ हो, एयरलाइंस कर्मचारी हों, सरकारी कर्मचारी हों, पुलिसकर्मी हों, मीडियाकर्मी हों, रेलवे, बस, ऑटो सुविधा से जुड़े लोग हों, होम डिलीवरी करने वाले लोग हों। ये अपनी परवाह न करते हुए, दूसरों की सेवा में लगे हुए हैं। ये सेवाएं सामान्य नहीं कही जा सकती। ये खुद भी संक्रमित होने का खतरा मोल लेते हैं, लेकिन अपना कर्तव्य निभा रहे हैं। ये अपने आप में राष्ट्ररक्षक की तरह कोरोना महामारी और हमारे बीच में एक शक्ति बनकर खड़े हैं। देश ऐसे सभी छोटे-बड़े व्यक्तियों और संगठनों का कृतज्ञ है।  मैं चाहता हूं कि 22 मार्च को रविवार के दिन हम ऐसे सभी लोगों को धन्यवाद अर्पित करें। और धन्यवाद अर्पित करने का तरीका भी देश के एक-एक व्यक्ति को जोड़ सकता है। रविवार को यानी जनता कर्फ्यू के दिन शाम के ठीक 5 बजे हम अपने-अपने घर के दरवाजों पर या खिड़कियों, बॉलकनी में खड़े होकर 5 मिनट तक ऐसे लोगों का आभार व्यक्त करें। और आभार कैसे व्यक्त करेंगे- ताली बजाकर के, थाली बजाकर के, घंटी बजाकर के हम उनके प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करें। पूरे देश के स्थानीय प्रशासन से भी मेरा आग्रह है कि 22 मार्च को 5 बजे सायरन बजाकर इसकी सूचना लोगों तक पहुंचाएं। सेवा परमो धर्मः के हमारे संस्कारों को मानने वाले ऐसे देशवासियों के लिए हमें पूरी श्रद्धा के साथ अपने भाव व्यक्त करने चाहिए। संकट के इस समय में आपको यह भी ध्यान रखना है कि हमारी आवश्यक सेवाओं पर, हमारे हॉस्पिटलों पर दबाव बढ़ना नहीं चाहिए ताकि हमारी हॉस्पिटल की व्यवस्थाओं को, हमारे डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ को इस महामारी के लिए प्राथमिकता देने की सुविधा बने। इसलिए मेरा देशवासियों से आग्रह है कि रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल जाने की आदत से बचना चाहिए। आपको बहुत जरूरी लग रहा हो तो अपने जान-पहचान वाले डॉक्टर, फैमिली डॉक्टर या रिश्तेदारी वाले डॉक्टरों से फोन पर ही सलाह लें। अगर आपने ऐसे किसी सर्जरी की डेट ले रखी हो जो तत्काल जरूरी न हो तो इसे भी आगे बढ़वा दें। 1 महीने बाद की तारीख ले लें। इस महामारी का अर्थव्यवस्था पर भी व्यापक प्रभाव पड़ रहा है। कोरोना महामारी से उत्पन्न हो रही आर्थिक चुनौतियों के मद्देनजर सरकार ने केंद्रीय वित्त मंत्री के नेतृत्व में एक कोविड-19 इकोनॉमिक रिस्पॉन्स टास्क फोर्स बनाने का फैसला किया है। यह टास्क फोर्स सभी स्टेकहोल्डर्स से फीडबैक लेते हुए, हर परिस्थिति का आकलन करते हुए निकट भविष्य में फैसले लेगी। संकट के इस समय में मेरा देश के व्यापारी जगत, उच्च आय वर्ग से आग्रह है कि अगर संभव हो तो आप जिन-जिन लोगों से सेवाएं लेते हैं, उनके आर्थिक हितों का ध्यान रखें। हो सकता है कि आने वाले कुछ दिनों में ये लोग दफ्तर न आ पाएं, आपके घर न आ पाएं। ऐसे में उनका वेतन न काटें। पूरी मानवीयता और संवेदनशीलता के साथ फैसला लें। हमेशा याद रखिएगा कि उन्हें भी अपना परिवार चलाना है, अपने परिवार को बीमारी से बचाना है। मैं देशवासियों को इस बात के लिए भी आश्वस्त करता हूं कि देश में दूध, खाने-पीने के सामान, दवाइयां, जीवन के लिए जरूरी ऐसी आवश्यक चीजों की कमी न हो, इसके लिए तमाम कदम उठाए जा रहे हैं। ये सप्लाई कभी रोकी नहीं जाएगी। इसलिए मेरा आग्रह है कि जरूरी सामान संग्रह करने की होड़ मत लगाएं। साथियो, पिछले 2 महीने में 130 करोड़ भारतीयों ने, देश के हर नागरिक ने, देश के सामने आए संकट को अपना संकट माना है। भारत के लिए, समाज के लिए, देशवासियों से जो बन पड़ा है, किया है। हमें विश्वास है कि आने वाले समय में भी अपने कर्तव्यों का ऐसे ही निर्वाह करते रहेंगे। कुछ कठिनाइयां भी आती हैं। अफवाहों और आशंकाओं का वातावरण भी पैदा होता है। कई बार एक नागरिक के तौर पर हमारी अपेक्षाएं भी पूरा नहीं हो पाती हैं, फिर भी यह संकट इतना बड़ा और वैश्विक है। ऐसी स्थिति में सभी देशवासियों को इन दिक्कतों के बीच दृढ़ संकल्प के साथ इन कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। आज देश में केंद्र सरकार हो, राज्य सरकारें हों, स्थानीय निकाय हों, पंचायतें हों, जनप्रतिनिधि हों या सिविल सोसाइटी, हर कोई अपने-अपने तरीके से अपना योगदान दे रहा है। आपको भी अपना पूरा योगदान देना है। यह आवश्यक है कि इस महामारी के खिलाफ मानव जाति विजयी हो, भारत विजयी हो।   आने वाले कुछ दिन में नवरात्रि का पर्व आ रहा है। ये शक्ति उपासना का पर्व है। भारत पूरी शक्ति के साथ आगे बढ़े, इस संकल्प को लेकर, आवश्यक संयम का पालन करते हुए आओ, हम भी बचें, देश भी बचाएं, जग को भी बचाएं। फिर एक बार आग्रह करूंगा जनता कर्फ्यू के लिए, सेवा करने वालों के धन्यवाद के लिए। आपका भी बहुत-बहुत धन्यवाद।

Advertisement

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप कई प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से मन में राहत रहेगी। धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में महत्वपूर्ण...

और पढ़ें

Advertisement