करंट इश्यू / पुलिस में कम महिलाएं होना संतुलन के लिए हानिकारक



Less women in police, harmful for balance, current issue, article
X
Less women in police, harmful for balance, current issue, article

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2019, 12:11 AM IST

देश की पुलिस फोर्स में महिलाओं की मौजूदगी आज भी सिर्फ 7% है। हाल ही में रिलीज इंडिया जस्टिस रिपोर्ट 2019 के मुताबिक पुलिस फोर्स में ऑफिसर स्तर पर तो केवल 6% महिलाएं हैं। यह उस समय जब राज्यों ने उनकी संख्या को हर साल 1% से बढ़ाने का वादा किया है। महिलाओं को 33% आरक्षण के लक्ष्य तक पहुंचने में इस हिसाब से दशकों लग जाएंगे।

 

ये आंकड़े इसलिए अहम हैं क्योंकि महिलाओं का पुलिस में होना पुलिस की क्षमता को प्रभावित करता है। जरूरत है कि हमारी सरकारों को पुलिसिंग में महिलाओं की अहमियत याद दिलाई जाए और यह भी बताया जाए कि आरक्षण के 33% के लक्ष्य को पूरा करने के लिए कड़े कदम उठाने होंगे। पुलिस सर्विस में समाज के हर तबके की नुमाइंदगी जरूरी है। फिर चाहे वह महिला-पुरुष हों या अलग-अलग धर्मों केे लोग। किसी एक समुदाय या जेंडर का वर्चस्व पुलिस के कामकाज से जुड़े संतुलन के लिए खतरनाक है। ऐसा होना महिलाओं और बच्चों के साथ न्याय की संभावना को भी कमजोर करता है।

 

संयुक्त राष्ट्र के 39 देशों के आंकड़ों के मुताबिक पुलिस में महिलाओं के होने का सीधा और सकारात्मक असर महिलाओं के खिलाफ दुष्कर्म के मामलों की शिकायतों और ऐसे गुनाहों के अपराधियों के खिलाफ सजा पर पड़ता है। स्टडी के मुताबिक, महिलाओं का होना पुलिस थानों के माहौल पर भी अच्छा प्रभाव डालता है। महिला पुलिस शारीरिक सख्ती का इस्तेमाल कम करती हैं और कम्युनिकेशन की बदौलत हिंसक हालात से निपट लेती हैं। यही वजह है कि उनके रहते पुलिस की दरिंदगी जैसे मामले कम होते हैं। यह संभव होगा जब इस पर भी ध्यान दिया जाए कि जो महिलाएं पुलिस फोर्स में हैं वह नौकरी छोड़कर न जाएं।

 

चौंकाने वाली बात है कि देश में सभी सरकारी नौकरियों में पुलिस की नौकरी छोड़कर जाने वाली महिलाओं की संख्या सबसे ज्यादा है। इसलिए जो सबसे जरूरी है कि पुलिस फोर्स को महिलाओं के लायक बनाया जाए। पुलिस स्टेशन में कम से कम उनके लिए अलग शौचालय बनें। उनकी ड्यूटी को 100 नंबर पर आने वाले फोन का जवाब देने, एंट्री करने और महिला बटालियन-यूनिट संभालने तक सीमित न किया जाए। महिलाओं के लिए सुरक्षित देश को जरूरत है सशक्त और समर्थ महिला पुलिस की जिसके लिए लक्ष्य सिर्फ आरक्षण का आंकड़ा पूरा करना न हो।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना