करंट इश्यू / बेटियों की सुरक्षा में कोताही के प्रति हो जीरो टॉलरेंस

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2020, 12:35 AM IST

कभी पाकिस्तान की संसद में जाने का मौका मिले तो महिला सांसदों की संख्या (कुल 20 प्रतिशत महिला आरक्षण है) देखकर लगेगा कि दुनिया में सबसे ज्यादा महिला हित की चेतना इसी देश में है। लेकिन, इसी देश की लाखों लड़कियां सबसे बड़ी जरूरत शिक्षा और स्वास्थ्य से महरूम हैं, क्योंकि आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान-ए-पाकिस्तान का ‘फाटा’ क्षेत्र में फरमान है कि लड़कियां केवल घर में पढ़ेंगी और पुरुष डॉक्टर लड़कियों के शरीर को स्पर्श नहीं करेंगे। लिहाजा यहां नारी स्वतंत्रता केवल अभिजात्य वर्ग तक सीमित है।

कमजोर वर्ग की पाकिस्तानी महिलाएं जानवरों से भी बदतर जीवन जीती हैं। दूसरी तरफ भारत में मंचों से, विधायिकाओं में और आलेखों के जरिये हम सभी ‘नारी मुक्ति’ की बात तो करते हैं, लेकिन राजनीतिक वर्ग के लिए देश की यह आधी आबादी अब भी ‘वोटिंग ब्लॉक’ नहीं है, लिहाजा वैसी गंभीरता नहीं दिखाई देती, जिसकी जरूरत है। निर्भया कांड हो, हैदराबाद का दिशा दुष्कर्म कांड या महिलाओं के प्रति अन्य अपराध, सभी में सरकारी तंत्र की असंवेदनशीलता की कहीं न कहीं गुनाहगार रही है।

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में पिछले साल अगस्त में एक 15 वर्षीय छात्रा से स्कूल से लौटते वक्त गांव के ही संपन्न युवक ने बलात्कार किया, लेकिन पुलिस के कोई केस दर्ज नहीं किया। तीन दिन बाद बमुश्किल जब केस दर्ज हुआ तो अभियुक्त फरार हो गया। पिछले सप्ताह उसने लड़की और उसके पिता को कुछ गुर्गों के साथ रात में घर आकर धमकी दी। इस पर लड़की का पिता थाने गया तो पुलिस ने डांटकर भगा दिया। दो दिन पहले उस दुष्कर्मी ने लड़की के पिता की हत्या कर दी और अब वह लड़की अनाथ है।

सवाल यह है कि क्या वह सालों तक चलने वाले मुकदमे में इस हत्यारे व दुष्कर्मी को सजा दिलवाने की हिम्मत कर पाएगी? क्या किसी सभ्य समाज में लड़कियों की ऐसी स्थिति के बाद भी मेरा भारत महान कहा जा सकता है? अगर सरकारी तंत्र ऐसी लापरवाही और आपराधिक मिलीभगत करेगा तो फिर नारी मुक्ति, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के नारे बेकार हैं। लड़कियों की शिक्षा की योजनाएं सफल हों, इसके लिए जरूरी है कि उनकी सुरक्षा में कोताही के खिलाफ जीरो-टोलरेंस हो। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना