पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Opinion
  • If You Are Restless From Outside Conditions, The Collective 'hum' Will Make The Sadness Go Away

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम:बाहर की स्थितियों से बेचैन हैं तो सामूहिक रूप से ‘ऊं’ का गुंजन करेगा उदासी दूर

16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पं. विजयशंकर मेहता - Dainik Bhaskar
पं. विजयशंकर मेहता

निर्जीव देह तो शव होती ही है, पर क्या दिन देखने को मिले कि सजीव देह भी लाश जैसी कर दी गई। हर सूचना, हर समाचार तीर की तरह चुभ रहा है अवाम की छाती पर। जिन लोगों से राहत की उम्मीद की जाना थी, वे झूठ बोलने के नए-नए तरीके खोजने में लगे हैं। यदि ऐसा ही चला तो एक दिन असत्य यह कहने वाला है कि मैं भी थक चुका हूं तुम्हारी कुटिल चालों से। मुझे मुक्त करो और जाओ, सत्य का आधार लेकर मानवता की सच्ची सेवा करो। खैर, कब तक रोते रहेंगे दुनियादारी को। चलिए, कुछ आध्यात्मिक उपचार भी करते हैं।

बाहर जब हालात बदतर हों, तो भीतर दृष्टि बदलना होगी। शास्त्रों में कहा गया है हमारे भीतर का जो भाव, जो दृष्टि होती है, बाहर हम वैसी ही सृष्टि देखते हैं। यह सही है कि अभी बाहर का वातावरण बहुत पीड़ादायक है, लेकिन यदि भीतर आनंद ढूढेंगे तो शायद बाहर भी एक साहस का जन्म होगा। अब घरों में ‘ऊं’ का सामूहिक उच्चारण किया जाना चाहिए। ‘ऊं’ एक ध्वनि है। जीवन की ध्वनि। .

इसे केवल शब्द न मानें। शास्त्रों ने तो इसे ईश्वर का प्रतीकात्मक शब्द बताया है। सबके अपने ढंग होंगे आंतरिक ऊर्जा के लिए। परंतु यह सबसे सरल तरीका है, जो लगभग प्रत्येक धर्म में मान्य है। बाहर की स्थितियों से बेचैन हैं और उस उदासी को भीतर नहीं लाना चाहते तो सामूहिक रूप से ‘ऊं’ का गुंजन अवश्य करिए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

और पढ़ें