पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Opinion
  • If You Do Regular Yoga, First Of All You Will Be Able To Assess Your Own Mismanagement, You Will Be Able To Overcome It.

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम:नियमित योग करेंगे तो सबसे पहले अपने ही कुप्रबंधन का आकलन कर पाएंगे, उसे दूर करने में समर्थ हो पाएंगे

3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पं. विजयशंकर मेहता - Dainik Bhaskar
पं. विजयशंकर मेहता

बड़े कबाड़ी हैं हम सब। स्मृतियों, घटनाओं, अफवाहों का कबाड़ इकट्ठा करते रहते हैं अपने मन-मस्तिष्क में। फिर, धीरे-धीरे परेशान होने लगते हैं। कुछ लोग तो इसमें बहुत माहिर हैं। अफवाह को सच बनाने में उन्हें ऐसा लगता है जैसे बड़े विद्वान हों, दीर्घ अनुभवी हों। आम आदमी इनकी चपेट में आ भी जाता है।

हमारे राजनेता तो बिन मौसम मल्हार गाने में पारंगत हैं ही। या तो वे खुद कलाकार होते हैं, या ऐसे कलाकार अपने साथ रखते हैं जो उनके शब्दों को अफवाह में या अफवाह को सच में बदल दें। लेकिन, याद रखिए, अफवाहें किसी खतरनाक वायरस जैसी होती हैं। यह दौर सच और अफवाह में फर्क खत्म करने का है। इसलिए सावधान हमें ही होना पड़ेगा। हम लोग बड़ी आसानी से राजव्यवस्था को कोस लेते हैं, उसमें खोट निकाल देते हैं, लेकिन कुप्रबंधन केवल सत्ता स्तर पर ही नहीं है। यह व्यक्तिगत स्तर पर भी है।

एक कुप्रबंधन हम अपने भीतर भी चला रहे होते हैं, और शायद ही ऐसी कोई वैक्सीन बने जो हमारे इस कुप्रबंधन को मिटा सके। पर हां, व्यक्तिगत रूप से ऐसा वैक्सीन बन सकती है, जिसका नाम है योग। नियमित योग करेंगे तो सबसे पहले अपने ही कुप्रबंधन का आकलन कर पाएंगे, उसे दूर करने में समर्थ हो पाएंगे। यदि हमने स्वयं का कुप्रबंधन दूर कर दिया, तो राजव्यवस्था का कुप्रबंधन काफी हद तक सुधर जाएगा।

खबरें और भी हैं...