पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Opinion
  • Om Shanti Shanti Means The Peace That Comes When Deep Understanding Develops

जयप्रकाश चौकसे का कॉलम:ओम शांति-शांति का अर्थ वह शांति है, जो गहरी आपसी समझ के विकसित होने पर आती है

7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जयप्रकाश चौकसे, फिल्म समीक्षक - Dainik Bhaskar
जयप्रकाश चौकसे, फिल्म समीक्षक

हॉलीवुड की एक फिल्म का नाम है ‘गैंग्स ऑफ न्यूयॉर्क’। फिल्मकार अनुराग कश्यप की हिंदी भाषा में बनी फिल्म का नाम है, ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’। इस फिल्म में प्रस्तुत एक कस्बे के सारे लोग एक ही धर्म के अनुयायी हैं और सारे ही अपराधी भी हैं। इस तरह संविधान की धर्मनिरपेक्षता की बुनियादी बात को तोड़ने का प्रयास इस फिल्म में किया गया है।

इसी फिल्मकार की फिल्म ‘गुलाल’ में यह प्रस्तुत किया गया है कि भूतपूर्व राजे-महाराजे एक सेना गठित करके दिल्ली पर आक्रमण करना चाहते हैं। अंग्रेजों के दौर में बने इस कानून का दुरुपयोग अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ किया जा रहा है।

आजकल ‘गैंग्स ऑफ मेवात’ फिल्म चर्चा में है । यह फिल्म ही नहीं बस यथार्थ है। यह दल पहले ऐतिहासिक वस्तुओं को बाजार में बेचते थे। दरअसल वे सारी वस्तुएं असली नहीं हैं। इस तरह एक साहसी की तलवार एक दर्जन बार बेची गई। इस तरह की चीजें अवैध कारखाने में बनाई जाती हैं। यही नहीं फिल्म ‘मुगल-ए-आजम’ में अकबर द्वारा पहना गया जिरहबख्तर बाजार में कई बार बेचा गया। सब बाद में बनाए गए नकली थे। सुना तो यह भी है कि ताजमहल को बेचने के प्रयास भी हुए हैं।

आजकल यह नया गैंग अपने दल के कमसिन से दिखने वाले सदस्य के साथ किसी अमीर लंपट की तस्वीरें लेकर उनसे रकम ठगता है। इस तरह देखा जाए तो लंपटता नए-नए बाजार रचती है। गौरतलब है कि इंदौर में एक अमीर आदमी ने अपना रहने का भवन, राजस्थान के राजभवन की तरह बनाने में 12 वर्ष का समय लगा दिया। गोया की राजस्थान अनूठे ढंग से पूरे भारत में अभिव्यक्त होता है। राजस्थानी पकवान दाल-बाटी ने मालवा में दाल-बाफले का स्वरूप धारण किया, जिसमें उन्होंने घी के पीपे डाल दिए।

राजस्थानी लोक गीत से प्रेरित रचनाएं, फिल्मों में बहुत बार प्रस्तुत की गईं हैं। टेलीविजन पर प्रस्तुत ‘बंदिश बेंडिट’ में राजस्थानी संगीत ही कथा का आधार है। फिल्मकार जेपी दत्ता ने अपनी लगभग सभी फिल्मों की कुछ शूटिंग राजस्थान में की है। यश चोपड़ा की फिल्म ‘लम्हे’ का कुछ हिस्सा राजस्थान में शूट किया गया है। राजस्थान की पारंपरिक कहानियों से प्रेरित लेखक विजयदान देथा की अनेक रचनाएं फिल्माई गई हैं। उनकी एक रचना से प्रेरित अमोल पालेकर की फिल्म ‘पहेली’ में अमिताभ बच्चन ने महत्वपूर्ण पात्र अभिनीत किया है।

बहरहाल, राजस्थान का बड़ा भाग रेगिस्तान है। हवाई जहाज से रेगिस्तान का चित्र लें तो रेगिस्तान समुद्र जैसा लगता है। रेगिस्तान में एक जगह ऊंचा टीला नजर आता है तो कुछ ही क्षणों में हवा, रेत को उड़ाकर कहीं और टीला बना देती है। रेगिस्तान में पानी का भ्रम भी पैदा होता है। रेगिस्तान में ऊंट पर बैठ कर यात्रा की जाती है। ऊंट को रेगिस्तान का जहाज भी कहा जाता है। इस तरह रेगिस्तान भी विविधता लिए हुए है। आप कहां-कहां विविधता को मिटाकर संकीर्णता ला पाएंगे? फिल्मकार संजय खान ने फिल्म ‘अब्दुल्ला’ की शूटिंग राजस्थान में की थी।

राजकुमार हिरानी भी आमिर खान अभिनीत फिल्म ‘पी.के’ की कुछ शूटिंग वहां कर चुके हैं। गौरतलब है कि जयपुर में साहित्य उत्सव मनाया जाता रहा है। अजमेर में भी यह परंपरा रही है। ईला अरुण राजस्थानी लोक गीत, खूब रमकर गाती हैं और उनकी आवाज का जादू चलता रहा है।

राजस्थान की सरहद पाकिस्तान, महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश को छूती है। राजस्थान में भारतीय वायु सेना के लिए बनाई गई हवाई पट्टी भी है। इस स्थान से मिनटों में ही पाकिस्तान पर आक्रमण किया जा सकता है। वर्तमान में दोनों देशों के बीच युद्ध नहीं छिड़ सकता क्योंकि दोनों के पास अणु बम है। इस तरह कभी-कभी घातक शस्त्र भी शांति स्थापित करते हैं।