• Hindi News
  • Opinion
  • Pt. Vijayshankar Mehta's Column Stay Connected With 5 G, Then That 5 G Of The World Of Technology Will Benefit And The Loss Will Be Less.

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम:5-जी से जुड़े रहिए तो तकनीक की दुनिया की वो 5-जी फायदा पहुंचाएगी और नुकसान कम होगा

22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पं. विजयशंकर मेहता - Dainik Bhaskar
पं. विजयशंकर मेहता

तकनीकी दुनिया में इन दिनों 5-जी की बड़ी चर्चा है। कहा जा रहा है कि ये अब नई गीगा बाइट क्रांति लाएगी। जानकार लोग कह रहे हैं कि रियल टाइम एक्सपीरियंस बढ़ जाएगा। लेकिन इसके खतरे भी साथ में आएंगे। इसलिए एक 5-जी धार्मिक दृष्टि से भी देखी जाए। और वो हैं पंच ग्रंथ।

ये हिन्दू धर्म के ज्ञान के आधार हैं। इसमें सबसे पहले वेद है। इसे हम सुप्रीम कोर्ट भी कह सकते हैं। यह श्रुति ग्रंथ हैं। उपनिषद् भी इसी में आते हैं। दूसरे स्मृति ग्रंथ हैं जिनमें गीता है। तीसरे प्रकार के ग्रंथ हैं इतिहास, रामायण और महाभारत। चौथे ग्रंथ हैं पुराण और पांचवें हैं साधु-संत और गुरुजनों के वचन।

इस 5-जी से भी जुड़े रहिए तो तकनीक की दुनिया की वो 5-जी फायदा पहुंचाएगी और नुकसान कम होगा। लेकिन अगर ग्रंथों के 5-जी को भूल गए तो उसके नुकसान की भरपाई भविष्य में मुश्किल हो सकती है। करंट बह रहे तार को पकड़ना हो तो लोग रबर के दस्ताने और पैर में भी सुरक्षा के लिए साधन पहन लेते हैं। ऐसी ही सावधानी नई 5-जी के लिए पुरानी 5-जी की रखी जाए।