पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Opinion
  • Take The Words In Life In Two Ways, Whether For Experience Or As A Machine; Without Them There Can Be No Welfare

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम:शब्दों को दो तरह से जीवन में उतारें, चाहे अनुभव के लिए या यंत्र के रूप में; इनके बिना कल्याण नहीं हो सकता

21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पं. विजयशंकर मेहता - Dainik Bhaskar
पं. विजयशंकर मेहता

इन दिनों फिर बार-बार अलग-अलग ढंग से समझाया जा रहा है कि मॉस्क पहनिए, दूरी रखिए। कुछ लोग यह सब सुन-सुनकर ऊब चुके होंगे। लेकिन, यह भी सही है कि ज्ञान दिया नहीं जा सकता, पाया जा सकता है। जिम्मेदार लोग जो सावधान रहने का ज्ञान दे रहे हैं, सचमुच यह कोई नहीं दे सकता।

हां, तैयारी यदि पाने की है, तो आप उसे पा सकते हैं। मॉस्क, वैक्सीन, सोशल डिस्टेंसिंग। ये सामान्य शब्द नहीं हैं। खासकर इस महामारी के दौर में हम शब्दों को दो तरह से जीवन में उतार सकते हैं। एक तो इनको जीवन से ऐसे जोड़ें कि कुछ अनुभव बढ़ जाए। क्योंकि शब्द अनुभव भी दे जाते हैं। दूसरा, शब्दों को यंत्र बना लीजिए। फकीरो ने कहा है, ‘यही बड़ाई शब्द की, जैसे चुंबक भाय। बिना शब्द नहिं ऊबरै, केता करै उपाय।’

सत्य और न्याय के ठोस शब्दों की महिमा चुंबक व लोहे के समान है। जैसे चुंबक लोहे को अपनी ओर खींचता है, वैसे ही सत्य-ज्ञान के शब्द आपको अपनी ओर आकर्षित करेंगे। इन शब्दों के बिना कल्याण हो भी नहीं सकता।

इसलिए अच्छे शब्दों को अपने भीतर ठीक से जगह दें। चाहे अनुभव के लिए या यंत्र के रूप में। जैसे मॉस्क एक यंत्र है, पर लोग इसका भी दुरुपयोग कर रहे हैं। इन शब्दों को, जिनके पीछे समझाइश है, चेतावनी है, हल्के में लेने की गलती न करें।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने के लिए प्रयासरत रहेंगे। घर में किसी नवीन वस्तु की खरीदारी भी संभव है। किसी संबंधी की परेशानी में उसकी सहायता करना आपको खुशी प्रदान करेगा। नेगेटिव- नक...

और पढ़ें