पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Opinion
  • The Person Who Passes Away, Remember His Virtues, Forget The Demerits.

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम:जो व्यक्ति चला जाता है, हो सके तो उसके गुण याद रखो, दुर्गुणों को भुला दो

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पं. विजयशंकर मेहता - Dainik Bhaskar
पं. विजयशंकर मेहता

संवेदनशील व्यक्ति दूसरों के दुख को अच्छे से समझ लेता है। जब हम किसी अन्य का दुख अपनी आत्मा पर लाते हैं, तब कहीं संवेदना का जन्म होता है। बड़े भाई रावण को मरा देखकर विभीषण दुखी हो जाते हैं। राम यह दृश्य देख रहे थे। उन्होंने छोटे भाई लक्ष्मण से कहा- जाओ, विभीषण को धैर्य बंधवाओ। तब लक्ष्मण विभीषण को समझाते हुए उन्हें श्रीराम के पास ले आते हैं।

यहां तुलसीदासजी ने लिखा- ‘कृपादृष्टि प्रभु ताहि बिलोका। करहु क्रिया परिहरि सब सोका।’ राम ने बड़ी कृपा भरी दृष्टि से विभीषण को देखा और कहा- अब सारे शोक त्यागकर रावण की अंतेष्टि क्रिया कीजिए। रावण की मृत्यु पर विभीषण दुखी तो थे, लेकिन उन्होंने यह भी कह दिया था कि मैं अंतिम क्रिया नहीं करूंगा। मतलब रावण को लेकर कहीं न कहीं उनके मन में विरोध था।

तब राम ने समझाया था- विभीषण, जो व्यक्ति चला जाता है, हो सके तो उसके गुण याद रखो, दुर्गुणों को भुला दो। मृतक की आलोचना नहीं करना चाहिए। यदि शत्रु मर जाए तो हमारे विजयी भाव को और अधिक परिपक्व करना चाहिए। विभीषण का दुख श्रीराम ने बहुत अच्छे-से समझा और उनकी दुख की जो प्रतिक्रिया थी, उसे ठीक करते हुए हमें भी समझाया कि जीवन में जब दुख आए तो उसे दूसरे के प्रति रोष बनाकर व्यक्त न किया जाए।