न्यूज़ इन फोटो

छत्तीसगढ़ / बुरे कर्माें की मिलती है सजा, इस थीम पर बनाई बप्पा की झांकी

X
रायपुर के गुढ़ियारी स्थित गणेश पंडाल में समाज में लोगों द्वारा किए जाने वाले बुरे कामों को दिखाया गया है। साथ ही उन कर्माें की नर्क लोक में मिलने वाली सजा को भी झांकी में दिखाया गया है।रायपुर के गुढ़ियारी स्थित गणेश पंडाल में समाज में लोगों द्वारा किए जाने वाले बुरे कामों को दिखाया गया है। साथ ही उन कर्माें की नर्क लोक में मिलने वाली सजा को भी झांकी में दिखाया गया है।
इस दृश्य में लूट और हत्या करने वालों को कैसे नर्क में अपने कर्माें का फल भुगतना पड़ता है यह दिखाया गया है। लोगों को बुरे काम न करने का संदेश देती 20 झांकियां बनाई गई हैं।इस दृश्य में लूट और हत्या करने वालों को कैसे नर्क में अपने कर्माें का फल भुगतना पड़ता है यह दिखाया गया है। लोगों को बुरे काम न करने का संदेश देती 20 झांकियां बनाई गई हैं।
समाज में शराबखोरी एक बड़ी समस्या है इसे के प्रति लोगों को जागरूक करने की कोशिश यहां कलाकारों ने की है। 50 से अधिक कलाकारों ने 4 महीने की मेहनत के बाद इन झाकियों को तैयार किया है।समाज में शराबखोरी एक बड़ी समस्या है इसे के प्रति लोगों को जागरूक करने की कोशिश यहां कलाकारों ने की है। 50 से अधिक कलाकारों ने 4 महीने की मेहनत के बाद इन झाकियों को तैयार किया है।
शराब पीने वालों का हाल नर्क में कुछ ऐसा किया जाता है। लोग यहां आकर इस तरह की झांकी को देख अच्छा अनुभव कर रहे हैं। दिलचस्प अंदाज में प्रस्तुत की गई झांकी चर्चा का विषय बनी हुई है।शराब पीने वालों का हाल नर्क में कुछ ऐसा किया जाता है। लोग यहां आकर इस तरह की झांकी को देख अच्छा अनुभव कर रहे हैं। दिलचस्प अंदाज में प्रस्तुत की गई झांकी चर्चा का विषय बनी हुई है।
गौ हत्या देश भर में सुलगता हुआ मुद्दा है। इससे जुड़ी जागरूकता को भी झांकी का हिस्सा बनाया गया है। पूरी झांकी को तैयार करने में 30 लाख रूपए खर्च हुए हैं।गौ हत्या देश भर में सुलगता हुआ मुद्दा है। इससे जुड़ी जागरूकता को भी झांकी का हिस्सा बनाया गया है। पूरी झांकी को तैयार करने में 30 लाख रूपए खर्च हुए हैं।
हिंदु मान्यता में मृत्यु के बाद इंसान कर्माें के हिसाब से नर्क या स्वर्ग में जगह पाता है। इन्हीं के आधार पर झांकी को तैयार किया गया है। इन्हें देखने हर रोज हजारों की तदाद में लोग पहुंच रहे हैं।हिंदु मान्यता में मृत्यु के बाद इंसान कर्माें के हिसाब से नर्क या स्वर्ग में जगह पाता है। इन्हीं के आधार पर झांकी को तैयार किया गया है। इन्हें देखने हर रोज हजारों की तदाद में लोग पहुंच रहे हैं।
आज के दौर में मोबाइल फोन पर बच्चों का समय पढ़ाई के मुकाबले ज्यादा बीतता है। इसे भी झांकी का हिस्सा बनाया गया है। यहां बच्चे पढ़ना छोड़ कंप्यूटर और मोबाइल में मशगूल हैं।आज के दौर में मोबाइल फोन पर बच्चों का समय पढ़ाई के मुकाबले ज्यादा बीतता है। इसे भी झांकी का हिस्सा बनाया गया है। यहां बच्चे पढ़ना छोड़ कंप्यूटर और मोबाइल में मशगूल हैं।
इस नजारे को देख यहां आने वाले पैरेंट्स और बच्चे मुस्कुराने से खुद को नहीं रोक पाते। झांकी के इस हिस्से को दिखाकर पैरेंट्स बच्चों से कहते है अब पढ़ाई पर ध्यान देना शुरू कर दो। लोग झांकी के इस हिस्से के साथ सेल्फी क्लिक करते हैं।इस नजारे को देख यहां आने वाले पैरेंट्स और बच्चे मुस्कुराने से खुद को नहीं रोक पाते। झांकी के इस हिस्से को दिखाकर पैरेंट्स बच्चों से कहते है अब पढ़ाई पर ध्यान देना शुरू कर दो। लोग झांकी के इस हिस्से के साथ सेल्फी क्लिक करते हैं।
इन झांकियों को रायपुर से दूर अंजोरा की वर्कशॉप में तैयार किया गया। करीब एक महीने पहले से गुढ़ियारी के पंडाल में सेटअप तैयार किया जा रहा था। इसके बाद यहां स्वर्ग और नर्क की थीम पर डेकोरेशन किया गया।इन झांकियों को रायपुर से दूर अंजोरा की वर्कशॉप में तैयार किया गया। करीब एक महीने पहले से गुढ़ियारी के पंडाल में सेटअप तैयार किया जा रहा था। इसके बाद यहां स्वर्ग और नर्क की थीम पर डेकोरेशन किया गया।
इन झांकियों को तैयार करने वाली टीम के देवानंद साहू ने बताया कि इन झांकी को प्रदर्शित करने का मकसद इंसान को अच्छाई की राह पर लाना है।इन झांकियों को तैयार करने वाली टीम के देवानंद साहू ने बताया कि इन झांकी को प्रदर्शित करने का मकसद इंसान को अच्छाई की राह पर लाना है।
महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराधों को भी झांकी का हिस्सा बनाया गया है। हर बार गुढ़ियारी के इस पंडाल में झांकियों को लेकर लोगों में खासा उत्साह रहता है।महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराधों को भी झांकी का हिस्सा बनाया गया है। हर बार गुढ़ियारी के इस पंडाल में झांकियों को लेकर लोगों में खासा उत्साह रहता है।
अपनी बहुओं के साथ बुरा बरताव करने वाले ससुराल वालों को कुछ यूं नर्क में सजा दी जाती है। झांकि के अलावा यहां एक छोटे मेले का भी आयोजन किया गया है।अपनी बहुओं के साथ बुरा बरताव करने वाले ससुराल वालों को कुछ यूं नर्क में सजा दी जाती है। झांकि के अलावा यहां एक छोटे मेले का भी आयोजन किया गया है।
झांकी के साथ ही लोग यहां मेले में कई तरह की चीजों की शॉपिंग और स्ट्रीट फूड का भी लुत्फ ले रहे हैं। झांकी के इस हिस्से में राजनेताओं के बारे में दिखाया गया है।झांकी के साथ ही लोग यहां मेले में कई तरह की चीजों की शॉपिंग और स्ट्रीट फूड का भी लुत्फ ले रहे हैं। झांकी के इस हिस्से में राजनेताओं के बारे में दिखाया गया है।
लोगों से झूठे वादे करने वाले नेताओं का भी बुरा अंजाम नर्क में होता दिखाया गया है। इन झांकियों को देखने लोगों की भीड़ देर रात तक यहां जुट रही है।लोगों से झूठे वादे करने वाले नेताओं का भी बुरा अंजाम नर्क में होता दिखाया गया है। इन झांकियों को देखने लोगों की भीड़ देर रात तक यहां जुट रही है।
झांकी के एक हिस्से में भगवान गणेश स्थापित हैं। लोग इनके दर्शन करते हुए आगे बढ़ते हैं। एक गुफा की तरह पंडाल को बनाया गया है।झांकी के एक हिस्से में भगवान गणेश स्थापित हैं। लोग इनके दर्शन करते हुए आगे बढ़ते हैं। एक गुफा की तरह पंडाल को बनाया गया है।
आखिर में स्वर्ग लोक भी दिखाया गया है। जहां अच्छे कर्म करने वाले पहुंच पाते हैं। इंसान हमेशा जीवन में अच्छे कर्म ही करे इसका संदेश यहां दिया गया है।आखिर में स्वर्ग लोक भी दिखाया गया है। जहां अच्छे कर्म करने वाले पहुंच पाते हैं। इंसान हमेशा जीवन में अच्छे कर्म ही करे इसका संदेश यहां दिया गया है।
COMMENT