न्यूज़ इन फोटो

भोपाल / कैंसर सरवायवर्स मिलन समारोह में पहुंचीं ताहिरा कश्यप खुराना

X
जवाहर लाल नेहरू कैंसर अस्पताल एवं अनुसंधान केंद्र की सिल्वर जुबली पर मिंटो हॉल में कार्यक्रम का आयोजन किया गया।जवाहर लाल नेहरू कैंसर अस्पताल एवं अनुसंधान केंद्र की सिल्वर जुबली पर मिंटो हॉल में कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
कैंसर सर्वाइवर ताहिरा कश्यप खुराना ने इस मौके पर कैंसर को मात देने का अपना मंत्र साझा किया।कैंसर सर्वाइवर ताहिरा कश्यप खुराना ने इस मौके पर कैंसर को मात देने का अपना मंत्र साझा किया।
इस दौरान ताहिरा से बतौर एंकर बात की हॉस्पिटल की ऑन्कोसर्जन डॉ. नीलू मल्होत्रा ने उनसे बात की।इस दौरान ताहिरा से बतौर एंकर बात की हॉस्पिटल की ऑन्कोसर्जन डॉ. नीलू मल्होत्रा ने उनसे बात की।
इस दौरान ताहिरा से बतौर एंकर बात की हॉस्पिटल की ऑन्कोसर्जन डॉ. नीलू मल्होत्रा ने बात की।इस दौरान ताहिरा से बतौर एंकर बात की हॉस्पिटल की ऑन्कोसर्जन डॉ. नीलू मल्होत्रा ने बात की।
आज 10 जनवरी 2020 की तारीख तक मैंने यह सवाल खुद से नहीं पूछा है। मेरा तरीका यह था कि चैलेंज को एक चैलेंज की तरह लो और अपना बेस्ट सामने लाओ।आज 10 जनवरी 2020 की तारीख तक मैंने यह सवाल खुद से नहीं पूछा है। मेरा तरीका यह था कि चैलेंज को एक चैलेंज की तरह लो और अपना बेस्ट सामने लाओ।
दो दिवसीय इस समारोह के पहले दिन मिंटो हॉल में 'कॉफी विद ताहिरा कश्यप खुराना' का विशेष सत्र रखा गया।दो दिवसीय इस समारोह के पहले दिन मिंटो हॉल में 'कॉफी विद ताहिरा कश्यप खुराना' का विशेष सत्र रखा गया।
ताहिरा ने कहा कि हम मुश्किल हालात से निपटकर ही बेहतर इंसान बनते हैं।ताहिरा ने कहा कि हम मुश्किल हालात से निपटकर ही बेहतर इंसान बनते हैं।
मैं बुद्धिज्म को फॉलो करती हूं- जो बताता है कि अगर कोई समस्या आई है तो मुझे कुछ सिखाने आई है।मैं बुद्धिज्म को फॉलो करती हूं- जो बताता है कि अगर कोई समस्या आई है तो मुझे कुछ सिखाने आई है।
समारोह में बड़ी संख्या में कैंसर सरवायवर्स, कैंसर मरीज और उनके परिजन शामिल हुए।समारोह में बड़ी संख्या में कैंसर सरवायवर्स, कैंसर मरीज और उनके परिजन शामिल हुए।
इस मौके पर कैंसर सर्वाइवर के हस्ताक्षर के लिए एक बोर्ड रखा गया था।इस मौके पर कैंसर सर्वाइवर के हस्ताक्षर के लिए एक बोर्ड रखा गया था।
यहां पर सभी सर्वाइवर ने अपने हस्ताक्षर किए और कार्यक्रम में शामिल हुए।यहां पर सभी सर्वाइवर ने अपने हस्ताक्षर किए और कार्यक्रम में शामिल हुए।
ताहिरा ने कहा कि कैंसर पीड़ित होने के समय में किसी मजबूत सपोर्ट सिस्टम कि जरूरत पड़ती है, जैसे मेरे लिए बुद्धिज्म की प्रैक्टिस।ताहिरा ने कहा कि कैंसर पीड़ित होने के समय में किसी मजबूत सपोर्ट सिस्टम कि जरूरत पड़ती है, जैसे मेरे लिए बुद्धिज्म की प्रैक्टिस।
इसलिए मैंने अपनी मनोदशा ऐसी रखी कि बीमारी को खुद पर हावी नहीं होने दिया।इसलिए मैंने अपनी मनोदशा ऐसी रखी कि बीमारी को खुद पर हावी नहीं होने दिया।
और यह कहना बड़ा अजीब लगता होगा लेकिन मैं अपने इस सफर को सेलिब्रेट करना चाहूंगी और मैंने किया भी।और यह कहना बड़ा अजीब लगता होगा लेकिन मैं अपने इस सफर को सेलिब्रेट करना चाहूंगी और मैंने किया भी।
ताहिरा को सुनने के लिए मिंटाे हॉल पूरी तरह से भरा हुआ था।ताहिरा को सुनने के लिए मिंटाे हॉल पूरी तरह से भरा हुआ था।
कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कैंसर सर्वाइवर पहुंचे और ताहिरा के अनुभव सुने।कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कैंसर सर्वाइवर पहुंचे और ताहिरा के अनुभव सुने।
ताहिरा ने कहा कि हम मुश्किल हालात से निपटकर ही बेहतर इंसान बनते हैं।ताहिरा ने कहा कि हम मुश्किल हालात से निपटकर ही बेहतर इंसान बनते हैं।
ताहिरा ने कहा कि सेहत हो, फाइनेंस हो या रिश्ते हर किसी की जिंदगी में 'ग्रे क्लाउड्स' आते ही हैं।ताहिरा ने कहा कि सेहत हो, फाइनेंस हो या रिश्ते हर किसी की जिंदगी में 'ग्रे क्लाउड्स' आते ही हैं।
मैं बुद्धिज्म को फॉलो करती हूं- जो बताता है कि अगर कोई समस्या आई है तो मुझे कुछ सिखाने आई है।मैं बुद्धिज्म को फॉलो करती हूं- जो बताता है कि अगर कोई समस्या आई है तो मुझे कुछ सिखाने आई है।