यूटिलिटी

बोवेरी फार्मिंग / सेंसर बताता है पौधों को कब कितना पानी-रोशनी चाहिए 

X
दो साल पुराने एग्री स्टार्टअप बोवेरी फार्मिंग ने इनडोर खेती में नई मिसाल कायम की है। खेतों में सामान्य तरीके से जितनी पैदावार होती है, उतनी ही जमीन में यह 100 गुना ज्यादा उत्पादन करता है। इसके लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल किया जाता है।दो साल पुराने एग्री स्टार्टअप बोवेरी फार्मिंग ने इनडोर खेती में नई मिसाल कायम की है। खेतों में सामान्य तरीके से जितनी पैदावार होती है, उतनी ही जमीन में यह 100 गुना ज्यादा उत्पादन करता है। इसके लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल किया जाता है।
यहां सब्जियां सेंसर लगे ट्रेमें उगाई जाती हैं। सेंसर से पता चलता है कि पौधों को कब और कितनी रोशनी, पानी और कार्बन डाई ऑक्साइड की जरूरत है।यहां सब्जियां सेंसर लगे ट्रेमें उगाई जाती हैं। सेंसर से पता चलता है कि पौधों को कब और कितनी रोशनी, पानी और कार्बन डाई ऑक्साइड की जरूरत है।
बोवेरी में अलग तरह से सब्जियों की खेती होती है। कीटनाशकों का बिल्कुल इस्तेमाल नहीं होता है। कंपनी बीज भी खुद तैयार करती है। बोवेरी में अलग तरह से सब्जियों की खेती होती है। कीटनाशकों का बिल्कुल इस्तेमाल नहीं होता है। कंपनी बीज भी खुद तैयार करती है। 
कंपनी का दावा है कि यह ऑर्गेनिक खेती से भी बेहतर है। हालांकि इसकी कोई स्वतंत्र पुष्टि नहीं हुई है। गूगल और उबर के सीईओ दारा खोस्रोशाही ने हाल ही बोवेरी में 650 करोड़ रुपए निवेश किए हैं।कंपनी का दावा है कि यह ऑर्गेनिक खेती से भी बेहतर है। हालांकि इसकी कोई स्वतंत्र पुष्टि नहीं हुई है। गूगल और उबर के सीईओ दारा खोस्रोशाही ने हाल ही बोवेरी में 650 करोड़ रुपए निवेश किए हैं।
यहां का वातावरण इस तरह से नियंत्रित किया गया है कि सीजन का असर नहीं पड़ता है। सूर्य  की रोशनी के बदले एलईडी लाइट का इस्तेमाल किया जाता है।यहां का वातावरण इस तरह से नियंत्रित किया गया है कि सीजन का असर नहीं पड़ता है। सूर्य  की रोशनी के बदले एलईडी लाइट का इस्तेमाल किया जाता है।
खाद, पानी, रोशनी की जितनी जरूरत होती है उतनी ही देते हैं। सामान्य खेती की तुलना में यहां 95% कम पानी की जरूरत पड़ती है। यहां कोई भी सब्जी पूरे साल उगाई जा सकती है और पोधों की रोपाई रोबोट के जरिए होती है।खाद, पानी, रोशनी की जितनी जरूरत होती है उतनी ही देते हैं। सामान्य खेती की तुलना में यहां 95% कम पानी की जरूरत पड़ती है। यहां कोई भी सब्जी पूरे साल उगाई जा सकती है और पोधों की रोपाई रोबोट के जरिए होती है।
COMMENT