यूटिलिटी

#CES / 52 सालों में इन 23 इनोवेटिव प्रोडक्ट्स ने सुर्खियां बटोरी

X
यह एक इलेक्ट्रोमैकेनिकल डिवाइस था। इसमें लगे रिमूवेबल मैग्नेटिक टैप वीडियो कैसेट में टीवी या अन्य सोर्स के एनालॉग ऑडियो-वीडियो को रिकॉर्ड कर उन्हें वापस देखा-सुना जा सकता था।यह एक इलेक्ट्रोमैकेनिकल डिवाइस था। इसमें लगे रिमूवेबल मैग्नेटिक टैप वीडियो कैसेट में टीवी या अन्य सोर्स के एनालॉग ऑडियो-वीडियो को रिकॉर्ड कर उन्हें वापस देखा-सुना जा सकता था।
इस प्लेयर को लेजर डिस्क में स्टोर वीडियो (एनालॉग) और ऑडियो (एनालॉग/डिजिटल) को प्ले करने के लिए डिजाइन किया गया था। लेजर डिस्क बाजार में आई पहली ऑप्टिकल डिस्क थी। सबसे पहले इसे एमसीए डिस्को विजन द्वारा पेश किया था।इस प्लेयर को लेजर डिस्क में स्टोर वीडियो (एनालॉग) और ऑडियो (एनालॉग/डिजिटल) को प्ले करने के लिए डिजाइन किया गया था। लेजर डिस्क बाजार में आई पहली ऑप्टिकल डिस्क थी। सबसे पहले इसे एमसीए डिस्को विजन द्वारा पेश किया था।
सीडी प्लेयर को ऑडियो कॉम्पैक्ट डिस्क का डेटा प्ले करने के लिए बनाया गया था। यह होम स्टीरियो सिस्टम का ही हिस्सा था। इसकी बिक्री 1982 में शुरू हुई। इसे घर में इस्तेमाल होने वाले म्यूजिक सिस्टम समेत कार के ऑडियो सिस्टम, पर्सनल कम्प्यूटर में भी जमकर इस्तेमाल किया गया।सीडी प्लेयर को ऑडियो कॉम्पैक्ट डिस्क का डेटा प्ले करने के लिए बनाया गया था। यह होम स्टीरियो सिस्टम का ही हिस्सा था। इसकी बिक्री 1982 में शुरू हुई। इसे घर में इस्तेमाल होने वाले म्यूजिक सिस्टम समेत कार के ऑडियो सिस्टम, पर्सनल कम्प्यूटर में भी जमकर इस्तेमाल किया गया।
कैमकोर्डर को वास्तव में वीडियो कैमरा और वीडियो कैसेट रिकॉर्डर को मिलकर तैयार किया गया था। सबसे पहले टैप बेस्ड कैमकोर्डर बाजार में आए जिसमें मैग्नेटिक टैप में वीडियो रिकॉडिंग की जाती थीं। 2006 के आते-आते इसमें डिजिटल रिकॉर्डिंग की शुरुआत हुई।कैमकोर्डर को वास्तव में वीडियो कैमरा और वीडियो कैसेट रिकॉर्डर को मिलकर तैयार किया गया था। सबसे पहले टैप बेस्ड कैमकोर्डर बाजार में आए जिसमें मैग्नेटिक टैप में वीडियो रिकॉडिंग की जाती थीं। 2006 के आते-आते इसमें डिजिटल रिकॉर्डिंग की शुरुआत हुई।
डिजिटल सैटेलाइट सिस्टम को सैटेलाइट टेलीविजन ट्रांसमिशन के एक्सपेंशन के तौर पर भी जाना जाता है। इसके आने के बाद दुनियाभर में डीटीएच सेवाएं काफी पॉपुलर हुई, जो आज भी रोजाना नए नए इनोवेशन हो रहे हैं।डिजिटल सैटेलाइट सिस्टम को सैटेलाइट टेलीविजन ट्रांसमिशन के एक्सपेंशन के तौर पर भी जाना जाता है। इसके आने के बाद दुनियाभर में डीटीएच सेवाएं काफी पॉपुलर हुई, जो आज भी रोजाना नए नए इनोवेशन हो रहे हैं।
डीवीडी को डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क स्टोरेज फॉर्मेट है। इसमें सीडी की तुलना में हाई स्टोरेज कैपेसिटी मिलती है। इसमें किसी भी तरह डेटा स्टोर किया जा सकता था, जिसमें सॉफ्टवेयर, कम्प्यूटर फाइल्स समेत ऑडियो-वीडियो शामिल हैं।डीवीडी को डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क स्टोरेज फॉर्मेट है। इसमें सीडी की तुलना में हाई स्टोरेज कैपेसिटी मिलती है। इसमें किसी भी तरह डेटा स्टोर किया जा सकता था, जिसमें सॉफ्टवेयर, कम्प्यूटर फाइल्स समेत ऑडियो-वीडियो शामिल हैं।
एचडी टीवी में हाई डेफिनेशन में पिक्चर क्वालिटी मिलती है। यह स्टैंडर्ड टीवी से अधिक क्लीयर और डिटेल क्वालिटी प्रदान करती है। रेगुलर टीवी की तुलना में इसमें 5 गुना ज्यादा पिक्सल मिलते हैं। 2000 में इसने दुनियाभर में ख्याति प्राप्त की।एचडी टीवी में हाई डेफिनेशन में पिक्चर क्वालिटी मिलती है। यह स्टैंडर्ड टीवी से अधिक क्लीयर और डिटेल क्वालिटी प्रदान करती है। रेगुलर टीवी की तुलना में इसमें 5 गुना ज्यादा पिक्सल मिलते हैं। 2000 में इसने दुनियाभर में ख्याति प्राप्त की।
यह डिजिटल ब्रॉडकास्ट का ही प्रकार है। सैटेलाइट रेडियो, रेगुलर रेडियो की तुलना में अधिक क्लीयर और स्थिरता से ऑडियो सिग्नल ट्रांसमिट करते हैं। यह ग्राउंड बेस स्टेशन से अंतरिक्ष में मौजूद एक से अधिक सैटेलाइट को सिग्नल भेजने का काम करते हैं।यह डिजिटल ब्रॉडकास्ट का ही प्रकार है। सैटेलाइट रेडियो, रेगुलर रेडियो की तुलना में अधिक क्लीयर और स्थिरता से ऑडियो सिग्नल ट्रांसमिट करते हैं। यह ग्राउंड बेस स्टेशन से अंतरिक्ष में मौजूद एक से अधिक सैटेलाइट को सिग्नल भेजने का काम करते हैं।
एक्सबॉक्स माइक्रोसॉफ्ट की वीडियो गेम ब्रांड है। इसी के जरिए माइक्रोसॉफ्ट ने गेमिंग इंडस्ट्री में कदम रखा था। इसके जरिए कंपनी ने सोनी और सेगा जैसे दिग्गज कंपनियों को चुनौती दी थी।एक्सबॉक्स माइक्रोसॉफ्ट की वीडियो गेम ब्रांड है। इसी के जरिए माइक्रोसॉफ्ट ने गेमिंग इंडस्ट्री में कदम रखा था। इसके जरिए कंपनी ने सोनी और सेगा जैसे दिग्गज कंपनियों को चुनौती दी थी।
प्लाज्मा टीवी, टेलीविजन डिस्प्ले टेक्नोलॉजी का ही एक प्रकार है। इसमें स्क्रीन पर हर पिक्सल को प्लाज्मा ( यानी चार्ज्ड गैस) द्वारा प्रकाशित किया जाता है। एलसीडी की तुलना में प्लाज्मा टीवी में भी बेहतर विजिबिलिटी मिलती है।प्लाज्मा टीवी, टेलीविजन डिस्प्ले टेक्नोलॉजी का ही एक प्रकार है। इसमें स्क्रीन पर हर पिक्सल को प्लाज्मा ( यानी चार्ज्ड गैस) द्वारा प्रकाशित किया जाता है। एलसीडी की तुलना में प्लाज्मा टीवी में भी बेहतर विजिबिलिटी मिलती है।
सीडी और डीवीडी की तरह ब्लू-रे डिस्क भी एक तरह का डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क डेटा स्टोरेज फॉर्मेट है। इसमें डीवीडी की तुलना में कई घंटा का एचडी वीडियो स्टोर किया जा सकता है। इसे सिर्फ ब्लू-रे डिस्क प्लेयर में ही चलाया जा सकता है।सीडी और डीवीडी की तरह ब्लू-रे डिस्क भी एक तरह का डिजिटल ऑप्टिकल डिस्क डेटा स्टोरेज फॉर्मेट है। इसमें डीवीडी की तुलना में कई घंटा का एचडी वीडियो स्टोर किया जा सकता है। इसे सिर्फ ब्लू-रे डिस्क प्लेयर में ही चलाया जा सकता है।
एचडी रेडियो इन-बैंड ऑन-चैनल डिजिटल रेडियो टेक्नोलॉजी है जो एएम और एफएम रेडियो स्टेशन्स के लिए इस्तेमाल की जाती है। रेगुलर रेडियो की तुलना में एचडी रेडियो न सिर्फ ऑडियो क्वालिटी देता है बल्कि इसकी रेंज भी ज्यादा होती है। इसे ज्यादातर यूरोपियन देशों में इस्तेमाल किया जाता है।एचडी रेडियो इन-बैंड ऑन-चैनल डिजिटल रेडियो टेक्नोलॉजी है जो एएम और एफएम रेडियो स्टेशन्स के लिए इस्तेमाल की जाती है। रेगुलर रेडियो की तुलना में एचडी रेडियो न सिर्फ ऑडियो क्वालिटी देता है बल्कि इसकी रेंज भी ज्यादा होती है। इसे ज्यादातर यूरोपियन देशों में इस्तेमाल किया जाता है।
आईपी टेलीविजन (आईपीटीवी) इंटरनेट प्रोटोकॉल (आईपी) नेटवर्क पर टेलीविजन कंटेंट की डिलीवरी करती है। यह पारंपरिक स्थलीय, उपग्रह और केबल टेलीविजन फॉर्मेट से काफी अलग है। यह यूजर को कही भी और कभी भी वीडियो-ऑडियो कंटेंट देखने-सुनने की सुविधा देता है।आईपी टेलीविजन (आईपीटीवी) इंटरनेट प्रोटोकॉल (आईपी) नेटवर्क पर टेलीविजन कंटेंट की डिलीवरी करती है। यह पारंपरिक स्थलीय, उपग्रह और केबल टेलीविजन फॉर्मेट से काफी अलग है। यह यूजर को कही भी और कभी भी वीडियो-ऑडियो कंटेंट देखने-सुनने की सुविधा देता है।
सीईएस में एपल ने अपने फर्स्ट जनरेशन आईफोन को पेश किया। जिसके ठीक बाद जून 2007 में इसे अमेरिकी बाजार में लॉन्च किया गया। हालांकि एक साल बाद कंपनी इसे बनाना बंद कर दिया गया था। फोन के कुल 61 लाख यूनिट बिके थे। फोन में सिर्फ 128 एमबी रैम थी।सीईएस में एपल ने अपने फर्स्ट जनरेशन आईफोन को पेश किया। जिसके ठीक बाद जून 2007 में इसे अमेरिकी बाजार में लॉन्च किया गया। हालांकि एक साल बाद कंपनी इसे बनाना बंद कर दिया गया था। फोन के कुल 61 लाख यूनिट बिके थे। फोन में सिर्फ 128 एमबी रैम थी।
ओएलईडी एक टेलीविजन डिस्प्ले टेक्नोलॉजी है जो ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड की विशेषताओं पर आधारित है। इसमें दो कंडक्टर के बीच एक पतली ऑर्गेनिक फिल्म लगी होती है और जैसे ही इसमें करंट का प्रभाव शुरू होते है, यह ब्राइट लाइट का उत्सर्जन करती है।ओएलईडी एक टेलीविजन डिस्प्ले टेक्नोलॉजी है जो ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड की विशेषताओं पर आधारित है। इसमें दो कंडक्टर के बीच एक पतली ऑर्गेनिक फिल्म लगी होती है और जैसे ही इसमें करंट का प्रभाव शुरू होते है, यह ब्राइट लाइट का उत्सर्जन करती है।
सीईएस में पहली बार हाई डेफिनेशन 3D टीवी को पेश किया गया। यह आम टेलीविजन सेट से बिल्कुल अलग था। इसमें स्टीरियोस्कोपिक डिस्प्ले, मल्टी-व्यू डिस्प्ले जैसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया था। 3D टीवी में कंटेंट देखने के लिए एक खास चश्मे का इस्तेमाल करना होता है।सीईएस में पहली बार हाई डेफिनेशन 3D टीवी को पेश किया गया। यह आम टेलीविजन सेट से बिल्कुल अलग था। इसमें स्टीरियोस्कोपिक डिस्प्ले, मल्टी-व्यू डिस्प्ले जैसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया था। 3D टीवी में कंटेंट देखने के लिए एक खास चश्मे का इस्तेमाल करना होता है।
2010 में पहली बार सीईएस में कई कंपनियों ने एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम पर बेस्ड डिवाइस पेश किए। इसे अलावा शो में टैबलेट और नोटबुक का भी जलवा रहा। टैबलेट जहां फोन की तुलना में काफी बड़ा होता है वहीं नोटबुक, लैपटॉप का ही एक प्रकार है।2010 में पहली बार सीईएस में कई कंपनियों ने एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम पर बेस्ड डिवाइस पेश किए। इसे अलावा शो में टैबलेट और नोटबुक का भी जलवा रहा। टैबलेट जहां फोन की तुलना में काफी बड़ा होता है वहीं नोटबुक, लैपटॉप का ही एक प्रकार है।
पहली बार दुनिया के सामने ऐसी टीवी पेश की गई जिसमें इंटरनेट इस्तेमाल करने की आजादी मिली। इस टीवी में यूजर को सोशल मीडिया प्लेटफार्म समेत इंटरनेट एक्सेस करने की सुविधा मिली।पहली बार दुनिया के सामने ऐसी टीवी पेश की गई जिसमें इंटरनेट इस्तेमाल करने की आजादी मिली। इस टीवी में यूजर को सोशल मीडिया प्लेटफार्म समेत इंटरनेट एक्सेस करने की सुविधा मिली।
2013 में ड्राइवर लेस तकनीक से लोगों को रूबरू कराया गया। इस तकनीक में कार किसी ड्राइवर नहीं बल्कि सेंसर और ऑर्टिफिशियल इंटेलीजेंस तकनीक की मदद के चलती है। इसे ऑटोनोमस व्हीकल, रोबो कार और कनेक्टेड व्हीकल भी कहा जाता है।2013 में ड्राइवर लेस तकनीक से लोगों को रूबरू कराया गया। इस तकनीक में कार किसी ड्राइवर नहीं बल्कि सेंसर और ऑर्टिफिशियल इंटेलीजेंस तकनीक की मदद के चलती है। इसे ऑटोनोमस व्हीकल, रोबो कार और कनेक्टेड व्हीकल भी कहा जाता है।
2014 तक आते-आते 3D प्रिटिंग तकनीक का विकास हो चुका था। इस तकनीक के जरिए थ्री-डायमेंशनल ऑब्जेक्ट एक खास प्रकार के प्रिंटर से बनाए जाने लगे। यह आम प्रिंटर से बिल्कुल अलग है। इसमें इंक की बजाए अलग-अलग सीमेंट, प्लास्टिक जैसे कई मटेरियल का इस्तेमाल किया सकता है।2014 तक आते-आते 3D प्रिटिंग तकनीक का विकास हो चुका था। इस तकनीक के जरिए थ्री-डायमेंशनल ऑब्जेक्ट एक खास प्रकार के प्रिंटर से बनाए जाने लगे। यह आम प्रिंटर से बिल्कुल अलग है। इसमें इंक की बजाए अलग-अलग सीमेंट, प्लास्टिक जैसे कई मटेरियल का इस्तेमाल किया सकता है।
वियरेबल टेक्नोलॉजी का विकास भी इसी साल से शुरू हुआ। कई कंपनियों ने ऐसे डिवाइस पेश किए जिन्हें पहना जा सकता है। यह डिवाइस यूजर की हर गतिविधियों को न सिर्फ ट्रैक करती है बल्कि कही चूक होने पर उन्हें अलर्ट भी करती है।वियरेबल टेक्नोलॉजी का विकास भी इसी साल से शुरू हुआ। कई कंपनियों ने ऐसे डिवाइस पेश किए जिन्हें पहना जा सकता है। यह डिवाइस यूजर की हर गतिविधियों को न सिर्फ ट्रैक करती है बल्कि कही चूक होने पर उन्हें अलर्ट भी करती है।
वर्चुअल रियलिटी एक तरह की कम्प्यूटर तकनीक है, जिसके जरिए आभासी वातावरण को तैयार करना मुमकिन हुआ। इसे तैयार करने के लिए खास हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की मदद ली जाती है। इसमें एक हेलमेट नुमा डिवाइस होता है जिसे पहनकर यूजर को आभासी दुनिया में होने का एहसास होता है।वर्चुअल रियलिटी एक तरह की कम्प्यूटर तकनीक है, जिसके जरिए आभासी वातावरण को तैयार करना मुमकिन हुआ। इसे तैयार करने के लिए खास हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की मदद ली जाती है। इसमें एक हेलमेट नुमा डिवाइस होता है जिसे पहनकर यूजर को आभासी दुनिया में होने का एहसास होता है।
एचडी, ओएलईडी टीवी के बाद अब फ्रेम लेस टीवी बाजार में डेब्यू करने की तैयारी में हैं। सैमसंग जैसी कंपनी अपनी पहली ट्रूली बेजल लेस स्मार्ट टीवी बाजार में उतारने की तैयारी में है। इसमें थोड़ा सा भी फ्रेम दिखाई नहीं देगा। इसे फोटो फ्रेम की तरह भी इस्तेमाल किया जा सकेगा।एचडी, ओएलईडी टीवी के बाद अब फ्रेम लेस टीवी बाजार में डेब्यू करने की तैयारी में हैं। सैमसंग जैसी कंपनी अपनी पहली ट्रूली बेजल लेस स्मार्ट टीवी बाजार में उतारने की तैयारी में है। इसमें थोड़ा सा भी फ्रेम दिखाई नहीं देगा। इसे फोटो फ्रेम की तरह भी इस्तेमाल किया जा सकेगा।