• Hindi News
  • Politics
  • Rajasthan Congress Gujarat Team; Ashok Gehlot, Govind Singh Dotasara, Dharmendra Rathor

राठौड़ को गुजरात चुनावों की टीम से भी हटाया:नोटिस पाने वाले तीनों नेताओं को राहुल की यात्रा की तैयारियां करने वाली कमेटी में भी जगह नहीं

जयपुर2 महीने पहलेलेखक: उपेंद्र शर्मा

राहुल गांधी की यात्रा की तैयारियों में जुटी कांग्रेस पार्टी और सरकार के भीतर एक बड़ी कार्रवाई कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंंद सिंह डोटासरा ने शुक्रवार देर रात को की। यह कार्रवाई सीएम निवास में यात्रा को लेकर सीएम गहलोत और डोटासरा की मौजूदगी में हुई कांग्रेसजनों की बैठक के बाद की गई। सूत्रों का कहना है कि डोटासरा की इस कार्रवाई के पीछे आलाकमान का एक खास संदेश छिपा हुआ है। यह कार्रवाई 25 सितंबर को राजस्थान में 92 विधायकों के इस्तीफे, उस दौरान तीन नेताओं द्वारा हुई अनुशासनहीनता की घटना और हाल ही प्रदेश प्रभारी अजय माकन के इस्तीफे से सीधी जुड़ी हुई है।

राजनीतिक हलकों में इसे अनुशासनहीनता करने पर नोटिस पाए तीनों नेताओं यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल, जलदाय मंत्री महेश जोशी और आरटीडीसी के चैयरमेन धर्मेन्द्र राठौड़ के खिलाफ कार्रवाई के रूप में देखा जा रहा है। डोटासरा ने राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की तैयारियों के लिए सीएम गहलोत सहित 34 सदस्यों की जो कमेटी बनाई है, उसमें धारीवाल, जोशी और राठौड़ को कोई जगह नहीं दी गई है। तीनों को कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई है। प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा ने इस कमेटी की घोषणा करते हुए बताया कि राहुल गांधी की यात्रा को सफल बनाने के लिए सभी को निर्देश दे दिए गए हैं।

राहुल गांधी अभी अपनी यात्रा के दौरान महाराष्ट्र में हैं। वे राजस्थान में सात जिलों की 17 विधानसभा सीटों से गुजरने वाले हैं। राजस्थान में कांग्रेस सरकार और पार्टी दोनों के स्तर पर तैयारियां शुरू हो गई हैं। इसके लिए एक कमेटी भी बना दी गई है।
राहुल गांधी अभी अपनी यात्रा के दौरान महाराष्ट्र में हैं। वे राजस्थान में सात जिलों की 17 विधानसभा सीटों से गुजरने वाले हैं। राजस्थान में कांग्रेस सरकार और पार्टी दोनों के स्तर पर तैयारियां शुरू हो गई हैं। इसके लिए एक कमेटी भी बना दी गई है।

यूडीएच मंत्री धारीवाल के चुनाव क्षेत्र कोटा से तो यात्रा को गुजरना भी है, फिर भी न धारीवाल को राजस्थान में रूट के निरीक्षण से जोड़ा गया और ना ही उन्हें महाराष्ट्र भेजा गया। यही स्थिति जलदाय मंत्री जोशी की है। कोटा के साथ हाडौती क्षेत्र के दूसरे जिले बारां से मंत्री प्रमोद जैन भाया और जोशी के मंत्री-प्रभार क्षेत्र वाले जिले भीलवाड़ा से मंत्री रामलाल को न केवल रूट निरीक्षण, महाराष्ट्र जाने वाली टीम और अब 34सदस्यों की टीम में भी स्थान दिया गया है।

राठौड़ का नाम ना होना चौंकाने वाला फैसला

34 सदस्यों की टीम में आरटीडीसी चैयरमेन राठौड़ का नाम न होना बहुत चौंकाने वाला फैसला है। ऐसा इसलिए क्योंकि राठौड़ ने हाल ही झालावाड़ से लेकर अलवर तक यात्रा के सारे रूट का निरीक्षण किया था। वे राजस्व मंत्री रामलाल जाट और खान मंत्री प्रमोद जैन भाया के साथ टीम में थे।

रूट का पूरी तरह से निरीक्षण करने के बाद यह टीम महाराष्ट्र जाकर राहुल गांधी से मिलकर भी आई थी। तब टीम का नेतृत्व प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने किया था। राठौड़ भी टीम में शामिल थे। राठौड़ इस यात्रा की तैयारियों में फ्रंट लीड पॉजिशन में थे, लेकिन अब 34 सदस्यों की शीर्ष टीम में उन्हें जगह नहीं दी गई है। दूसरी ओर राजस्व मंत्री रामलाल जाट और खान मंत्री प्रमोद जैन भाया को टीम में भोजन, टैंट, प्रशासन आदि की व्यवस्था से जुड़ी जिम्मेदारियां दी गई हैं।

रघु शर्मा ने राठौड़ को गुजरात से भी हटाया

राठौड़ को गुजरात चुनावों में कांग्रेस ने अहमदाबाद क्षेत्र की जिम्मेदारी सौंपी हुई थी। राठौड़ ने 25 सितंबर की घटना के बाद राठौड़ ने आज तक वहां पार्टी की कोई बैठक तक नहीं ली। राठौड़ को हाल ही गुजरात के प्रदेश प्रभारी डॉ. रघु शर्मा ने बदल दिया है। शर्मा ने चार दिन पहले राठौड़ के बजाए तैलंगाना कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कुसुम कुमार को अहमदाबाद क्षेत्र की जिम्मेदारी सौंप दी है। अब कुमार यह जिम्मेदारी निभाएंगे। धारीवाल और जोशी का नाम गुजरात में जिम्मेदारी पाने वाले राजस्थान के अन्य नेताओं में पहले से ही शामिल नहीं था।

माकन ने अपने इस्तीफे में उठाया था यह मुद्दा

राजस्थान में कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने जो इस्तीफा राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को सौंपा है, उस में भी माकन ने अनुशासनहीनता करने वाले नेताओं पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं होने। उन्हें राहुल की यात्रा की तैयारियों से जोड़ने पर अपनी नाराजगी जाहिर की थी। सोशल मीडिया में भी राठौड़ की एक फोटो जो गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष विजय बैंसला के साथ थी, को लेकर भी हंगामा मचा हुआ था। बैंसला ने राहुल की यात्रा को राजस्थान में प्रवेश नहीं करने की धमकी दी हुई है। माकन के इस्तीफे से पहले ही यह मुद्दा राजस्थान के राजनीतिक हलकों में चर्चा में था कि राठौड़ को क्यों यात्रा के रूट निरीक्षण से जोड़ा हुआ है।

आरटीडीसी के चैयरमेन धर्मेन्द्र राठौड़ (साफे में)। सीएम गहलोत के करीबी लोगों में से एक माने जाते हैं राठौड़। उन्हें राज्य सरकार से मंत्री का दर्जा प्राप्त है।
आरटीडीसी के चैयरमेन धर्मेन्द्र राठौड़ (साफे में)। सीएम गहलोत के करीबी लोगों में से एक माने जाते हैं राठौड़। उन्हें राज्य सरकार से मंत्री का दर्जा प्राप्त है।

राठौड़ गिने जाते हैं गहलोत के सबसे खास लोगों में

राठौड़ को सीएम गहलोत के सबसे करीबी और खास लोगों में से गिना जाता है। कांग्रेस में आने से पहले वे कर्मचारी नेता के रूप में जाने जाते थे। गहलोत से करीबी के चलते उन्हें गहलोत ने मंत्री का दर्जा देकर आरटीडीसी का चैयरमेन बनाया हुआ है। इससे पहले भी गहलोत ने उन्हें अपनी पिछली सरकार 2008 से 2013 के बीच भी मंत्री का दर्जा देकर राजस्थान बीज निगम का अध्यक्ष बनाया हुआ था। आरटीडीसी को राजस्थान के टॉप बोर्ड-निगम-कॉर्पोरेशन में गिना जाता है। राठौड़ से पहले गहलोत ने इस बोर्ड का चैयरमेन राजीव अरोड़ा और रणदीप धनखड़ को बनाया हुआ था।

इनपर है भारत जोड़ो यात्रा की जिम्मेदारी

इस सूची में प्रदेश प्रभारी (अजय माकन-अभी इस्तीफा मंजूर नहीं हुआ), प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, सीएम अशोक गहलोत सहित सचिन पायलट, जुबेर खान, गोविंदराम मेघवाल, रामलाल जाट, प्रमोद जैन भाया, धीरज गुर्जर, डॉ. चंद्रभान, डॉ. रघु शर्मा, हरीश चौधरी, रामेश्वर लाल डूडी, भंवर सिहं भाटी, लालचंद कटारिया, मुमताज मसीह, भजन लाल जाटव, अशोक चांदना, प्रताप सिंह खाचरियावास, हेमाराम चौधरी, ममता भूपेश, परसादी लाल मीणा, ललित तूनवाल, रघुवीर मीणा, भंवर जितेन्द्र सिंह, कुलदीप इंदौरा, महेन्द्रजीत सिंह मालवीय, महेन्द्र चौधरी, डॉ. बी. डी. कल्ला, डॉ. गिरिजा व्यास, नारायण सिंह, आर. सी. चौधरी, राम सिहं कस्वा और स्वर्णिम चतुर्वेदी शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...