• Hindi News
  • Politics
  • Mallikarjun Kharge; Rajasthan Congress Crisis | Shanti Dhariwal Mahesh Joshi Dharmendra Rathore

दिवाली बाद फूट सकता है राजस्थान में सियासी 'बम':खड़गे 26 के बाद संभालेंगे कांग्रेस अध्यक्ष का पद; उसके बाद धारीवाल, जोशी और राठौड़ पर होगा फैसला

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
25 सितंबर को विधायकों से रायशुमारी करने प्रदेश प्रभारी अजय माकन के साथ मल्लिकार्जुन खड़गे भी बतौर पर्यवेक्षक जयपुर आए थे। - Dainik Bhaskar
25 सितंबर को विधायकों से रायशुमारी करने प्रदेश प्रभारी अजय माकन के साथ मल्लिकार्जुन खड़गे भी बतौर पर्यवेक्षक जयपुर आए थे।

प्रदेश कांग्रेस की सियासत पर होने वाले फैसलों पर एक सप्ताह का समय और बढ़ गया है। वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव तो जीत गए हैं, लेकिन इसका प्रमाण पत्र उनको 26 अक्टूबर को मिलेगा। इसको लेकर दिल्ली में एक बड़े आयोजन की तैयारी भी चल रही है। खड़गे के अधिकृत तौर पर कुर्सी संभालने के बाद ही राज्य के विषय को लेकर कोई फैसला आगे बढ़ेगा। अनुशासन समिति भी अपनी रिपोर्ट इसके बाद ही सौपेंगी।

खड़गे की रिपोर्ट पर ही जारी किया था नोटिस, अब वही करेंगे फैसला

राष्ट्रीय सोनिया गांधी को मल्लिकार्जुन खड़गे ने ही पूरी रिपोर्ट दी थी। 25 सितंबर को जयपुर में जो भी घटनाक्रम हुआ। उनकी रिपोर्ट के आधार पर ही अनुशासन समिति के सदस्य सचिव तारिक अनवर ने शांति धारीवाल, महेश जोशी एवं धर्मेंद्र राठौड़ को नोटिस जारी किया था। तीनों ही नेता इसको लेकर अपना जबाव पार्टी को भेज चुके हैं। अब अनुशासन समिति की रिपोर्ट पर नवनिर्वाचित अध्यक्ष खड़गे को ही फैसला करना है।

बयानबाजी जारी; दिव्या ने धारीवाल, जोशी व राठौड़ पर फिर बोला हमला

संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की एडवाइजरी के बावजूद पार्टी नेताओं की बयानबाजी जारी है। खासकर, सबसे ज्यादा मुखर ओसियां विधायक दिव्या मदेरणा ने एक बार फिर यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल, चीफ व्हिप महेश जोशी एवं आरटीडीसी के चेयरमैन धर्मेंद्र राठौड़ पर तंज कसा है।

दरअसल, नवनिर्वाचित कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को बधाई देने यह तीनों नेता भी दिल्ली पहुंचे थे। मदेरणा ने इसको लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट में लिखा कि ‘काबा किस मुंह से जाओगे ‘गालिब’, शर्म तुम को मगर नहीं आती। मतलबी दुनिया के रंग हैं। बैरंग लौटाने वाले रंगीन फूलों के गुलदस्ता देते हुए यह सर्वोच्च अवसारवाद है।’ गत 25 सितंबर को विधायकों से रायशुमारी करने प्रदेश प्रभारी अजय माकन के साथ वरिष्ठ नेता खड़गे भी बतौर पर्यवेक्षक यहां आए थे। इसको लेकर भी दिव्या ने लिखा कि समय पर फेर देखिए। खड़गे के बुलाने पर यह मिलने भी नहीं गए। और अब तीनों उन्हें बधाई देने पहुंचे।

खबरें और भी हैं...