अबोहर

  • Hindi News
  • Punjab News
  • Abohar
  • पंजाब सरकार के योजना कार्यों की अदायगी न करने पर ठेकेदारों में रोष
--Advertisement--

पंजाब सरकार के योजना कार्यों की अदायगी न करने पर ठेकेदारों में रोष

पंजाब सरकार के खिलाफ ठेकेदारों में भारी रोष है। उन्होंने सरकार के खिलाफ संघर्ष करने की चेतावनी दी है। मुक्तसर,...

Dainik Bhaskar

Mar 13, 2018, 02:05 AM IST
पंजाब सरकार के योजना कार्यों की अदायगी न करने पर ठेकेदारों में रोष
पंजाब सरकार के खिलाफ ठेकेदारों में भारी रोष है। उन्होंने सरकार के खिलाफ संघर्ष करने की चेतावनी दी है। मुक्तसर, मलोट, अबोहर व गिद्दड़बाहा क्षेत्र के पंजाब राज्य मंडी बोर्ड से संबंधित ठेकेदारों ने सुखदेव सिंह की अध्यक्षता में एक बैठक के दौरान बताया कि प्रधानमंत्री योजना के तहत किए कार्यों की एक हजार करोड़ रुपए की अदायगी पंजाब सरकार पर बकाया है। अदायगी न मिलने के कारण ठेकेदारों के काम बीच में रुके पड़े है। जसकरन सिंह मुक्तसर, प्रदीप धूडिय़ा, दविंदर सिंह सरां, टोनी सिंगला, राज कुमार व मसा सिंह ने बताया कि केन्द्र सरकार ने 23 दिसंबर 2017 को पंजाब सरकार को 318 करोड़ रुपए की रकम प्रधानमंत्री योजना के तहत किए कार्यों के बदले ठेकेदारों को अदा करने के लिए भेजी थी। केन्द्र सरकार ने यह तीन सप्ताह में उपयोग की हिदायत करते चेतावनी दी थी कि अगर पंजाब सरकार ने यह रकम तीन सप्ताह में न उपयोग की तो इस पर पंजाब सरकार को ब्याज अदा करना पड़ेगा। ठेकेदारों ने रोष जाहिर किया कि केन्द्र सरकार के आए हुए पैसे भी पंजाब सरकार ने ठेकेदारों को नहीं दिए।

कहा-विकास काम लटके

उन्होंने बताया कि गोनियाना, बधाई व मुक्तसर बस स्टैंड से जलालाबाद बाईपास सहित कई अन्य कार्यों के पैसों की कमी के कारण बीच में लटके पड़े है। इसी तरह पंजाब सरकार द्वारा टेंडर की शर्तों में जीएसटी का कोई जिक्र नहीं किया गया जाता, परंतु अदायगी करते समय 12 प्रतिशत जीएसटी काट लिया जाता है, जिसका ठेकेदारों को निजी तौर पर घाटा सहना पड़ता है।

इसी तरह सीमेंट, रेता, ईंटें आदि मटीरियल के सरकारी रेट पुराने ही चल रहे हैं, जबकि मार्केट में यह रेट बहुत ज्यादा बढ़ गए है सरकार मार्केट के अनुसार रेट तय नहीं कर रही। इसी तरह माइनिंग पर सख्ती होने के कारण माइनिंग के ठेकेदारों द्वारा निर्धारित रेटों से अधिक भाव पर रेता बजरी दिया जा रहा है और सरकार इस संबंध में मूक दर्शक बनी बैठी है। इसी तरह पंजाब मंडी बोर्ड द्वारा ठेकेदारों से 1 प्रतिशत लेबर सैस व ईपीएफ काटा जा रहा है, जबकि इसके बदल उन्हें कोई रियायत नहीं दी जा रही। ठेकेदारों ने पंजाब सरकार की इन नीतियों के खिलाफ सख्त रोष जाहिर करते कहा कि अगर सरकार ने ठेकेदारों की रहती अदायगी जल्द न दी व सरकारी रेट मार्केट के बराबर न किए तो वह सरकार के खिलाफ संघर्ष करने के लिए मजबूर होंगे। इस अवसर पर मनजीत सिंह, सुरेन्द्र सिंह, संदीप सिंह, दर्शन सिंह, नगिंदरपाल सिंह, पंकज सिंह, संदीप, यादव बिल्डर्स, गोपाल दास, जसकरन सिंह अबोहर, नरेश वलेचा, शिव कुमार व दिनेश कुमार मौजूद थे।

पंजाब सरकार के खिलाफ रोष जाहिर करते हुए ठेकेदार।

X
पंजाब सरकार के योजना कार्यों की अदायगी न करने पर ठेकेदारों में रोष
Click to listen..