पंजाब / आंख पर पट्‌टी बांध पराली से तैयार किए 400 कलाकृतियां, मुख्यमंत्री ने घर सजाने के लिए खरीदे



अभिषेक कुमार चौहान । अभिषेक कुमार चौहान ।
X
अभिषेक कुमार चौहान ।अभिषेक कुमार चौहान ।

  • 550वें प्रकाश पर्व पर सुल्तानपुर लोधी में पटियाला के कलाकार अभिषेक ने प्रदर्शनी लगाई थी
  • मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अभिषेक कुमार चौहान के काम की तारीफ की, कहा- यह पराली का अच्छा विकल्प है

Dainik Bhaskar

Nov 14, 2019, 12:32 PM IST

सुल्तानपुर लोधी.  पराली से कलाकृतियां बनाने की वजह से एक कलाकार इन दिनों सुखियों में है। वे यह कलाकृतियां आंखों पर पट्टी बांधकर बनाते हैं। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी इनके काम की तारीफ की है। दरअसल, पिछले दिनों अभिषेक कुमार ने गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर सुल्तानपुर लोधी में पराली से बनी कलाकृतियों की एक प्रदर्शनी लगाई थी। अमरिंदर सिंह इसे देखने के लिए पहुंचे थे। उन्होंने इन्हें अपने घर को सजाने के लिए भी खरीदा।

 

अभिषेक कुमार चौहान पटियाला जिला के राजपुरा के रहने वाले हैं। बढ़ते प्रदूषण की वजह से दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में पराली जलाना एक मुद्दा बना हुआ है। इस वजह से भी अभिषेक के इस काम को लोगों ने सराहा। उन्होंने कहा कि इसी तरह के और भी आइडिया पर काम किया जा सकता है। ताकि किसान इसे जलाने से बचें।

 

400 स्थानों के स्कूलों-कालेजों में प्रदर्शनी लगाई
अभिषेक नेत्रहीन बच्चों को भी इस कला का गुर सिखा रहे हैं। ताकि वह किसी पर बोझ नहीं बनें। अभिषेक ने सुल्तानपुर लोधी में 5 नवंबर से शताब्दी समागम को लेकर प्रदर्शनी लगाई है। वह 15 नवंबर तक सुल्तानपुर लोधी में ही रुकेंगे। इससे पहले वह हरियाणा, हिमाचल, राजस्थान आदि 400 स्थानों के स्कूलों-कालेजों में अपनी कला की प्रदर्शनी लगा चुका है।

 

अपने दादा से सीखे थे गुर
अभिषेक कुमार ने कहा, "बहुत कम लोगों को पता है कि पराली से कई वस्तु तैयार हो सकती है। उसके दादा राम चंद हाथों से घास, पराली आदि की कलाकृति आंखों पर पट्‌टी बांध कर तैयार करते थे। 2015 में वह ग्रेजुएशन कर घर में ही थे। एक दिन उसके दादा ने उसके सामने घास से कलाकृति तैयार की। उसने दादा से यह काम सीख लिया। गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव के मौके पर यह अभिषेक की 401वीं प्रदर्शनी है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना