सिटी सर्किल में 7 मीटर रीडरों, सुपरवाइजरों ने छोड़ा काम, कई मुलाजिम और लाइन में

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:25 AM IST

Amritsar News - स्टेट पावर कारपोरेशन ने लोगों की सुविधा के लिए आॅन द स्पाॅट बिजली बिल देने का ठेका कर्नाटका की कंपनी को एक साल पहले...

Amritsar News - 7 meter readers in the city circle supervisors left work many children and in line
स्टेट पावर कारपोरेशन ने लोगों की सुविधा के लिए आॅन द स्पाॅट बिजली बिल देने का ठेका कर्नाटका की कंपनी को एक साल पहले दिया था। कंपनी की तरफ से रखे मीटर रीडरों ने अब तक करीब 55 सौ के करीब लोगों के बिजली बिलों में एन कोड डाले हंै। इसकी एवज में पावरकॉम की तरफ से कंपनी को करीब 2 लाख का जुर्माना लगाया है।

एग्रीमेंट को पूरा न करने पर सिटी सर्किल के एक्सईएन गुरुमुख सिंह, टीपी सिंह, मनदीप सिंह बमराह और सिमरपाल सिंह और एसई बाल किशन ने मीटर रीडरों पर सख्ती बरती। इस कारण 7 मीटर रीडर और 3 सुरपवाइजरों ने काम छोड़ दिया है, जबकि कई छोड़ने के मूड में हैं। कंपनी ने भी इनकी स्पोर्ट नहीं की।

उपभोक्ता के घर का बिल बनाते समय रीडिंग में डाला जाता है ‘एन’ कोड

पावरकॉम की मानंे तो कंपनी के साथ हुए एग्रीमेंट में वीट मैप में उपभोक्ता के घर का पता और लोकेशन होती है, परंतु कुछ मीटर रीडर ऐसे हैं जिन्हें उपभोक्ता के घर की लोकेशन पता नहीं चलती और वह मीटर रीडिंग नहीं ली जाती। जब वह कंप्यूटर में उपभोक्ता का बिल बनाते हैं, तो रीडिंग डालते हंै तो एन कोड डल जाता है। पावरकॉम के मुताबिक अगर कंपनी के कर्मचारी एन कोड डाल देती है तो उनके एवज में पाॅवरकाम कंपनी से एक यूनिट बिजली के जितने रुपए बनते हैं उसे डबल चार्ज करती है। इससे उपभोक्ता को ज्यादा बिल का भुगतान करना पड़ता है जो कि सही नहीं है। इसलिए ही सख्ती की है।

मीटर रीडरों ने डेड मीटर का डी कोड डाला : मीटर रीडरों ने उपभोक्ता को परेशान करने के लिए बिना वजह मीटर डेड का डी कोड डाला है। अधिकारियों ने जब मीटरों की जांच की तो मीटर ठीक पाए गए। इसके कारण पावरकॉम अधिकारियों को सख्ती करनी पड़ी। मीटर रीडिंग कम आने पर पी कोड, मीटर का नंबर मैच न करने पर एफ कोड, मीटर डेड का डी कोड, एल कोड का मतलब घर लॉक है। मीटर बदली करने पर सी कोड, मीटर की जगह बदलने पर ए कोड, नंगे तार और जोड़ पर एच, मीटर बक्से की सील टूटी है तो बी कोड, मीटर का शीशा टूटा है तो जी कोड, मीटर की टर्मीनेटर प्लेट के लिए डब्ल्यू

काम ठीक नहीं होने पर जुर्माना लगाया : एसई

एग्रीमेंट पूरा न होने पर सख्ती की है। मीटर रीडरों ने कई उपभोक्ता के एन कोड डाले हैं। इस कारण ही कंपनी को विभाग ने जुर्माना लगाया है। बाल किशन, एसई

गलत काम बर्दाश्त नहीं

गलत काम करने वाले मीटर रीडरों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। तीन सुपरवाइजर और कुछ मीटर काम छोड़ गए हैं। नए रीडरों घरों का पता नहीं चल रहा। एन कोड कंप्यूटर डालते हैं। ये मीटर नहीं डालते हैं। नए मीटर रीडर रखे गए हैं। संदीप, फ्लू एंड ग्रिड कंपनी प्रोजेक्ट मैनेजर

X
Amritsar News - 7 meter readers in the city circle supervisors left work many children and in line
COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543