--Advertisement--

ये हैं 2017 की हाइलाइट्स, देखें प्रमुख सफलताएं और कुछ असफलताएं

2017 में ही देश का सबसे ऊंचा तिरंगा फहराया गया था।

Dainik Bhaskar

Dec 29, 2017, 07:03 AM IST
2014 highlights in amritsar

अमृतसर, 2018 शुरू होने में कुछ ही दिन बाकी हैं इसलिए भास्कर आज आपको 2017 की हाइलाइट्स के बारे में बता रहा हैं। 2017 में ही देश का सबसे ऊंचा तिरंगा फहराया गया था।

हेिरटेज स्ट्रीट ने बढ़ाई शहर की शान

दरबार साहिब के निकट वजूद में आई हेरिटेज स्ट्रीट में आकर ऐसा लगता है जैसे हम किसी दूसरे विकासशील देश में घूम रहे हों। इस स्ट्रीट में सभी नई और पुरानी इमारतों को एक जैसा हेरिटेज लुक प्रदान किया गया है। रात के वक्त तो हेरिटेज स्ट्रीट और भी खूबसूरत लगने लगती है। दरअसल अकाली दल के प्रधान और पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर बादल ने ही हेरिटेज स्ट्रीट की कल्पना को साकार किया है। हर रोज दरबार साहिब में माथा टेकने आने वाले हजारों पर्यटक हेिरटेज स्ट्रीट में भी अब काफी समय व्यतीत करते हैं। अधिकांश पर्यटक यहां अपने मोबाइल फोन्स पर सेल्फियां खींच कर साथ ले जाते हैं। इसने शहर की शान में इजाफा किया है।

दुनिया का इकलौता पार्टीशन म्यूजियम दुनिया का इकलौता पार्टीशन म्यूजियम

साल 2017 अमृतसर के लिए वह ऐतिहासिक साल रहा, जिसने देश के बंटवारे का प्रतिनिधित्व करने वाला दुनिया का इकलौता पार्टीशन म्यूजियम दिया। पूर्व मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल के इस ड्रीम प्रोजेक्ट पर 9 करोड़ रुपए लागत आई है। पाकिस्तान से लगती अटारी सीमा से 32 किमी की दूरी पर स्थित इस म्यूजियम में भारत-पाक बंटवारे के दौरान मारे गए और उजड़े लोगों की यादें, धरोहरें, अखबारी कतरनें, डाक्यूमेंट्री फिल्म, दस्तावेज आदि इतना कुछ है कि इसे देख कर ही सामने वाला बंटवारे की पीड़ा को महसूस कर सकता है। इस म्यूजियम का संचालन द आर्ट एंड कल्चरल हेरिटेज ट्रस्ट करता है। टाउन हाल स्थित इस इमारत में 14 गैलरियां हैं, जिसके चप्पे-चप्पे पर बंटवारे की यादें संजोयी गई हैं। 17 अगस्त 2017 को इसका उद्घाटन वर्तमान मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और टूरिज्म मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू ने किया था।

बीआरटीएस प्रोजेक्ट फेल बीआरटीएस प्रोजेक्ट फेल

पिछली गठबंधन सरकार की ओर से 600 करोड़ की लागत से बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के तहत दिसंबर 2016 को शुरू किया गया बीआरटीएस प्रोजेक्ट इस साल की सबसे बड़ी असफलता रही है। वर्तमान में पैसों की कमी के कारण सरकार पिछले कई महीनों से कुल 66 में से सिर्फ 9 बसें ही चल रही है। इनमें सवारियों भी कभी-कभार ही दिखती हैं। इनके हालात भी ये हैं कि कभी इनके लिए डीजल खत्म हो जाता है तो कभी कर्मचारी वेतन न मिलने के कारण हड़ताल पर चले जाते हैं। बीआरटीएस प्रोजेक्ट शुरू से ही सवालों में रहा है।

अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर कैट-3बी सिस्टम शुरू अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर कैट-3बी सिस्टम शुरू

13 अक्टूबर को राजासांसी स्थित श्री गुरु रामदास जी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर कैट-3 बी सिस्टम लगने से सर्दियों और खराब मौसम में यहां फ्लाइटों को लैंड कराना आसान हो गया है। इससे पहले सर्दियों में सुबह और रात को आने वाली ज्यादातर फ्लाइटें रद्द ही रहती थीं, वहीं दिन में भी उड़ानें प्रभावित होती थीं। कैट-3 के चलते 
रन-वे पर अब विजिबिलिटी 50 मीटर तक है, जिसमें 
घरने कोहरे में भी पायलट आसानी से फ्लाइट को लैंड करवा सकता है। इससे पहले कैट-2 बी सिस्टम में विजीबिल्टी 500 मीटर थी। 

नहीं चल सका अर्बन हाट नहीं चल सका अर्बन हाट

सालों से खाली पड़े गुरु तेग बहादुर अस्पताल, जिसे लोग विक्टोरिया जुबली (वीजे) अस्पताल के नाम से ज्यादा जानते हैं, में 11 करोड़ रुपए की लागत से अर्बन हाट बनाया गया। इसमें फूड स्ट्रीट और क्राफ्ट बाजार का भी निर्माण होना था, जहां लोग शहर के मशहूर पकवानों का लुत्फ उठाते और हाथ से बनी परंपरागत वस्तुओं की खरीदारी करते।  मगर 2013 में देखा गया अर्बन हाट का सपना इस साल टूट गया। इस प्रोजेक्ट के लिए पिछले टेंडर मांगे गए 
थे। यहां सिर्फ दो दुकानें खुली, लेकिन ग्राहकों की कमी के कारण  वह भी बंद हो गईं। अब यहां की दीवारें गंदी हो चुकी हैं और हाट में कूड़ा-कर्कट बिखरा रहता है।

अमृतसर-नांदेड़ फ्लाइट शुरू अमृतसर-नांदेड़ फ्लाइट शुरू

23 दिसंबर को सिख धर्म के दो तख्त सीधी हवाई उड़ान से जुड़ गए, जब एयर इंडिया ने अमृतसर से नांदेड़ के लिए सीधी फ्लाइट शुरू कर दी। इस फ्लाइट का सालों से इंतजार किया जा रहा था। यह फ्लाइट पहले मुंबई से उड़ान भर कर अमृतसर पहुंचती है फिर नांदेड़ के लिए उड़ती है और फिर उसी दिन नांदेड़ से वापस आकर शाम को मुंबई वापस चली जाती है। इस उड़ान के शुरू होने से सिख संगत में खुशी पाई जा रही है। मुंबई के साथ व्यापार करने वाले कारोबारी भी सीधी उड़ान को एक सहूलियत के तौर पर ले रहे हैं। 

लंगर खा रहे लोगों पर चढ़ाई क्रूज; 3 की मौत, 10 जख्मी लंगर खा रहे लोगों पर चढ़ाई क्रूज; 3 की मौत, 10 जख्मी

9 जुलाई की रात आठ बजे अटारी बाइपास पर गुरुद्वारा डेरा बाबा दर्शन सिंह कुल्ली वाले के पास एक तेज रफ्तार क्रूज गाड़ी ने पहले ओवरटेक करते हुए आई-20 कार को टक्कर मारी। आई-20 क्रूज के साथ ही घसीटते हुए गई और आगे जाकर डिवाइर पर चढ़ गई। वहीं क्रूज सड़क किनारे लोगों खा रहे लोगों पर चढ़ गई। हादसे में 3 लोगों की मौत हो गई, जबकि 10 लोग जख्मी हो गए थे।

उद्घाटनी पत्थर पर नहीं लिखा किसी नेता का नाम उद्घाटनी पत्थर पर नहीं लिखा किसी नेता का नाम

21 जुलाई को बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (बीआरटीएस) के तहत तीन माह से तैयार पड़े वेरका फ्लाईओवर को जनता के समर्पित किया गया था। वहीं पहली बार उद्घाटनी पत्थर पर किसी नेता या अधिकारी का नाम अंकित करवाने की जगह ‘फ्लाईओवर को जनता को समर्पित’ लिखा गया था। उद्घाटन निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने किया था और उन्होंने नाम न लिखने को कैप्टन सरकार की सोच बताया था। 

देेश का सबसे ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज फहराया देेश का सबसे ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज फहराया

पांच मार्च को अटारी बाॅर्डर पर देश का सबसे ऊंचा तिरंगा झंडा फहराया गया। इम्प्रूवमेंट ट्रस्ट की ओर से करीब एक साल के अंदर साढ़े 3 करोड़ की लागत से इस प्रोजेक्ट को तैयार किया गया था। यह झंडा 357 फीट ऊंचे पोल पर फहराया गया था। इसकी लंबाई 120 फीट, चौड़ाई 80 फीट थी। हालांकि बाद में यह झंड फट गया। अब यहां फिर से नया झंडा फहराए जाने की तैयारियां चल रही हैं।

X
2014 highlights in amritsar
दुनिया का इकलौता पार्टीशन म्यूजियमदुनिया का इकलौता पार्टीशन म्यूजियम
बीआरटीएस प्रोजेक्ट फेलबीआरटीएस प्रोजेक्ट फेल
अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर कैट-3बी सिस्टम शुरूअंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर कैट-3बी सिस्टम शुरू
नहीं चल सका अर्बन हाटनहीं चल सका अर्बन हाट
अमृतसर-नांदेड़ फ्लाइट शुरूअमृतसर-नांदेड़ फ्लाइट शुरू
लंगर खा रहे लोगों पर चढ़ाई क्रूज; 3 की मौत, 10 जख्मीलंगर खा रहे लोगों पर चढ़ाई क्रूज; 3 की मौत, 10 जख्मी
उद्घाटनी पत्थर पर नहीं लिखा किसी नेता का नामउद्घाटनी पत्थर पर नहीं लिखा किसी नेता का नाम
देेश का सबसे ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज फहरायादेेश का सबसे ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज फहराया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..