--Advertisement--

5 बच्चों को कपड़े उतरवाकर 3 किमी. घुमाया और मारे घूंसे, इस बात की दी थी सजा

दलित परिवार होने के कारण पहले मामले को दबा दिया गया।

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2018, 05:50 AM IST
बिना कपड़ों के 5 बच्चे, जिन्हें सजा दी गई। बिना कपड़ों के 5 बच्चे, जिन्हें सजा दी गई।

अमृतसर. 5 दलित बच्चों को खेत से दो मूलियां तोड़ने की ऐसी सजा- तीन किलोमीटर तक कपड़े उतरवाकर घुमाया, मुक्कों और थप्पड़ों से पीटा भी। इतना ही नहीं, बच्चों के कपड़े भी जमींदार लेकर भाग गया। घटना सोमवार की है और उस दिन बारिश के कारण ठंड काफी थी। मामला सोमवार का था लेकिन दलित परिवार होने के कारण पहले मामले को दबा दिया गया। ये है मामला...

- बताते हैं कि आरोपी के पिता ने भी पीड़ित परिवार को मामला पुलिस तक नहीं ले जाने को कहा था। परिवार भी डरा हुआ था।

- इसी बीच घटना की वीडियो सोशल मीडिया में चलने लगी तो पुलिस हरकत में आई।

- पुलिस के समझाने के बाद पीड़ित परिवार की शिकायत पर आरोपी जिंमीदार शुभराम पाल सिंह उर्फ लाटी के खिलाफ चाइल्ड प्रोटेक्शन एक्ट के अंतर्गत मामला दर्ज कर लिया है। लेकिन आरोपी लाटी मामला पुलिस तक पहुंचने के बाद से ही फरार हो गया है।

पतंग लूटने को खेत में गए थे बच्चे

- बच्चे साहिलदीप ने बताया कि वे लोग अपने घरों की छत पर पतंग उड़ा रहे थे। सोमवार को बारिश के बाद हवा चल रही थी। उनकी पतंग टूटी और खेत में चली गई।

- वह अपने 4 चचेरे भाइयों विजयप्रीत (12), जोगिंदर सिंह (13), दलजीत सिंह (12) और जतिंदर सिंह (9) के साथ खेतों में पतंग छुड़ाने चले गए।

- पतंग छुड़ाने के बाद दो बच्चों ने दो मूलियां ले लीं। अभी वे खेत से बाहर निकले ही थे कि मोपेड पर जमींदार लाटी आ गया, उसने गालियां दीं तो वे डर से भागने लगे।

- काफी दूर जाने के बाद लाटी ने पकड़ लिया और पहले मुक्के से मारे फिर कपड़े उतार दिए और करीब 3 किलोमीटर तक उन्हें घुमाया।

- एक व्यक्ति ने रास्ते में बच्चों को कच्छे में आते देखा तो उसने बात की फिर वीडियो बना दी। ठंड में ठिठुरता देख उसने उन्हें अपनी शॉल दी और घर छोड़कर आया।

एसजीपीसी ने दिए जांच के आदेश

- गांव साेहियां कलां में अमृतधारी बच्चों को कपड़े उतरवाकर पीटने के मामले में एसजीपीसी ने जांच के आदेश दिए हैं। एसजीपीसी प्रवक्ता दलजीत सिंह बेदी ने कहा कि रिपोर्ट के बाद एक्शन लेंगे।

मामला दर्ज, छापेमारी जारी

- मोहित कुमार, SHO के मुताबिक फैमिली शिकायत देने को तैयार नहीं थी, समझाने के बाद शिकायत दी है। मामला लाटी के खिलाफ दर्ज कर लिया गया है और छापेमारी की जा रही है।

किसी राहगीर ने बच्चों को दिया कंबल। किसी राहगीर ने बच्चों को दिया कंबल।
X
बिना कपड़ों के 5 बच्चे, जिन्हें सजा दी गई।बिना कपड़ों के 5 बच्चे, जिन्हें सजा दी गई।
किसी राहगीर ने बच्चों को दिया कंबल।किसी राहगीर ने बच्चों को दिया कंबल।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..