--Advertisement--

6 फीट गहरे कढ़ाहे में 75 हजार लोगों के लिए तैयार होती है प्रसादी, लगता है इतना सामान

सामान को 90 किलो भार के घोटने से घोटा जाता है।

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 01:31 AM IST
इस कढ़ाहे में तैयार होती है प्रसादी। इस कढ़ाहे में तैयार होती है प्रसादी।

आनंदपुर साहिब. गुरुद्वारा शहीदी बाग में संगत ने आज प्रसाद ग्रहण किया। बता दें कि इस प्रसाद को 8 फीट लंबे और 6 फीट गहरे कड़ाहे में तैयार किया जाता है, उसमें एक बार में ही करीब 75 हजार संगत (लोगों) के लिए प्रसाद तैयार हो जाता है। प्रसाद बनाने के लिए करीब चार घंटे का समय लगता है।

- दिन में करीब 3 बार प्रसाद तैयार किया जाता है।
- पिछले 40 साल से 3 लोग मिलकर ही यहां पर सेवा करते हैं और प्रसादी तैयार करते हैं।

इतना सामान डाला जाता है
- 7 क्विंटल चीनी
- 7 हजार लीटर पानी
- 50 किलो खसखस
- 50 लीटर दूध
- 10 किलो लौंग-इलायची
- 10 किलो बादाम गिरी
- 10 किलो काली मिर्च।

घोटने का भार
- इस सारे सामान को 90 किलो भार के घोटने से घोटा जाता है।
- इसके बाद तैयार होने पर होला महल्ला के पर्व पर नतमस्तक होने आई संगत को खुले हाथों से बांटा जाता है।

कढ़ाही की लंबाई 8 फीट है। कढ़ाही की लंबाई 8 फीट है।
कढ़ाहे की गहराई 6 फीट है। कढ़ाहे की गहराई 6 फीट है।
कढ़ाहे में बनने वाली प्रसादी को 75 हजार लोग एक साथ ग्रहण कर सकते हैं। कढ़ाहे में बनने वाली प्रसादी को 75 हजार लोग एक साथ ग्रहण कर सकते हैं।