--Advertisement--

60 साल की उम्र में सिर पर बांधी 723 मीटर की पगड़ी, हाथ में पहनते हैं 20 Kg के कड़े

धर्म प्रचार के लिए वो 45 किलो वजनी दुमाला रोजाना सजाते हैं और बुलेट भी चलाते हैं।

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 07:19 AM IST
निहंग अवतार सिंह निहंग अवतार सिंह

फतेहगढ़ साहिब. सिख आम तौर पर 5 से 8 मीटर तक की पगड़ी बांधते हैं। लेकिन शहीदी जोड़ मेल में श्रद्धांजलि देने पहुंचे निहंग अवतार सिंह ने 723 मीटर दुमाला सजाया। जबकि निहंग सिंह की उम्र 60 साल है। उनके दुमाले की लंबाई ओलंपिक साइज स्विमिंग पुल से 15 गुना ज्यादा है, जबकि वजन 45 किलो से ज्यादा है।

निहंग सिंह को ये दुमाला सजाने में 6 घंटे से ज्यादा का समय लग जाता है और उतारने में भी 2 घंटे लग जाते हैं। अवतार सिंह ने बताया कि देश के युवाओं को दस्तार सजाने को लेकर पिछले कई साल से जागरूक कर रहा हूं। क्योंकि आज कल के नौजवान 5 मीटर की दस्तार बांध कर ही कह देते हैं कि उनका सर दर्द हो रहा है और केस कटवा देते हैं। उन्हें बताना चाहता हूं कि मेरा। निहंग अवतार सिंह विश्व के पहले ऐसे 60 साल के निहंग सिख हैं जो इतना 723 मीटर दुमाला सजाते हैं। धर्म प्रचार के लिए वो 45 किलो वजनी दुमाला रोजाना सजाते हैं और बुलेट भी चलाते हैं। दोनों हाथों में 5-5 कड़े पहनते हैं। इन कड़ों का वजन भी 20 किलो के करीब है।

आज निकालेंगे जत्थे

रस्मी तौर पर यह शहीदी सभा बुधवार को संपन्न हो गई। पर 28 दिसंबर को शहीदी सभा विशेष तौर पर महिलाओं के लिए रहेगी। क्योंकि इस दिन श्रद्धालु गुरुद्वारा श्री फतेहगढ़ साहिब में बने ठंडे बुर्ज गुरुद्वारा साहिब में माता गुजरी जी को अपने श्रद्धासुमन अर्पित करते है। इसके अलावा 28 दिसंबर को निहंग सिंह महान शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित करने के बाद मोहल्ला निकालेंगे तथा निहंग सिंहों के जत्थे अपनी घुड़सवारी व युद्ध कला का प्रदर्शन भी इंजीनियरिंग काॅलेज के खेल मैदान करेंगे तथा जुलूस निकालेंगे। मोहल्ले में घुड़दौड़, गतका, तलवारबाजी सहित युद्धकला के कई हैरत अंगेज करतब निहंग सिंहों द्वारा किए जाते हैं, जिन्हें देखने के लिए भारी भीड़ उमड़ती है।

निहंग दोनों हाथों में 5-5 कड़े पहनते हैं। निहंग दोनों हाथों में 5-5 कड़े पहनते हैं।
निहंग  अक्षय कुमार के साथ। निहंग अक्षय कुमार के साथ।
निहंग के कड़ों का वजन भी 20 किलो के करीब है। निहंग के कड़ों का वजन भी 20 किलो के करीब है।
निहंग धर्म प्रचार के लिए वो 45 किलो वजनी दुमाला रोजाना सजाते हैं और बुलेट भी चलाते हैं। निहंग धर्म प्रचार के लिए वो 45 किलो वजनी दुमाला रोजाना सजाते हैं और बुलेट भी चलाते हैं।
निहंग अवतार सिंह निहंग अवतार सिंह