अमृतसर

--Advertisement--

अमृतसर और जालंधर में भी कांग्रेस भारी वोटों से जीती, पटियाला में कई जगह झड़प

कुल वार्ड 414; 267 पर कांग्रेस, 37 पर शिअद, 15 पर बीजेपी और 94 सीटों पर आजाद कैंडिडेट जीते।

Dainik Bhaskar

Dec 18, 2017, 06:12 AM IST
वार्ड 28 अौर 29 में 11:16 बजे कांग्रेसी उम्मीदवारों के समर्थक डंडे और तलवारें लहराते नजर आए। उन्होंने पहले पोलिंग बूथ के बाहर लगे विरोधियों के टंेट उखाड़े। कई जगह हुई झड़पों में 13 लोग जख्मी हो गए। वार्ड 28 अौर 29 में 11:16 बजे कांग्रेसी उम्मीदवारों के समर्थक डंडे और तलवारें लहराते नजर आए। उन्होंने पहले पोलिंग बूथ के बाहर लगे विरोधियों के टंेट उखाड़े। कई जगह हुई झड़पों में 13 लोग जख्मी हो गए।

पटियाला/ अमृतसर/ जालंधर. सूबे में जिसकी सरकार, शहरों में भी उसी की सत्ता बरकरार। इस बार भी ऐसा ही रिजल्ट आया। पटियाला में सरेआम डंडे-तलवारें लहराई और पुलिस देखती रही। नौ महीने पहले सत्ता में आई कांग्रेस ने 10 साल बाद तीनों नगर निगम जालंधर, अमृतसर और पटियाला में जीत दर्ज की है। इसके अलावा नगर परिषद व नगर पंचायतों पर भी शिअद-भाजपा गठजोड़ का सफाया कर दिया है। महाराजा के शहर पटियाला में तो कांगेस ने 60 में से 59 सीटें जीत ली हैं।

यहां वार्ड 37 की ईवीएम में खराबी के चलते एक बूथ पर दोबारा चुनाव होंगे। वहीं, 29 नगर कौंसिलों व नगर पंचायतों में से 20 पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। इनमें सात नगर कौंसिल और 17 नगर पंचायतें हैं। एक नगर कौंसिल और दो नगर पंचायतों पर कांग्रेस पहले ही निर्विरोध चुनी जा चुकी है। इस चुनाव में आजाद उम्मीदवारों के हिस्से उम्मीद से ज्यादा सीटें आई हैं। वहीं, विपक्षी दल आप पूरी तरह साफ हो गई। पटियाला में कई जगह झड़पें और बूथ कैप्चरिंग की भी शिकायतें लाेगों की हैं।

पटियाला :

कुल 62.22 % वोट पड़े। पोलिंग शुरू होते ही कई कांग्रेसियों ने अकाली-भाजपा उम्मीदवारों के पोलिंग कैंप तक जबरन उखाड़ फेंके। करीब 12 बजे सभी अकाली-भाजपा उम्मीदवारों ने विरोध में बूथ छोड़ दिए थे। इसके बाद अकाली सांसद प्रो. प्रेम सिंह चंदूमाजरा, पूर्व कैबिनेट मंत्री सुरजीत सिंह रखड़ा मिनी सेक्रेटेरिएट के बाहर धरने पर बैठ गए। उन्होंने ने कैप्टन अमरिंदर सिंह पर पुलिस के दम पर चुनाव जीतने के आरोप लगाकर इस चुनाव को रद्द करने की मांग की।

अमृतसर :

2012 चुनावों में कांग्रेस जहां मात्र 6.1 % सीटों पर सिमट गई थी, वहीं इस बार कांग्रेस ने 75.29 % सीटों पर कब्जा किया है। 2012 में अकाली दल ने 25, भाजपा ने 24, सीपीआई ने 1 और आजाद उम्मीदवारों ने 11 पर जीत दर्ज की थी।

जालंधर :

2012 चुनाव में 30 सीटों पर जीत दर्ज करने वाला अकाली-भाजपा गठबंधन इस बार 13 सीटों पर सिमट गया, जबकि कांग्रेस ने अपने पिछले चुनाव के मुकाबले तकरीबन तीन गुने की बढ़त हासिल करने हुए 65 सीटों पर जीत हासिल की। 2012 में कांग्रेस को 22 सीटें मिलीं थीं।

सीएम ने नहीं डाला वोट
मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नगर निगम पटियाला में अपने मताधिकार का इस्तेमाल ही नहीं किया। उनके समर्थक दिन भर उनका इंतजार में रहे। पुलिस व प्रशासन भी उनके आगमन की तैयारी में जुटा था। वहीं उनकी पत्नी पूर्व विधायक परनीत कौर ने वुमन कॉलेज के सेंटर में दोपहर 1 बजे अपना वोट बेटे रणइंद्र के साथ डाला।

कहां से कितनी महिलाएं जीतीं

पटियाला: 59 में से 31 महिलाएं जीतीं
अमृतसर: 85 में से 42 महिलाएं जीतीं
जालंधर: 80 में से 44 महिलाएं जीतीं

X
वार्ड 28 अौर 29 में 11:16 बजे कांग्रेसी उम्मीदवारों के समर्थक डंडे और तलवारें लहराते नजर आए। उन्होंने पहले पोलिंग बूथ के बाहर लगे विरोधियों के टंेट उखाड़े। कई जगह हुई झड़पों में 13 लोग जख्मी हो गए।वार्ड 28 अौर 29 में 11:16 बजे कांग्रेसी उम्मीदवारों के समर्थक डंडे और तलवारें लहराते नजर आए। उन्होंने पहले पोलिंग बूथ के बाहर लगे विरोधियों के टंेट उखाड़े। कई जगह हुई झड़पों में 13 लोग जख्मी हो गए।
Click to listen..