अमृतसर

--Advertisement--

विदेशी टूरिस्ट ने पिता को सिखाया साबुन बनाना, बेटे ने ऐसे दिया 40 को रोजगार

सर्दी में यह साबुन 20 दिन में और गर्मी में 2 महीने में बनता है।

Danik Bhaskar

Mar 05, 2018, 01:00 AM IST

पटियाला. शाही शहर में चल रहे सरस मेले में अलग-अलग देशों की संस्कृति और उनके बनाए गए प्रोडक्ट को लोग हाथों हाथ ले रहे हैं। ऐसा ही एक प्रोडक्ट है हिमालयन सोप। यह केवल हिमाचल के चंबा में बनाया जाता है और हिमाचल के ही बड़े टूरिस्ट प्लेस पर इसकी बिक्री होती है। इसके अलावा यह कहीं नहीं बिकता है। स्पेशल खुशबू वाला यह साबुन अगर आप मंगाना चाहते हैं तो ऑनलाइन ऑर्डर करना होगा। साबुन की खासियत यह है कि इसके बनाने की तकनीक विदेशी टूरिस्ट से सीखी गई थी।

काम सीखने के बाद केवल 5 लोगों को जोड़ा था

- बकौल अजहरुदीन, कैनेडा से चंबा घूमने के लिए चार्लिस रेमजी आए थे। उन्होंने उनके पिता को साबुन बनाने का काम सिखाया।

- पिता जी ने काम सीखने के बाद 5 लोगों को साथ जोड़ा। इसके बाद वह काफी देर तक साबुन की बिक्री करते रहे।

- बाद में पिता जी ने एक सेल्फ हेल्प ग्रुप बनाया। जिसमें 40 लोगों को शामिल किया। अब यह ग्रुप साबुन तैयार करता है।

यह भी जानें

- अजहरुद्दीन ने बताया कि सर्दी में यह साबुन 20 दिन में और गर्मी में 2 महीने में बनता है।

- सामान चंबा के पहाड़ी इलाकों में मिल जाता है। केवल नारियल तेल ही केरल से मंगवाना पड़ता है।
- अजहरुद्दीन के मुताबिक साबुन मनाली, लेह लद्दाख और धर्मशाला में ही साबुन मिलता है।
- बच्चों के लिए भी शुद्ध देशी साबुन बनाने पर रिर्चस कर रहे हैं। इसके कई तरह के ट्रायल हो चुके हैं।

Click to listen..