--Advertisement--

गगनदीप-शिवनैनी हत्याकांड ही नहीं हुआ खुलासा, तीन और बड़े मामलों में भी पुलिस फेल

शहर में डेढ़ साल में हुई बड़ी वारदातों की फाइलों पर जमी धूल

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2018, 08:11 AM IST
police failed In three major cases

अमृतसर. दर्शन एवेन्यू में रहने वाली शिक्षा विभाग की क्लर्क गगनदीप वर्मा और उनकी बेटी शिवनैनी के कत्ल को एक हफ्ते से ज्यादा समय हो चुका है और पुलिस अभी तक हत्यारों के बारे में कोई सुराग नहीं जुटा पाई है। ये अकेला केस नहीं है जिसे ट्रेस करने में अमृतसर कमिश्नरेट की पुलिस नाकाम रही है, बल्कि शहर में डेढ़ साल के दौरान हुई हत्या की 3 अन्य बड़ी वारदातों में से भी वह किसी को हल नहीं कर पाई। इन मामलों से जुड़ी फाइलें समय के साथ धूल में दबती जा रही हैं। हालांकि डीसीपी जगमोहन सिंह का दावा है कि इन सभी केसों में उनकी टीमें काम कर रही हैं।

पहला केस -अलका हत्याकांड
गुलमोहर एवेन्यू में रहने वाली 25 साल की अलका का 23 जुलाई 2016 की दोपहर उसी के घर में बेरहमी से कत्ल कर दिया गया। उस समय अलका घर में अकेली थी और उसके माता-पिता व भाई-भाभी किसी फंक्शन में गए हुए थे। शाम चार बजे जब वे वापस लौटे तो घर के अंदर अलका की लाश पड़ी थी। हत्यारों ने उसे करंट लगाकर मारा। गुप्तांग में भी किसी नुकीली चीज से वार किए गए थे। पुलिस ने केस दर्ज कर कई लोगों को हिरासत में लिया, मगर नतीजा कुछ नहीं निकला। 4 महीने बाद विस चुनाव आए। केस ठंडे बस्ते में। अगस्त’17 में फाइल दोबारा ओपन कर लोग राउंडअप किए गए, पर आज तक हत्यारे पकड़े नहीं गए।

दूसरा केस : प्रोफेसर सुखप्रीत की किडनैपिंग

जीएनडीयू में हिंदी की असिस्टेंट प्रोफेसर सुखप्रीत कौर 11 सितंबर 2017 को किडनैप हो गई। 5 महीने हो चुके। पुलिस कुछ नहीं कर पाई है। अफसर मानते हैं कि सुखप्रीत का कत्ल कर लाश खुर्द-बुर्द की जा चुकी है, लेकिन उसे किसने और क्यों मारा? इसका जवाब उनके पास नहीं। उनकी जांच खरड़ के युवक गैरी के इर्द-गिर्द घूम रही थी। इसके साथ आखिरी बार सुखप्रीत देखी गई थी। सुखप्रीत के कमरे से मिली चिट्ठी में भी गैरी का जिक्र था, लेकिन गैरी ने महाराष्ट्र पहुंचकर एक गेस्ट हाउस में फंदा लगा लिया। उसके बाद सुखप्रीत की हत्या भी रहस्य बनकर रह गई।

तीसरा केस : विपिन शर्मा हत्याकांड
30 अक्टूबर 2017 को विपिन शर्मा की गोलियां मारकर हत्या की गई। बटाला रोड पर हुई इस वारदात में हत्यारों की फोटो सीसीटीवी में कैद हो गई। खुफिया विंग ने सीसीटीवी फुटेज से हत्यारों की पहचान कर अमृतसर पुलिस को बता दिया कि यह हत्या गैंगस्टर सारज मिंटू व शुभम ने अपने साथियों के साथ मिलकर की है। इस वारदात में शामिल सारज-शुभम के तीन साथी तो गिरफ्तार किए जा चुके हैं, लेकिन साढ़े तीन महीने बाद भी शुभम और सारज पकड़ नहीं गए। इस दौरान दोनों कई बार शहर में आए और गोलियां चलाकर फरार हो गए।

चौथा मामला : मां-बेटी डबल मर्डर

क्लर्क गगनदीप वर्मा और शिवनैनी की 5 फरवरी 2018 की रात घर में घुसकर हत्या की गई। हत्यारों ने गगन की बॉडी पूरी तरह जला दी थी। शिवनैनी के शरीर पर भी कोई कपड़ा नहीं था और उसी बॉडी को भी जलाने का प्रयास किया गया था। हफ्ते से ज्यादा समय हो चुका है। पुलिस कमिश्नर एसएस श्रीवास्तव ने मामले को हल करने के लिए आला अफसरों वाली 3 टीमें बनाई। इन्होंनेे अब तक जितने भी लोग राउंडअप किए, सभी को छोडऩा पड़ा। केस में पुलिस की जांच मुख्यत: मां-बेटी की कॉल डिटेल से क्लू निकालने के इर्द-गिर्द घूम रही है।

X
police failed In three major cases
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..