Hindi News »Punjab »Amritsar» Reduction Of Hotels Fees By 50 Percent

दरबार साहिब के पास बने 215 होटलों की रेगुलाइजेशन फीस 50 फीसदी घटाई

पार्टिशियन म्यूजियम में प्रैस कॉन्फ्रेंस के दौरान किया और कहा कि यह सरकार का कारोबारियों के लिए लोहड़ी का तोहफा है।

bhaskar news | Last Modified - Jan 14, 2018, 04:13 AM IST

  • दरबार साहिब के पास बने 215 होटलों की रेगुलाइजेशन फीस 50 फीसदी घटाई
    डेमोफोटो

    अमृतसर.लोकल बॉडीज मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को दरबार साहिब के आसपास स्थित 215 होटल और गेस्ट हाउसिज की रेगुलाइजेशन फीस 50 फीसदी कम करने की घोषणा की। यह ऐलान उन्होंने शनिवार को पार्टिशियन म्यूजियम में प्रैस कॉन्फ्रेंस के दौरान किया और कहा कि यह सरकार का कारोबारियों के लिए लोहड़ी का तोहफा है।

    उन्होंने कहा कि फीस उन्हें 31 जनवरी तक जमा करवानी होगी। बता दें कि अकाली-भाजपा सरकार के समय में आई पॉलिसी में रेट काफी ज्यादा थे, जिस संबंधी उक्त व्यापारियों ने अप्लाई तो कर दिया था, लेकिन अब आई मौजूदा सरकार से इस फीस को कम करने की मांग की थी। सिद्धू ने ऐलान किया कि इस कंपोजीशन फीस में 25 रुपए वर्ग मीटर तय की गई है, जबकि नॉन कंपाउंडेबल वायलेशन अब आधी कर दी गई है। उन्होंने कहा कि इस संबंधी फेडरेशन आॅफ होटल एंड गेस्ट हाउस के चेयरमैन व अन्य सदस्यों के साथ उनकी कई बार बैठक हुई। सिद्धू ने कहा कि 29 अप्रैल 2016 से पहले आवेदन करने वालों के लिए यह एक और मौका है। इसके तहत चारदीवारी के भीतर होटल व गेस्ट हाउस के मालिक 31 जुलाई 2018 तक वन टाइन स्कीम (ओटीएस) के तहत राज्य सरकार की ओर से इसके लिए निर्धारित नई फीस भर कर अपने संस्थानों को रेगुलराइज करवा सकते हैं।

    फैडरेशन आफ होटल गेस्ट हाउस एसोसिएशन के चेयरमैन हरिंदर सिंह और चीफ पैट्रन जतिंदर सिंह मोटी भाटिया ने बताया कि शहर के अंदरून में 3 या 4 मंजिला होटल और गेस्ट हाउस को रैगुलर करने की जो फीस नगर निगम की तरफ से मालिकों से अभी तक ली जा रही थी, वह होटल की कीमत से भी कहीं ज्यादा बनती थी। इस अवसर पर अश्वनी कुमार पप्पू, योगेद्र पाल ढींगरा, कंवलजीत सिंह, परमिंदर सिंह, बबलू सचदेवा, दविंदर सिंह विरदी आदि उपस्थित थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Amritsar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×