--Advertisement--

पेपर चेक करने को अनुभवी टीचर भेजने से मना करने पर स्कूल की एफिलएशन होगी रद्द

9वीं से 12वीं तक के सभी सब्जेक्ट टीचर्स को बोर्ड के एग्जामिनेशन पोर्टल पर करें रजिस्टर।

Danik Bhaskar | Dec 22, 2017, 06:34 AM IST
डेमोफोटो डेमोफोटो

पटियाला. सीबीएसई बोर्ड एग्जाम में 10वीं अौर 12वीं के पेपर चेक करने का मौका सिर्फ अनुभवी अध्यापकों को दिया जाएगा। आम तौर पर पेपर चेकिंग के लिए एग्जामिनेशन सेंटर्स में ड्यूटी देने के लिए स्कूल अपने रेगुलर और अनुभवी टीचर्स भेजने में आनाकानी करते हैं। वह नॉन रेगुलर और नए टीचर्स को पेपर चेक करने को भेजते हैं।

स्कूलों की मनमर्जी के कारण सेंटर्स में एक तो पेपर चेकिंग में देरी होती है, दूसरा सेंटर्स को स्कूलों द्वारा भेजे नॉन रेगुलर और नए टीचर्स से पेपर चेक कराने के लिए समझौता करना पड़ता है। अब ऐसा नहीं चलेगा। सीबीएसई ने आदेश दिए हैं कि पेपर चेक करने के लिए रेगुलर या अनुभवी अध्यापक भेजने होंगे। ऐसा करने वाले स्कूलों की एफिलिएशन रद्‌द कर दी जाएगी। बोर्ड ने कहा कि सभी स्कूल पक्का करें कि 9वीं से 12वीं तक के सभी सब्जेक्ट टीचर्स को सीबीएसई के एग्जामिनेशन पोर्टल पर रजिस्टर करें ताकि टीचर्स का डाटाबेस बन सके। जिन टीचर्स की ड्यूटी एग्जामिनेशन में बोर्ड लगाएगा, उन्हें तत्काल रूप से रिलीव करें। उन टीचर्स को पहले से आइडेंटिफाई कर लें, जो कि एग्जामिनेशन ड्यूटी वाले टीचर्स की जगह पढ़ाएंगे ताकि एग्जामिनेशन ड्यूटी वाले टीचर्स का फोकस फेयर चेकिंग हो। साथ ही सभी टीचर्स को सीबीएसई की प्री इवेल्युएशन मैंडेटरी ट्रेनिंग में हिस्सा लेना होगा।

बोर्ड ने कहा कि सेंटर द्वारा एग्जाम कंडक्ट कराने से लेकर पेपर चेकिंग तक में एग्जामिनेशन सेंटरों को सहयोग करना होगा। बोर्ड ने सख्त निर्देश देते हुए कहा कि एग्जामिनेशन में फेयर चेकिंग हो सके, इसके लिए हर स्कूल को अपनी अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी। एग्जामिनेशन सेंटरों के साथ सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि एफिलिएशन बायलॉज के सेक्शन 17.2(ए) के मुताबिक अगर कोई स्कूल एडमिशन या एग्जामिनेशन या किसी भी एरिया में गलत व्यवहार करता है तो बोर्ड तत्काल रूप से स्कूल की एफिलिएशन वापस ले सकते हैं।