--Advertisement--

पति गया था मेले में, प्रेमी से मिलकर सास की हत्या कर प्लाट में फेंक दी लाश

महिला ने प्रेमी से मिलकर अपनी ही सास की हत्या कर लाश काे खुर्द-बुर्द करने की नियत से पास के खाली पड़े प्लाट में फेंक दी।

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 07:42 AM IST

अमृतसर. आर्य नगरी में रविवार रात एक महिला ने प्रेमी संग मिलकर अपनी ही सास की हत्या कर लाश काे खुर्द-बुर्द करने की नियत से पास के खाली पड़े प्लाट में फेंक दिया। साेमवार सुबह घटना का पता चलते ही आसपास के लोगाें में हड़कंप मच गया। पुलिस उच्चाधिकारी जांच के लिए मौके पर पहुंचे और मृतका के शव को पोस्टमार्टम के लिए सरकारी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाते हुए जांच शुरू कर दी है।

- आर्य नगरी गली नं. 7 निवासी करीब 60 वर्षीय शारदा देवी पत्नी भीरू राम अपने बेटे दर्शन व बहु सुनीता के पास रहती थी। उसका बेटा पशुओं की खरीद-फरोख्त का कार्य करता था व रविवार काे माघी के मेले में मुक्तसर गया हुआ था। सूत्रों के अनुसार दर्शन की पत्नी सुनीता का पिछले काफी समय से अपने ही चचेरे जेठ के पुत्र प्रवीण कुमार से प्रेम-प्रसंग चल रहा था।

- पति के बाहर हाेने पर सुनीता ने देर रात अपने प्रेमी को घर पर बुलाकर योजनाबद्ध तरीके से अपनी सास शारदा देवी की गला घोंट कर हत्या कर दी। ओर शव को घर से कुछ दूरी पर पड़े खाली प्लाट में फैंक दिया। सोमवार सुबह करीब साढ़े 6 बजे आसपास के लोगों ने जब शव प्लाट में पड़ा देखा तो इलाके में सनसनी फैल गई।

- लोगों ने इसकी सूचना परिजनों को दी तो परिजन शव को घर ले अाए, वहां शाेक पर अाए लाेगाें काे जब मृतका के गले पर निशान देखकर संदेह हुआ ताे उन्होंने इस बात की सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर थाना प्रभारी चंद्रशेखर मौके पर पहुंचें और शव को कब्जे में लेते हुए मामले की सूचना एसपी अमरजीत सिंह व डीएसपी गुरबिंदर सिंह को दी, जिन्होंने मौके पर पहुंच कर घटना का जायजा लिया। पुलिस द्वारा मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है।



आरोपी के खिलाफ दी थी तंग करने की शिकायत
- मृतका शारदा देवी ने थाना नं 2 में पिछले दिनों आरोपी प्रवीण कुमार के खिलाफ उसको बेवजह तंग करने की शिकायत भी दी थी। माना जा रहा है इसका बदला लेने के लिए प्रवीण कुमार ने एेसा किया। प्रवीण कुमार अविवाहित है जबकि सुनीता दो बच्चों की मां है।
- सुनीता इस घटना को अंजाम देने के बाद घर आकर सो गई और सुबह उठकर इस प्रकार नाटक करने लगी जिससे किसी को उस पर संदेह न हो। मृत सास का शव घर पहुंचने पर वह दिखावे के लिए अफसोस के लिए आई महिलाओं में बैठ कर झूठा विलाप भी करती रही। पुलिस अधिकारियों की पूछताछ के दौरान सुनीता ने उन्हें गुमराह करने के लिए कहा कि उसकी सास देर रात करीब 11 बजे कहीं चली गई थी और उसके जाने पर वह सो गई थी।