अमृतसर

--Advertisement--

बर्खास्त सिपाही की मदद से ही जेल तक पहुंचे थे गैंगस्टर्स, वीडियो से हुआ था प्रभावित

पुलिस में सिपाही था और उसे 2009 में एक नशे के मामले में पंजाब पुलिस की नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था।

Dainik Bhaskar

Dec 31, 2017, 06:25 AM IST
With the help of the sacked soldier, the gangsters had reached the prison

नाभा/पटियाला. नाभा जेल ब्रेक मामले में पुलिस को एक और बड़ी सफलता हासिल हुई है। राजपुरा सीआईए स्टाफ ने मनजिंदर सिंह नाम के एक आरोपी को तरनतारन के जंडियाला गुरु से गिरफ्तार किया है। मनजिंदर सिंह पंजाब पुलिस में सिपाही था और उसे 2009 में एक नशे के मामले में पंजाब पुलिस की नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था।

मनजिंदर वही शख्स है जिसने गैंगस्टरों को नकली पुलिस बनने की पूरी ट्रेनिंग ही नहीं दी बल्कि उन्हें पुलिस की वर्दियां और बाकी सामान मुहैया भी कराया था। उसके द्वारा तैयार किए गए जाली वारंट के कारण ही गैंगस्टर जेल के अंदर दाखिल हुए थे। मनजिंदर सिंह प्रेमा लाहौरिया का बुआ का बेटा है। उसके जरिए ही वह नाभा मैक्सिमम सिक्युरिटी जेल में बंद विक्की गौंडर और बाकी गैंगस्टरों के संपर्क में आया था।

बर्खास्त सिपाही मनजिंदर सिंह विक्की गौंडर से प्रभावित है हथियारों का खासा शौक है। उसने एक वीडियो देखी जिसमें विक्की गौंडर और उसके साथी अपने विरोधी की मारपीट कर रहे हैं। इसे देख उसके जेहन में कुछ ऐसे दुश्मनों की याद आई जिनसे वह बदला लेना चाहता था। इसके लिए उसने विक्की गौंडर के गैंग से हाथ मिला लिया। नाभा जेल ब्रेक के बाद गैंगस्टरों को पुलिस की सारी मूवमेंट की जानकारी भी वहीं मुहैया करवा रहा था। इसी कारण पुलिस के बिछाए जाल से गैंगस्टर भाग निकलने में कामयाब होते रहे हैं। रविवार को आरोपी को थाना कोतवाली पुलिस की और से अदालत में पेश किया जाएगा। उसकी गिरफ्तारी से नाभा जेल ब्रेक मामले में पुलिस को कई तरह के नए खुलासे होने की संभावना है।

X
With the help of the sacked soldier, the gangsters had reached the prison
Click to listen..