• Hindi News
  • Punjab
  • Amritsar
  • सेवक मशीनों में चेक जमा करवाने पर खुद ही बढ़ जाती है बिजली बिल की अमाउंट
--Advertisement--

सेवक मशीनों में चेक जमा करवाने पर खुद ही बढ़ जाती है बिजली बिल की अमाउंट

पावरकॉम की ओर से उपभोक्ताओं को बिजली बिल भरने में सुविधा देने के नाम पर शहर में करीब 12 बिल सेवक मशीनें लगाई गई हैं।...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:05 AM IST
पावरकॉम की ओर से उपभोक्ताओं को बिजली बिल भरने में सुविधा देने के नाम पर शहर में करीब 12 बिल सेवक मशीनें लगाई गई हैं। परंतु यह मशीनें अपडेट न होने से चेक द्वारा बिल भरने वालों के लिए मुसीबत बनी हुई हैं। सिस्टम एप्लीकेशन प्रोसेस(सैप) के तहत चलने वाली इन मशीनों में वीरवार सुबह से लेकर शाम तक खराबी रही। इन मशीनों का सिस्टम कभी भी बंद और कभी भी चालू हो जाता। जिस कारण उपभोक्ताओं को लाइनों में कई-कई घंटे खड़ा होना पड़ा।

वहीं बिल सेवक मशीनों में पटियाला हेड ऑफिस से अपडेशन न होने से जो उपभोक्ता अपने बिजली बिल चेक से भरने आए थे, उनका अमाउंट ज्यादा शो हो रहा था। हाल गेट में लगी दो बिल सेवक मशीनों में बिल भरने आए हरमिंदर सिंह ने बताया कि उनका बिल 22,148 रुपए था जिसको भरने के लिए वह घर से चेक में अमाउंट भर कर लाए थे। परंतु जब सेवक मशीन में बिल भरने को आए तो वहां उनका बिल 23 हजार से ऊपर था। जिस कारण उन्हें बिना बिल भरे वापस जाना पड़ा। इसी तरह गेट हकीमां के सतनाम सिंह ने बताया कि उनका बिल 22,268 था परंतु मशीन नका बिल 22,290 बता रही थी। इसी तरह सुल्तानविंड रोड निवासी विक्रमजीत सिंह, रछपाल सिंह और गेट हकीमां से बिल भरने पहुंचे लोगों की बिल सेवक मशीन ज्यादा दिखा रही थी। वहीं कश्मीर एवेन्यू से बिल भरने पहुंची महिला अमनदीप ने बताया कि वह पहले बटाला रोड पर गई। परंतु वहां मशीनों का सिस्टम खराब था। अब उन्हें हाल गेट आना पड़ा परंतु यहां भी वही हाल है। ऐसा ही हाल खंडवाला पश्चिमी मंडल, वेरका, टुंडा तालाब समेत अन्य बिल सेवक मशीनों का रहा।

शहर में इन-इन जगहों पर लगी हैं बिल सेवक मशीनें

पावरकॉम की ओर से शहर में कुल 12 के करीब बिल सेवक मशीनें लगाई गई हैं। इसमें से टुंडा तालाब, घी मंडी, सुल्तानविंड, कचहरी चौक, रणजीत एवेन्यू, घी मंडी, खंडवाला, वेरका, हाल गेट में दो, मजीठा रोड, बेरी गेट में बिल सेवक मशीनें लगाई गई हैं जिसमें शहर के उपभोक्ता अपने बिजली बिल भरते हैं। इसके अलावा बिजली घरों में कैश काउंटर, ऑनलाइन और पेटीएम से बिल भरा जाता है। लेकिन इन मशीनों का फायदा ही क्या, अगर इनका सही इस्तेमाल नहीं हो रहा।

हाल गेट में सेवक मशीन में चेक से बिल भरने आए विक्रमजीत सिंह और राम कुमार।

कोई जानकारी नहीं है


बिल ठीक हो जाएगा


X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..