• Hindi News
  • Punjab
  • Amritsar
  • मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल समेत सरकारी सेहत सेवा से एकसाथ 11 लोग सेवामुक्त
--Advertisement--

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल समेत सरकारी सेहत सेवा से एकसाथ 11 लोग सेवामुक्त

Amritsar News - पहले से ही स्टाफ की कमी से जूझ रहे मेडिकल कॉलेज, गुरु नानक देव अस्पताल, ईएसआई, टीबी अस्पताल जैसे सरकारी सेहत...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 03:05 AM IST
मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल समेत सरकारी सेहत सेवा से एकसाथ 11 लोग सेवामुक्त
पहले से ही स्टाफ की कमी से जूझ रहे मेडिकल कॉलेज, गुरु नानक देव अस्पताल, ईएसआई, टीबी अस्पताल जैसे सरकारी सेहत संस्थानों से वित्त वर्ष के आखिर में अधिकारियों और मुलाजिमों की थोक के रूप में सेवामुक्ति हुई है। वैसे तो यहां पर पहले से ही 40 फीसदी स्टाफ कम है और अब होने वाली सेवामुक्ति से कामकाज और भी प्रभावित होगा।

31 मार्च को सेवामुक्त होने वालों में मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. तेजवीर सिंह, मेडिसिन विभाग के मुखी डॉ. निरंकार सिंह नेकी तथा माइक्रो लेबोरेटरी की डॉ. पुष्पा के नाम शामिल हैं। इसके अलावा गुरु नानक देव अस्पताल से एमएलटी ग्रेड-1 प्रकाश सिंह बादल, ग्रेड-2 से जसवंत सिंह, सुखदेव सिंह, वार्ड सिस्टर गुरमीत कौर, ओटीए शिशपाल, ईएसआई अस्पताल की रजवंत कौर, सुरिंदर सिंह तथा टीबी अस्पताल की दर्जा चार मुलाजिम बीरो भी सेवामुक्त हुईं। इनको मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. सुरिंदर पाल सिंह की अगुवाई में विदाई पार्टी भी दी गई। विदाई पार्टी में तालमेल कमेटी पैरा मेडिकल एवं सेहत कर्मचारी यूनियन के नेता प्रेम चंद, नरिंदर सिंह, जतिन शर्मा, सविंदर सिंह भट्टी और नरिंदर बुट्टर, रवि कुमार, कमल कन्नौजिया आदि खास रूप से शामिल हुए। उपरोक्त मुलाजिम नेताओं ने कहा कि सरकारी मेडिकल कॉलेज में पहले ही स्टाफ की कमी है और अब इतने लोगों के सेवामुक्त होने से वर्कलोड और बढ़ेगा तथा सेवाएं प्रभावित होंगी। इन लोगों का कहना है कि सरकार तरक्की देकर खाली होते पदों को भरे और कच्चे मुलाजिमों को भी पक्का करे ताकि काम को सुचारू रूप से चलाया जाए सके।

बताते चलें कि मेडिकल कॉलेज में 53.6 प्रतिशत टीचिंग स्टाफ कम है। 16 सुपर स्पेशिएलिटी विभागों में तो 85 प्रतिशत टीचिंग स्टाफ नहीं है। कॉलेज में एमबीबीएस सीटों को बढ़ा कर 150 से 200 कर दिया गया है, लेकिन खाली पदों को नहीं भरा गया। कॉलेज में प्रोफेसर रैंक की बात करें तो यहां सुपर स्पेशिएलिटी विभागों को मिलाकर 77 पोस्टें हैं, जिनमें 36 खाली हैं। एसोसिएट प्रोफेसर्स के कुल 91 पदों में से 62 खाली हैं। असिस्टेंट प्रोफेसर के 145 पदों में 70 खाली हैं।

गुरु नानक देव अस्पताल के सफाई मुलाजिमों की बात करें तो 609 सफाई मुलाजिमों के मंजूरशुदा पदों में से अब 182 खाली हैं। हालांकि छह और नई इमारतें बनाई गई हैं। नई इमारतों में अलग से 350 के सफाई मुलाजिमों की जरूरत है। वर्तमान में 959 मुलाजिमों का काम 427 को करना पड़ रहा है।

सेवामुक्त हुए मुलाजिम को विदाई देने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें उनके कामों की सराहना की गई।

X
मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल समेत सरकारी सेहत सेवा से एकसाथ 11 लोग सेवामुक्त
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..